हाथ पकड़ने पर बखेड़ा, निकाह करने की जिद पर अड़ी युवती

थाना प्रभारी सरधना लक्ष्मण वर्मा ने कहा कि लड़की और उसके परिजन निकाह के लिए तैयार थे, लेकिन लड़का पक्ष तैयार नहीं था। गांव के कुछ जिम्मेदार लोग थाने आए थे। वह दोनों पक्षों को समझा बुझाकर गांव ले गए।

By: Nitish Pandey

Published: 06 Oct 2021, 03:36 PM IST

मेरठ. उत्तर प्रदेश के मेरठ जिले के सरधना थाना इलाके में एक बंजारा जाति के एक लड़के ने अपनी ही जाति की लड़की का हाथ पकड़ लिया। इसके बाद से लड़की उस लड़के के साथ निकाह करने की जिद पर अड़ी हुई है। लड़की के घर वाले भी लड़की की शादी उसी लड़के से कराने की जिद पर हैं। पंचायत हुई और फिर मौलाना को भी बुलाया गया, लेकिन लड़के ने कबूल है, नहीं बोला। मामला थाने पहुंचा, वहां पर भी फैसला नहीं हो सका।

यह भी पढ़ें : बीजेपी महानगर अध्यक्ष ने खोया आपा, छत की सीलिंग तोड़ने की बात कह रिश्तेदार को दी गंदी-गंदी गालियां

हाथ पकड़ने पर बखेड़ा

लड़की सोमवार दोपहर किसी काम से जाने के लिए घर से निकली थी। रास्ते में लड़के ने लड़की का हाथ पकड़ लिया। जिस पर लड़की ने शोर मचाया। लड़की की शोर सुनकर भीड़ इकठ्ठा हो गई। लड़की ने कहा कि लड़के ने उसका हाथ पकड़ा है तो वो उसी से निकाह करेगी। जानकारी होने पर परिजन भी मौके पर पहुंच गए। हंगामा होता रहा, कोई निर्णय नहीं हो पाया तो रात में पंचायत हुई। पंचायत में लड़की के परिजन भी निकाह के लिए तैयार हो गए। लेकिन लड़के के परिजनों ने निकाह से इंकार कर दिया।

पंचायत में भी नहीं बनी बात

पंचायत के बाद पंचों ने निकाह के लिए मौलाना को भी बुला लिया। पंचों के मौजूदगी में मौलाना ने लड़के और लड़की को निकाह कबूल है कहने को कहा। लड़की ने तो कह दिया, लेकिन लड़के ने निकाह कबूल है नहीं बोला। जिसके बाद से पंचायत में हंगामा शुरू हो गया और पंचायत खत्म हो गई। फिर मामला थाने पहुंचा। हालांकि पुलिस ने दोनों पक्षों को सुनने के बाद कहा कि निकाह के लिए किसी पर दबाव नहीं बनाया जा सकता है। लड़के ने थाने पर भी निकाह करने से इंकार कर दिया। जिसके बाद दोनों पक्ष अपने-अपने घर वापस लौट गए।

फिर मामला पहुंचा थाने

वहीं पंचों दोनों पक्षों को समय दिया है, अगर लड़के और लड़की एक-दूसरे निकाह के लिए के लिए तैयार होते हैं तो निकाह करा दिया जाएगा। वहीं थाना प्रभारी सरधना लक्ष्मण वर्मा ने कहा कि लड़की और उसके परिजन निकाह के लिए तैयार थे, लेकिन लड़का पक्ष तैयार नहीं था। गांव के कुछ जिम्मेदार लोग थाने आए थे। वह दोनों पक्षों को समझा बुझाकर गांव ले गए।

यह भी पढ़ें : पर्ची पर लिखा, 'मेरी मौत का राज मेरे मोबाइल में दफन', फिर लगा ली फांसी

Nitish Pandey
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned