AIIMS डायरेक्टर रणदीप गुलेरिया ने बताया, किन लोगों को नहीं लगाई जाएगी Corona की दोनों वैक्सीन

  • Coronavirus संकट के बीच वैक्सीनेशन को लेकर AIIMS डायरेक्टर का बड़ा बयान
  • डॉ. रणदीप गुलेरिया ने बताय किन लोगों के फिलहाल नहीं दी जाएगी वैक्सीन
  • देश में अगले हफ्ते से शुरू हो सकता है टीकाकरण

नई दिल्ली। देश भर में बढ़ते कोरोना वायरस के खतरे के बीच अगले हफ्ते से कोरोना की वैक्सीन ( Coronavirus Vaccine) लगाने का काम शुरू हो सकता है। देश में कोविड-19 से जंग के बीच दो वैक्सीनों को सरकार ने मंजूरी दे दी है। सीरम इंस्टीट्यूट की कोविशील्ड और भारत बायोटेक की कोवैक्सीन का टीकाकरण भारत में किया जाएगा।

इस बीच ऑल इंडिया इंस्टिट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस के डायरेक्टर डॉ. रणदीप गुलेरिया ने बताया है कि किन लोगों को ये दोनों ही वैक्सीन नहीं लगाई जाएंगी।

फाइजर की वैक्सीन लगाने के 48 घंटे बाद हुई हेल्थ वर्कर की मौत, लगातार सामने आ रहे वैक्सीन के साइड इफेक्ट

देशभर में अगले हफ्ते से कोरोना वैक्सीनेशन का काम शुरू हो सकता है। इसके तहत अलग-अलग फेज में टीकाकरण का काम किया जाएगा। अगले 6-8 महीने में करीब 30 करोड़ लोगों को वैक्सीन की डोज देने का लक्ष्य रखा गया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी बीते दिन वैज्ञानिकों को बधाई देते हुए कहा था कि देश में बनी कोरोना की वैक्सीन लगने का समय शुरू होने वाला है।

इस बीच कोरोना वायरस के नए स्ट्रेन के बढ़ते प्रकोप (Coronavirus New Strain) ने सभी की चिंता बढ़ा दी है। दुनिया के 16 देशों में वैक्सीनेशन का प्रोसेस शुरू हो चुकी है।

इन लोगों को नहीं दी जाएगी वैक्सीन
भारत में दोनों वैक्सीन के कई ट्रायल अभी बाकी हैं, लेकिन इससे पहले ही इसे सरकार की मंजूरी मिलने के कारण कई सवाल खड़े हो गए हैं। इन्हीं सवालों के बीच AIIMS डायरेक्टर डॉ, रणदीप गुलेरिया ने कहा है कि मौजूदा समय में रेग्युलेटर्स ने वैश्विक तौर पर बच्चों और प्रेग्नेंट महिलाओं के लिए वैक्सीन को मंजूरी नहीं दी है।

कोरोना वायरस के नए स्ट्रेन का बढ़ा खतरा, देशभर में डेढ़ महीने के लिए एक बार फिर लगाया लॉकडाउन, बंद रहेंगी कई सेवाएं

ये है बड़ी वजह
डॉ. गुलेरिया ने कहा कि इनमें सेफ्टी डेटा का सवाल है। उन्होंने कहा कि बच्चों और प्रेग्नेंट महिलाओं के टीकेकरण के लिए अभी सेफ्टी डेटा का इंतजार करना चाहिए।

गुलेरिया के मुताबिक अगर वयस्कों पर वैक्सीन का अच्छा असर देखा जाएगा, तभी बच्चों को टीका लगाया जाएगा। इसके बाद गर्भवती महिलाओं को इसमें शामिल किया जाएगा।

डॉ. गुलेरिया ने कहा कि अगले 10 से 14 दिन के अंदर हेल्थ वर्कर्स को वैक्सीन की पहली डोज दी जाएगी।

Show More
धीरज शर्मा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned