CDS बिपिन रावत ने पीएम मोदी से की मुलाकात, कोरोना से निपटने के लिए सेना ने पूर्व स्वास्थ्यकर्मियों को बुलाया वापस

प्रधानमंत्री कार्यालय (PMO) ने जानकारी देते हुए बताया कि इस मुलाकात में पीएम मोदी और सीडीएस बिपिन रावत के बीच कोविड-19 महामारी से निपटने के लिए सशस्त्र बलों द्वारा की जा रही तैयारी और संचालन की समीक्षा की।

नई दिल्ली। देश में कोरोना संक्रमण के लगातार बढ़ते मामलों ने चिंताएं बढ़ा दी है। कई राज्यों के अस्पतालों में ऑक्सीजन की कमी से अब तक 50 से अधिक लोगों की जान जा चुकी है। ऐसे में हर अस्पताल तक ऑक्सीजन पहुंचाने को लेकर केंद्र सरकार राज्य सरकारों के साथ मिलकर युद्धस्तर पर कार्य कर रही है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ( PM Narendra Modi ) खुद इस पूरे मामले की निगरानी करते हुए व्यवस्था कर रहे हैं। ऑक्सीजन टैंकर को पहुंचाने के लिए रेलवे की मदद ली जा रही है, वहीं सेना भी मोर्चा संभालते हुए हर संभव मदद कर रही है। देश में कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच सेना के अधिकारियों से अधिक से अधिक किस प्रकार से मदद ली जा सकती है, इस संबंध में चर्चा के लिए रक्षा विभाग के प्रमुख जनरल बिपिन रावत ( CDS Bipin Rawat ) ने सोमवार को पीएम नरेंद्र मोदी से मुलाकात की।

यह भी पढ़ें:- Mankind Pharma ने मृतक कोरोना योद्धाओं के परिवारों को दान में दिया 100 करोड़ रुपये

प्रधानमंत्री कार्यालय (PMO) ने जानकारी देते हुए बताया कि इस मुलाकात में दोनों के बीच कोविड-19 महामारी से निपटने के लिए सशस्त्र बलों द्वारा की जा रही तैयारी और संचालन की समीक्षा की। इस दौरान सीडीएस बिपिन रावत ने पीएम मोदी को जानकारी देते हुए बताया कि पिछले दो सालों में सशस्त्र बलों के जितने भी डॉक्टर रिटायर हुए हैं या फिर वीआरएस लेकर गए हैं, उन्हें एक बार फिर से सेवा में वापस बुलाया गया है, ताकि वे अपने घरों के नजदीक कोरोना महामारी से लड़ने में सहायता कर सकें।

पूर्व सैन्य चिकित्साकर्मियों को बुलाया गया वापस

पीएमओ ने जानकारी देते हुए बताया है कि कोरोना के इस संकट में अन्य चिकित्सा अधिकारियों से भी जो सेवानिवृत्त हुए हैं उन्हें अपनी सेवाएं आपातकालीन हेल्पलाइन के माध्यम से जारी रखने का अनुरोध किया गया है।

यह भी पढ़ें :- ऑक्सीजन की कमी से अमृतसर में पांच की मौत, दिल्ली के बत्रा हॉस्पिटल में खतरे में 350 मरीजों की जान

सीडीएस रावत ने पीएम मोदी को जानकारी देते हुए बताया कि कमांडएचक्यू, कॉर्प्स मुख्यालय, डिवीजन मुख्यालय और नौसेना और आईएएफ के समान मुख्यालय में कर्मचारियों की नियुक्तियों पर सभी चिकित्सा अधिकारी अस्पतालों में कार्यरत हैं।

इसके अलावा अस्पतालों में डॉक्टरों के पूरक के लिए नर्सिंग कर्मियों को बड़ी संख्या में नियुक्ति की जा रही है। सीडीएस रावत ने बताया कि विभिन्न प्रतिष्ठानों में सशस्त्र बलों के साथ उपलब्ध ऑक्सीजन सिलेंडर अस्पतालों के लिए जारी किए जाएंगे।

Anil Kumar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned