script जर्मनी की Linde और Tata Group ने मंगाए 24 ऑक्सीजन टैंकर, देशभर के अस्पतालों में की जाएगी आपूर्ति | Coronavirus: Germany’s Linde, Tata Group get 24 oxygen transport tanks for India | Patrika News

जर्मनी की Linde और Tata Group ने मंगाए 24 ऑक्सीजन टैंकर, देशभर के अस्पतालों में की जाएगी आपूर्ति

locationनई दिल्लीPublished: Apr 24, 2021 09:17:50 pm

Submitted by:

Anil Kumar

जर्मनी की कंपनी लिंडे समूह की भारतीय इकाई ने टाटा समूह के साथ मिलकर भारत में कोविड-19 महामारी के खिलाफ लड़ाई में योगदान करने के लिए 24 क्रायोजेनिक ऑक्सीजन टैंक हासिल किए हैं।

linde_tata_groups.jpg
Coronavirus: Germany’s Linde, Tata Group get 24 oxygen transport tanks for India

नई दिल्ली। कोरोना महामारी के बढ़ते प्रकोप से निपटने के लिए सरकार की मदद के लिए कई प्राइवेट संस्थाओं ने हाथ बढ़ाया है। ऑक्सीजन की भारी कमी की वजह से कई मरीजों की जान जा चुकी है। ऐसे में अब केंद्र सरकार जहां विदेशों से ऑक्सीजन मंगा रही है, वहीं देश की प्राइवेट संस्थाओं ने भी अस्पतालों तक ऑक्सीजन पहुंचाने का बिड़ा उठाया है।

उद्योगपति मुकेश अंबानी की रिलायंस इंडस्ट्रीज अपने गुजरात के जामनगर संयंत्र से ऑक्सीजन की आपूर्ति कर रही है। तो वहीं, अब कई क्षेत्रों में कार्यरत टाटा समूह ने ऑक्सीजन टैंकरों की कमी को देखते हुए 24 क्रायोजेनिक कंटेनर आयात करने का फैसला किया है। टाटा समूह ने इसके लिए जर्मन कंपनी लिंडे इंडिया लिमिटेड से समझौता किया है।

यह भी पढ़ें
-

ऑक्सीजन की कमी से अमृतसर में पांच की मौत, दिल्ली के बत्रा हॉस्पिटल में खतरे में 350 मरीजों की जान

जर्मनी की कंपनी लिंडे समूह की भारतीय इकाई ने एक बयान में कहा कि टाटा समूह के साथ मिलकर भारत में कोविड-19 महामारी के खिलाफ लड़ाई में योगदान करने के लिए उसने 24 क्रायोजेनिक ऑक्सीजन टैंक हासिल किए हैं।

प्लांट से राज्यों को भेजा जा रहा है ऑक्सीजन

बयान में आगे कहा गया है कि इस राष्ट्रीय जरूरत में योगदान करने के लिए लिंडे इंडिया ने टाटा समूह और भारत सरकार के साथ हाथ मिलाया है, ताकि देश भर में तरल मेडिकल ऑक्सीजन (एलएमओ) की उपलब्धता बढ़ाने के उपाय किए जा सकें।

लिंडे इंडिया ने टाटा समूह के साथ साझेदारी में अंतरराष्ट्रीय सूत्रों से मेडिकल ऑक्सीजन की आपूर्ति बढ़ाने के लिए 24 क्रायोजेनिक टैंक हासिल किए हैं, ताकि मेडिकल ऑक्सीजन का परिवहन सुनिश्चित किया जा सके। बयान के मुताबिक, ‘‘ये कंटेनर हवाई जहाज से भारत के पूर्वी हिस्से में पहुंचे हैं, जहां से लिंडे उन्हें अपने एलएमओ संयंत्र तक ले जाएगा। लिंडे के संयंत्र में ये क्रायोजेनिक आईएसओ कंटेनर एलएमओ के उपयोग के लिए तैयार और प्रमाणित किए जाएंगे।’’

यह भी पढ़ें
-

सिंगापुर से ऑक्सीजन टैंकर मंगा रही है भारत सरकार, जर्मनी और UAE से भी मंगाने का फैसला

प्रत्येक कंटेनर की क्षमता 20 टन तरल आक्सीजन की है। इनका इस्तेमाल आक्सीजन इकाइयों से तरल आक्सीजन भरा कर अस्पतालों तक पहुंचाने में किया जाएगा। ऑक्सीजन प्लांट से सीधे राज्यों को भेजा रहा है।

लिंडे ने कहा कि मेडिकल ऑक्सीजन की जल्द से जल्द आपूर्ति को लेकर वह सभी संभव उपाय कर रही है। इसके लिए भारत सरकार के सहयोग से दिल्ली से क्रॉयोजेनिक रोड टैंकर्स को एयरलिफ्ट किया गया और फिर दुर्गापुर स्थित लिंडे के ऑक्सीजन प्लांट से मेडिकल ऑक्सीजन दिल्ली लाया गया। भारतीय रेलवे की खास पेशकश ऑक्सीजन एक्सप्रेस के जरिए लिंडे ने कलमबोली (महाराष्ट्र) से खाली टैंकर्स मंगाकर विजाग भेजा है, जहां से इसमें ऑक्सीजन भरकर महाराष्ट्र वापस भेजा जाएगा।

ट्रेंडिंग वीडियो