दिल्ली हिंसाः केजरीवाल ने किया ऐलान, अंकित शर्मा के परिजनों को 1 करोड़ मुआवजा

  • IB कर्मी के परिजनों को मुआवजा और एक सदस्य को नौकरी।
  • दिल्ली पुलिस हेड कॉन्स्टेबल रतन लाल के लिए भी की थी घोषणा।
  • कपिल मिश्रा ने आप पार्षद ताहिर हुसैन पर लगाया था अंकित की हत्या का आरोप।

नई दिल्ली। देश की राजधानी के उत्तर-पूर्वी इलाके में पिछले सप्ताह हुई हिंसा के बाद अब राजनीतिक बहस छिड़ गई है। इस बीच दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने सोमवार को एक बड़ी घोषणा की। केजरीवाल ने दिल्ली हिंसा में जान गंवाने वाले खुफिया विभाग के कर्मचारी अंकित शर्मा के परिजनों को 1 करोड़ मुआवजा देने के साथ ही एक परिजन को सरकारी नौकरी देने का ऐलान किया है।

दिल्ली हिंसा के दौरान भी मुस्लिम बहुल इलाके के इस हिंदू परिवार को नहीं लगा डर, खुलकर बताई बड़ी वजह #DelhiViolence

ताजा जानकारी के मुताबिक दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने सोमवार को घोषणा की, "अंकित शर्मा IB के जांबाज अधिकारी थे। दंगों में उनका नृशंस तरीक़े से क़त्ल कर दिया गया। देश को उन पर नाज़ है। दिल्ली सरकार ने तय किया है कि उनके परिवार को 1 करोड़ की सम्मान राशि और उनके परिवार के एक व्यक्ति को नौकरी देंगे। भगवान उनकी आत्मा को शांति दें।"

बता दें इससे पहले केजरीवाल ने पिछले सप्ताह दिल्ली विधानसभा में इस घटना के पीछे असामाजिक तत्वों को जिम्मेदार बताया और शहीद दिल्ली पुलिस के हेड कॉन्स्टेबल रतन लाल के परिजनों को 1 करोड़ रुपये मुआवजा देने की घोषणा की।

इस दौरान केजरीवाल ने कहा था, "दिल्ली के लोग हिंसा नहीं चाहते। यह सबकुछ आम आदमी द्वारा नहीं किया गया है। इसके पीछे कुछ असामाजिक, राजनीतिक और बाहरी तत्व शामिल हैं। दिल्ली में हिंदू और मुसलमान कभी भी लड़ना नहीं चाहते हैं।"

केजरीवाल ने आगे कहा, "हिंसा में शहीद हुए दिल्ली पुलिस के हेड कांस्टेबल रतन लाल इंसानियत के लिए शहीद हुए, इस देश के लिए शहीद हुए। रतन लाल जी के परिवार की जिम्मेदारी दिल्ली सरकार उठाएगी और शहीद रतन लाल जी के परिवार को 1 करोड़ की सम्मान राशि दी जाएगी। हम दिल्ली पुलिस के हेड कॉन्स्टेबल रतन लाल जी के परिवार को यह भरोसा दिलाना चाहते हैं कि हम उनका ख्याल रखेंगे। हम उन्हें 1 करोड़ रुपये का मुआवजा और परिवार के एक सदस्य को नौकरी देंगे।"

दिल्ली हिंसा को लेकर ताहिर हुसैन के खिलाफ पुलिस के बाद AAP की बड़ी कार्रवाई, ट्विटर पर पार्टी ने दी जानकारी

बता दें कि भारतीय खुफिया एजेंसी (Intelligence Bureau) के सुरक्षा सहायक अंकित शर्मा की हत्या के मामले में कई सनसनीखेज खुलासे हुए थे। घटना वाले दिन अंकित शर्मा उपद्रवियों को शांत कराने के लिए घर से बाहर निकले थे, लेकिन देखते ही देखते वह खुद ही भीड़ के बीच 'पीड़ित' के रूप में बुरी तरह फंस गए। उन्होंने भीड़ को चीख-चीख कर बताया कि वह हिंसक भीड़ में शामिल लोगों के पड़ोसी और काफी पहले से परिचित हैं। इसके बाद भी भीड़ ने बेबस-बेकसूर अंकित पर रहम नहीं खाया।

आईबी के 26 वर्षीय होनहार युवा सिक्योरिटी असिस्टेंट अंकित शर्मा की नृशंस हत्या को लेकर यह तमाम सनसनीखेज खुलासे बुधवार और गुरुवार को तह तक जाकर की गई पड़ताल में सामने आए हैं। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में डॉक्टरों ने दावा किया था कि अंकित को 400 से ज्यादा बार धारदार हथियार से गोदा गया। उसके शरीर का कोई भी ऐसा हिस्सा नहीं था जहां हमले के निशान ना पाए गए हों।

दिल्ली हिंसा में जब जल रहा था चांद बाग, एक गली में कैंसल होने वाली थी हिंदू लड़की की शादी, फिर जो हुआ

वहीं, इस मामले को लेकर भारतीय जनता पार्टी (BJP) नेता कपिल मिश्रा ने बड़ा दावा किया था। कपिल मिश्रा ने अंकित की मौत के लिए आम आदमी पार्टी (AAP) पार्षद ताहिर हुसैन को जिम्मेदार ठहराते हुए कई सबूत पेश किए थे। जबकि अंकित शर्मा के परिजनों ने भी इसके पीछे ताहिर हुसैन की भूमिका होने का दावा किया था।

भाजपा नेता कपिल मिश्रा ने बृहस्पतिवार को दिल्ली हिंसा में जान गंवाने वाले इंटेलीजेंस ब्यूरो (IB) के सिक्योरिटी असिस्टेंट अंकित शर्मा (26) की मौत के पीछे आप पार्षद ताहिर हुसैन को जिम्मेदार बताते कई ट्वीट किए। इतना ही नहीं उन्होंने ताहिर हुसैन की कॉल डिटेल्स के जरिये संजय सिंह और केजरीवाल की भी इसमें भूमिका बताई।

आजादी की लड़ाई के गवाह जग्गेरी लाल ने दिल्ली हिंसा पर दिया बड़ा बयान, अंग्रेजों की तरह कुछ नेता कर रहे अत्याचार

कपिल मिश्रा ने अपने ट्वीट में लिखा, "डंके की चोट पर कह रहा हूं। अगर दंगों के दिनों की ताहिर हुसैन के फोन के कॉल डिटेल्स खुल गई तो दंगों में और अंकित शर्मा की हत्या में संजय सिंह और केजरीवाल दोनों की भूमिका सामने आ जाएगी"

Show More
अमित कुमार बाजपेयी
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned