1 सितंबर से Flight Ticket के लिए चुकाने होंगे ज्यादा रुपए, सरकार ने बढ़ाई ये फीस

  • Aviation Security Fees Hike : अब प्रत्येक यात्री को 160 रुपए सिक्योरिटी फीस चुकानी होगी। पहले ये 150 रुपए थी
  • पिछले साल एयरपोर्ट ऑपरेटरों के कहने पर सरकार ने शुल्क में की थी बढ़ोत्तरी

नई दिल्ली। लॉकडाउन (Lockdown) के चलते काफी अरसे तक हवाई यात्रा पर बाधित रहने से एविएशन इंडस्ट्री को काफी नुकसान हुआ है। हालांकि अनलॉक के बाद से घरेलू उड़ानों को दोबारा शुरू किया गया, लेकिन कोरोना महामारी की वजह से अब चीजें पहले जैसी नहीं हैं। अब यात्रा के संचालन के लिए कई इंतजाम किए जाते हैं। जिसमें अतिरिक्त रुपए खर्च हो रहे हैं। लिहाजा सरकार ने एयरपोर्ट पर यात्रियों से ली जाने वाली सिक्योरिटी फीस में (Aviation Security Fees) बढ़ोतरी की है। ऐसे में 1 सितंबर से जारी होने वाली एयर टिकट के लिए यात्रियों को पहले से ज्यादा जेब ढीली करनी पड़ेगी।

इस बार सरकार ने एविएशन सिक्योरिटी फीस में 10 रुपए प्रति यात्री की बढ़ोतरी की है। बताया जाता है कि एयरपोर्ट पर बढ़ते सुरक्षा खर्च को मैनेज करने के लिए फीस में बढ़ोत्तरी की गई है। मालूम हो कि सीआईएसएफ देश के 61 एयरपोर्ट पर सुरक्षा उपलब्ध कराती है। कोरोनावायरस महामारी (Coronavirus Pandemic) के चलते एयरपोर्ट पर यात्रियों की जांच के लिए पीपीई सूट, मास्क, ग्लब्स जैसे उपकरणों का इस्तेमाल कर रही है। जिससे सुरक्षा लागत में बढ़ोतरी हुई है। इसी वजह से सिविल एविएशन मिनिस्ट्री ने 13 अगस्त को आदेश जारी करते हुए एयरक्राफ्ट रूल्स 1937 में दिए गए अधिकारों के तहत शुल्क बढ़ाएं जाने की मंजूरी दी है। ऐसे में अब प्रति यात्री एविएशन सिक्योरिटी फीस 160 रुपए हो गई है।

मालूम हो कि इससे पहले भी सरकार ने एविएशन सिक्योरिटी फीस में पिछले साल यानि 2019 में 20 रुपए की बढ़ोतरी की थी। जिसके कारण शुल्क 150 रुपए प्रति यात्री हो गया था। इससे पहले यह रकम 130 रुपए प्रति यात्री थी। तब एयरपोर्ट ऑपरेटरों का कहना था कि कई साल से निर्धारित ये रकमसीआईएसएफ की तैनाती के खर्चों को पूरा करने के लिए अपर्याप्त हैंं ऐसे में इसे बढ़ाया जाना चाहिए। उन्हीं की मांगों को मानते हुए सरकार ने इसमें वृद्धि की थी।

Show More
Soma Roy Content Writing
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned