संक्रमण की चेन तोड़ने के लिए गृह मंत्रालय ने दिए सुझाव, लॉकडाउन और कंटेनमेंट जोन के नियम पर करें काम

केंद्र सरकार कोरोना की चेन को तोड़ने के लिए सभी राज्य सरकारों और केंद्र शासित प्रदेशों को नई रणनीति पर काम करने के लिए कहा है।
गृह मंत्रालय ने बताया कि लॉकडाउन कैसे लगाया। इसके साथ यह भी बताया कि कंटेनमेंट जोन के नियम क्या होंगे।

नई दिल्ली। महामारी कोरोना वायरस देशभर में तेजी से फैल रहा है। कोरोना की दूसरी लहर में मरीजों की संख्या में लगातार रिकॉर्डतोड़ बढ़ोत्तरी देखने को मिल रही है। कोरोना के बढ़ते मामलों के कारण कई राज्यों में लॉकडाउन के बावजूद स्थिति गंभीर बनी हुई है। केंद्र सरकार कोरोना की चेन को तोड़ने के लिए सभी राज्य सरकारों और केंद्र शासित प्रदेशों को नई रणनीति पर काम करने के लिए कहा है। केंद्र सरकार ने सभी राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों से संक्रमण की शृंखला तोड़ने के लिए जिला व क्षेत्रवार गहन, स्थानीय और कंटेनमेंट ढांचे की रणनीति लागू करने के निर्देश दिए हैं। गृह मंत्रालय ने बताया कि लॉकडाउन कैसे लगाया। इसके साथ यह भी बताया कि कंटेनमेंट जोन के नियम क्या होंगे।

यह भी पढ़ें :— विराफिन दवा से 7 दिन में कोरोना का मरीज ठीक होने का दावा, आपात इस्तेमाल के लिए मिली मंजूरी

नियमों को कड़ाई से पालने करने की जरूरत
केंद्रीय गृह सचिव अजय भल्ला ने सोमवार को सभी राज्यों व केंद्र शासित प्रदेशों से एक संवाद में कहा कि कंटेनमेंट जोन संबंधी केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय की ओर से जारी किए निर्देशों का पालन करे। उन्होंने कहा कि जिले के अधिकारियों को प्रतिबंध लागू करने की योजना संवेदनशील बनानी होगी। इसको प्रभावी ठीक से लागू किया जाना चाहिए। भल्ला ने पिछले दिनों के कोविड आंकड़ों का जिक्र करते हुए कहा कि स्थिति लगातार गंभीर होती जा रही है। राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों को कोविड प्रबंधन और इसे नियंत्रित करने के लिए बनाए गए उपायों को सख्ती के साथ पालन करना चाहिए।

यह भी पढ़ें :— दबाव के आगे झुका अमेरिका, भारत को कोरोना वैक्सीन के लिए कच्चा माल देने को तैयार

देश में ऑक्सीजन के पर्याप्त भंडार
देश में ऑक्सीजन की कमी की घटनों पर गृह मंत्रालय ने कहा कि जनता को घबराने की जरूरत नहीं है। देश में चिकित्सा ऑक्सीजन का पर्याप्त भंडार है। अस्पताल में बेड और ऑक्सीजन को लेकर स्थिति पहले से बेहतर है। मांग के अनुसार केंद्र सरकार हर मदद के लिए तैयार है। मंत्रालय के अतिरिक्त सचिव पीयूष गोयल ने कहा कि भारतीय वायुसेना के मालवाहक विमान की मदद से ऑक्सीजन लाने वाले टैंकरों के गंतव्य स्थल तक पहुंचने के समय को चार-पांच दिन से घटाकर एक-दो घंटे कर दिया गया है। सरकार जीपीएस के माध्यम से ऑक्सीजन टैंकरों को लाने और ले जाने की स्थिति पर नजर बनाए हुए है।

मरीजों की संख्या 1,73,13,163
आपको बता दें कि देश में पिछले 24 घंटे में कोरोना वायरस के 3,52,991 नए मरीज मिले है। इस प्रकार संक्रमितों की कुल संख्या बढ़कर 1,73,13,163 तक पहुंच गई है मौजूदा समय में उपचाराधीन कोविड मरीजों की संख्या 28 लाख को पार कर चुकी है। इस संक्रमण से अब तक 1,95,123 लोगों की जान जा चुकी है।

COVID-19
Shaitan Prajapat
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned