केरल: विपक्षी नेता के लिए रमेश चेन्नीथला को मिला समर्थन, तिरुवंचूर राधाकृष्णन ने किया विरोध

अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी (एआईसीसी) नेताओं मल्लिकार्जुन खड़गे और एम वैद्यलिंगम ने केरल में सभी नव-निर्वाचित विधायकों, सांसदों और पार्टी के वरिष्ठ नेताओं के साथ आमने-सामने बैठक की। इसमें बैठक में नए विपक्षी नेता बनाए जाने की चर्चा की गई है।

नई दिल्ली। अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी (एआईसीसी) नेताओं मल्लिकार्जुन खड़गे और एम वैद्यलिंगम ने मंगलवार को केरल में सभी नव-निर्वाचित विधायकों, सांसदों और पार्टी के वरिष्ठ नेताओं के साथ आमने-सामने बैठक की। इसमें बैठक में नए विपक्षी नेता बनाए जाने की चर्चा की गई है। रमेश चेन्निथला पहले ही विपक्षी नेता के रूप में बने रहने की इच्छा व्यक्त कर चुके हैं। उन्हें अप्रत्याशित रूप से 'ए' समूह के कुछ सदस्यों का समर्थन मिला। माना जा रहा है कि पूर्व मुख्यमंत्री ओमन चांडी ने चेन्निथला को समर्थन देने का फैसला किया है।

यह भी पढ़ें :— Patrika Positive News: स्वयंसेवी संस्थाओं ने खोला दूसरा कोविड केयर सेंटर, 24 घंटे डॉक्टर—ऑक्सीजन सहित इलाज की सभी व्यवस्थाएं

बदलाव के संकेत
मंगलवार सुबह हुई इस बैठक में कांग्रेस संसदीय दल में 'आई' ग्रुप में 12 और 'ए' ग्रुप में 9 विधायक हैं। हालांकि 'ए' समूह में चेन्नीथला को विपक्षी नेता के रूप में समर्थन देने को लेकर विभाजन हुआ था। इन नेताओं ने चांडी से 'ए' ग्रुप के लिए पद की मांग करने के लिए कहा गया। हालांकि, सांसदों ने संकेत दिया कि बदलाव की जरूरत है। गिने-चुने वरिष्ठ नेताओं ने ही इस बदलाव का समर्थन किया। चेन्नीथला के करीबी एक नेता ने कहा कि मौजूदा विपक्षी नेता को बहुमत का समर्थन मिला है।

यह भी पढ़ें :— शुभ संकेत धीमी पड़ी कोरोना की रफ्तार: देश के 200 जिलों में कम हुए रोजाना केस, पॉजिटिविटी रेट में भी घटी

 

चेन्नीथला का किया समर्थन
कांग्रेस के एक वरिष्ठ नेता ने कहा कि विधायकों के साथ व्यक्तिगत बैठकों के बाद, केंद्रीय पर्यवेक्षकों ने सांसदों सहित सभी विधायकों की बैठक भी बुलाई। सर्वसम्मति से एक प्रस्ताव पारित किया गया कि अगले सीएलपी नेता पर अंतिम निर्णय कांग्रेस आलाकमान द्वारा लिया जाएगा। कुछ विधायकों को छोड़कर चेन्नीथला का समर्थन किया है।

तिरुवंचूर राधाकृष्णन ने किया विरोध
तिरुवंचूर राधाकृष्णन इस बात से नाराज हैं कि उनके नाम पर 'ए' समूह द्वारा पद के लिए विचार तक नहीं किया गया था। तिरुवंचूर ने कहा कि वह ग्रुप ए से अपना प्रतिनिधि चाहते हैं। उन्होंने समूह के फैसले पर असंतोष भी जताया। दरअसल, तिरुवंचूर चेन्नीथला का दर्जा चाहता था। लेकिन समूह के नेताओं की तिरुवंचूर में कोई दिलचस्पी नहीं है। 'आई' समूह के सूत्रों ने कहा कि सभी विधायकों ने चेन्नीथला का समर्थन नहीं किया और इसलिए संसदीय दल में कोई सहमति नहीं थी। एआईसीसी नेताओं ने सभी नेताओं की व्यक्तिगत राय ली और वे इस मामले में पार्टी आलाकमान को रिपोर्ट सौंपेंगे। कांग्रेस आलाकमान के दो दिनों के भीतर नई दिल्ली में अगले सीएलपी नेता की घोषणा करने की उम्मीद है।

Congress
Shaitan Prajapat
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned