संसद परिसर में अचानक आ गिरी एक कटी पतंग, सुरक्षाकर्मियों में मचा हड़कंप

संसद के मानसून सत्र के बीच संसद परिसर में अचानक एक पतंग आ गिरी, जिसके बाद से चारों तरफ हड़कंप मच गया। इसके बाद संसद की सुरक्षा में तैनात सुरक्षाकर्मी और एनएसजी ने जांच कर पूरे मामले का पता लगाया।

नई दिल्ली। स्वतंत्रता दिवस से पहले राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में किसी भी तरह की अप्रिय घटना को रोकने के लिए सुरक्षा-व्यवस्था पहले के मुकाबले अधिक कड़ी कर दी गई है। वहीं, संसद परिसर में सोमवार को अचानक एक ऐसी घटना घटी जिसके बाद चारों तरफ हड़कंप मच गया।

दरअसल, अभी संसद का मानसून सत्र चल रहा है। इसी बीच दोपहर के एक बजे के करीब संसद परिसर में एक पतंग अचानक आकर गिरी। यह पतंग संसद परिसर में लगे अंबेडकर मूर्ति के पास आकर गिरी। इसके बाद संसद की सुरक्षा में तैनात सुरक्षाकर्मियों में हड़कंप मच गया।

यह भी पढ़ें :- Monsoon Session 2021: टैक्सपेयर्स के 133 करोड़ रुपए बर्बाद, हंगामे के चलते 107 में से 18 घंटे हुआ काम

फौरन एनएसजी के साथ स्निफर डॉग्स को बुलाया गया और फिर अंबेडकर मूर्ति के पास के इलाके को घेर लिया गया। एनएसजी की इस हरकत से संसद परिसर में मौजूद लोगों में अचानक से हड़कंप मच गया। एनएसजी ने स्निफर डॉग्स की मदद से अपनी जांच शुरू करते हुए उस जगह की कॉबिंग की जहां पतंग गिरी थी और फिर ये पताय लगाया कि कहीं इस पतंग के साथ कोई संदिग्ध वस्तु या विस्फोटक तो नहीं आया है। जब ये स्पष्ट हो गया कि पतंग के साथ कुछ भी नहीं है तभी सबने राहत की सांस ली।

24 घंटे हो रही है संसद की सुरक्षा

आपको बता दें कि अभी हाल ही में जम्मू स्थित वायुसेना के स्टेशन पर आतंकियों ने ड्रोन हमला किया गया था। हालांकि, इससे कुछ ज्यादा क्षति नहीं हुई थी। ऐसा पहली बार था, जबकि आतंकियों ने ड्रोन के जरिए हमले को अंजाम दिया था। लिहाजा, इसके बाद से तमाम सुरक्षा एजेंसियां आलर्ट है।

खुफिया एजेंसियों ने अलर्ट किया है कि आतंकी स्वतंत्रता दिवस से पहले दिल्ली को दहला सकते हैं। दूसरी तरफ जंतर-मंतर पर किसान आंदोलन भी हो रहा है। किसानों ने संसद तक अपनी बात पहुंचाने के लिए 'किसाान संसद' शुरू की है। ऐसे में ये भी संभावना थी कि किसान कहीं उग्र न हो गए हों, क्योंकि बीते 26 जनवरी को हुई घटना को लेकर दिल्ली पुलिस पहले से ही अलर्ट है।

यह भी पढ़ें :- कांग्रेस का बड़ा आरोप, Pegasus का इस्तेमाल कर मोदी सरकार ने कर्नाटक में गिराई कांग्रेस-जेडीएस सरकार

इन सबको ध्यान में रखते हुए संसद की सुरक्षा बढ़ाई गई है। यहां पर सुरक्षाकर्मियों की ऐसी तैनाती है कि परिंदा भी पर न मार पाए। चप्पे-चप्पे पर पुलिसकर्मी तैनात किए गए हैं। नई दिल्ली जिले की सीमाओं को सील कर दिया गया है और क्रेन और सीमेंट वाले जर्सी बैरियर भी रख दिए गए हैं। ऐसा पहली बार है जब संसद की सुरक्षा 24 घंटे हो रही है। इससे पहले सुरक्षाकर्मी संसद की कार्यवाही खत्म होने के बाद चले जाते थे, लेकिन इस बार ऐसा नहीं है। मालूम हो कि संसद के अंदर की सुरक्षा एनएसजी के साथ सुरक्षा यूनिट संभालती है औरबाहर की सुरक्षा दिल्ली पुलिस के हवाले है।

Anil Kumar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned