दिल्ली एम्स में इलाज करा रहे लालू यादव को बड़ा झटका, इतने दिन तक नहीं मिलेगी बेल

  • बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू यादव को लगा बड़ा झटका
  • इस बार भी जेल में ही बीतेगा होली का त्योहार
  • आईजी ने चार हफ्ते के लिए बढ़ाई सजा की अवधि

नई दिल्ली। चारा घोटाले ( Fodder Scam ) में सजा काट रहे बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव ( Lalu Prasad yadav ) को जोर का झटका लगा है। दरअसल सेहत से जूझ रहे लालू यादव को दिल्ली स्थित एम्स अस्पताल में इलाज के लिए और चार हफ्तों का वक्त दिया गया है। यही वजह है कि आईजी ने चार हफ्तों के लिए सजा अवधि बढ़ा दी है।

इसका मतलब फिलहाल चार हफ्तों के लिए लालू यादव जेल से बाहर नहीं आ पाएंगे। हालांकि इन दिनों वे दिल्ली एम्स में स्वास्थ्य लाभ ले रहे हैं, लेकिन पिछले काफी वक्त से ये कयास लगाए जा रहे हैं कि किसी भी वक्त उन्हें बेल मिल सकती है वो जेल से बाहर आ सकते हैं।

महाराष्ट्र में बढ़ा कोरोना का खौफ, घोड़ी की जगह ऊंट पर बारात लेकर पहुंचा दूल्हा, जानिए फिर क्या हुआ

लालू प्रसाद यादव की ये होली भी जेल में ही बीतने वाली है। लालू यादव को दिल्ली एम्स में इलाज के लिए चार हफ्ते का और वक्त दिया गया है, जिसके चलते उनकी सजा को चार हफ्ते और बढ़ा दिया गया है।

इसके साथ ही लालू यादव फोन कॉल प्रकरण की जांच में अफसरों की लापरवाही सामने आई है, जिन पर कार्रवाई की सिफारिश की गई है।

ये कहना है एम्स के डॉक्टरों का
दिल्ली के एम्स डॉक्टरों की जो टीम लालू यादव का इलाज कर रही हैं उनकी मानें तो लालू यादव की तबीयत फिलहाल स्थिर तो है, लेकिन उनके कुछ अंग ठीक से काम नहीं कर रहे हैं।

ऐसे में डॉक्टरों की टीम के अनुशंसा के बाद जेल आईजी बिरेंद्र भूषण ने लालू यादव के बेहतर इलाज के लिए 4 हफ्ते की और सजा अवधि बढ़ा दी है।

जेल सुपरिटेंडेंट हामिद अख्तर के मुताबिक लालू यादव को एक महीने के लिए आईजी जेल के द्वारा इलाज के लिए दिल्ली एम्स भेजा गया था, लेकिन एम्स के डॉक्टरों की टीम ने लालू के इलाज के लिए 3 से 4 हफ्ते का और समय मांगा, जिसे जेल आईजी ने स्वीकार कर लिया।

उधर.. लालू फोन कॉल प्रकरण में पुलिसकर्मी दोषी पाए गए हैं। यही वजह है कि बातचीत प्रकरण में पुलिसकर्मी और पुलिस अधिकारी पर कार्रवाई होगी।

लालू की सुरक्षा में जो पुलिसकर्मी और अधिकारी लगाए गए थे, उनकी लापरवाही सामने आई है।
आपको बता दें कि लालू यादव के फोन प्रकरण को लेकर जेल आईजी के साथ-साथ जिला प्रशासन ने भी जांच बैठाई थी। फिलहाल जेल प्रशासन ने अपनी रिपोर्ट जिला प्रशासन को सौंप दी है।

प्रशासन की ओर से सौंपी गई रिपोर्ट के आधार पर ही कुछ पुलिसकर्मियों को दोषी माना गया है।

शम्मी कपूर के सॉन्ग पर कुछ इस तरह थिरकने लगे ये दिग्गज नेता, जानिए क्या है पीछे की वजह

इस वजह से लालू तक पहुंचा मोबाइल
जांच रिपोर्ट में बताया गया है कि लालू की सुरक्षा में तैनात जवानों की लापरवाही से ही मोबाइल लालू तक पहुंचा है। जांच रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि कैली बंगले में लालू यादव की सुरक्षा में तैनात रांची पुलिस के जवानों को ठीक ढंग से तलाशी नहीं ली जाने के वजह से फोन के सेवादारों या अन्य लोगों के माध्यम से लालू तक मोबाइल संभवत पहुंचा है।

ड्यूटी रजिस्टर से होगा कॉल टाइम का मिलान
ऐसे में लालू यादव ने कहीं और भी बात की होगी। बिरसा मुंडा केंद्रीय कारागार होटवार के जेल सुपरिटेंडेंट हामिद अख्तर ने बताया कि उन्होंने जो जांच रिपोर्ट जिला प्रशासन को सौंपी है, उसमे लालू की सुरक्षा में तैनात पुलिस कुछ पदाधिकारी और कुछ पुलिसकर्मी दोषी हैं।

अख्तर के मुताबिक लालू यादव की ओर से जिस वक्त कॉल किया गया, उस समय का मिलान ड्यूटी रोस्टर से भी किया जाएगा और दोषी पुलिसकर्मियों के खिलाफ कार्रवाई होगी।

धीरज शर्मा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned