लालू यादव का आम खाना हुआ बंद, 10 दिन में ही निपटा दिए थे 30 दिन का कोटा

लालू यादव का आम खाना हुआ बंद, 10 दिन में ही निपटा दिए थे 30 दिन का कोटा

  • आम की आदत ने बिगाड़ी Lalu Yadav की सेहत
  • RIMS के डॉक्टरों ने लालू को आम देना किया बंद
  • ज्यादा आम खाने से बढ़ा लालू का शुगर और इंसुलिन

नई दिल्ली। बिहार के पूर्व सीएम और आरजेडी अध्यक्ष लालू यादव को डॉक्टरों की सलाह की अनदेखी भारी पड़ सकती है। लालू की सेहत पर नजर रख रहे डॉक्टर डीके झा ने Lalu Yadav के आम खाने पर पाबंदी लगा दी है। ऐसा इसलिए कि क्योंकि लालू ने डॉक्टरों की बात को अनसुना कर ज्यादा आम खा लिए था।

आम खाने से बढ़ा शुगर

रांची एम्स के डॉक्टर डीके झा ने शनिवार को लालू प्रसाद यादव के रुटीन चेकअप किया। इसके बाद मीडिया से बात करते हुए उन्होंने लालू के सेहत की जानकारी दी। झा ने कहा कि लालू यादव की किडनी और लीवर अब ठीक है। लेकिन शुगर लेवल बढ़ गया है। डॉक्टर ने कहा कि हमने उनको हर दिन एक आम खाने की अनुमति दी थी, लेकिन उन्होंने ज्यादा खा लिए। इस वजह से बुधवार से हमने उनके आम के सेवन को बंद कर दिया।

केजरीवाल सरकार का ऐलान, दिल्ली के गरीब छात्रों को मिलेगी 100% स्कॉलरशिप

हर रोज एक आम खाने की थी परमिशन

रिम्स के एक डॉक्टर ने बताया कि लालू को एक दिन में एक मालदा आम खाने की सलाह दी गई थी। इस हिसाब से महीने में 30 आम खाने की परमिशन थी। इसके बाद भी आम के शौकीन लालू यादव हर दिन 2 से 3 मालदा आम खा रहे थे। यानि 30 आम खाने का कोटा लालू ने 8-10 दिन में ही पूरा कर लिया। इसकी वजह से उनका ब्लड शुगर लेवल बढ़ गया।

लालू को 14 साल की हुई है सजा

बता दें कि fodder scam से जुड़े चार मामलों में लालू यादव को 14 साल जेल की सजा सुनाई गई है। शुगर और किडनी की बीमारी के चलते न्यायिक हिरासत में उनका इलाज चल रहा है। वे फिलहाल राजेंद्र इंस्टीट्यूट ऑफ मडिकल साइंस (रिम्स) में भर्ती हैं।

अमरीका-ईरान में तनाव बढ़ा, भारत ने बंद किया ईरानी एयरस्पेस का इस्तेमाल

तेज प्रताप ने भी की मुलाकात

शनिवार को ही लालू से मिलने उनके बड़े बेट तेजप्रताप यादव अस्पताल पहुंचे थे। तेजप्रताप ने पिता से मिलकर उन्हें भगवान कृष्ण के उपदेशों वाली धार्मिक पुस्तक 'भगवद् गीता' भेंट की। लोकसभा चुनाव के बाद तेजप्रताप यादव पहली बार अपने पिता से मिलने पहुंचे थे।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned