एपी सिंह को सोशल मीडिया पर सुनाई जा रही है खरी-खोटी, निर्भया के चरित्र पर उठाए थे सवाल

Highlight

- एपी सिंह ने निर्भया और उनकी मां को लेकर दिया था आपत्तिजनक बयान

- चारों दोषियों को शुक्रवार तड़के दी जा चुकी है फांसी

- 7 साल बाद निर्भया केस में हुआ इंसाफ

नई दिल्ली। 7 साल के इंतजार के बाद आखिरकार निर्भया गैंगरेप केस में इंसाफ की घड़ी आकर चली गई। शुक्रवार तड़के दिल्ली की तिहाड़ जेल में गैंगरेप के चारों दोषियों को फांसी के फंदे पर लटका दिया गया। जहां एक तरफ चारों दरिंदों को फांसी दिए जाने के बाद पूरे देश में खुशी का माहौल है तो वहीं दूसरी तरफ दोषियों के वकील एपी सिंह सुप्रीम कोर्ट के फैसले को अभी तक नहीं पचा पा रहे हैं। गुरूवार को कोर्ट के फैसले के बाद एपी सिंह ने निर्भया को लेकर इतना आपत्तिजनक कॉमेंट किया कि लोग अब उन्हें मारने-पीटने पर उतारू हैं।

चारों दोषियों को फांसी के बाद निर्भया की मां बोलीं- आज मेरी बेटी को इंसाफ मिला और मैंने मां का धर्म पूरा किया

सुप्रीम कोर्ट के बाहर एपी सिंह बचे पिटते-पिटते

एपी सिंह के खिलाफ सोशल मीडिया पर लोगों का गुस्सा साफ दिख रहा है। जिस वक्त एपी सिंह ने निर्भया को लेकर आपत्तिजनक बयान दिया था, उस वक्त वहां मौजूद लोग और पत्रकार भी उनपर भड़क गए थे। सुप्रीम कोर्ट के बाहर एपी सिंह देर रात पिटते-पिटते बचे हैं। सोशल मीडिया पर तो लोग निर्भया के दोषियों के साथ-साथ एपी सिंह को भी फांसी के फंदे पर लटका देने की बात कर रहे हैं। कोर्ट के बाहर देर रात और तिहाड़ जेल के बाहर आज तड़के एपी सिंह के खिलाफ लगातार नारेबाजी की जा रही थी। लोग 'एपी सिंह मुर्दाबाद' के नारे लगा रहे थे।

निर्भया केसः तिहाड़ जेल में चारों दोषियों को दी गई फांसी, थोड़ी देर में शवों का होगा पोस्टमार्टम

एपी सिंह के खिलाफ सोशल मीडिया पर लोगों का गुस्सा

एपी सिंह का आपत्तिजनक बयान

आपको बता दें कि एपी सिंह ने गुरूवार को पवन और अक्षय की याचिका खारिज होने के बाद मीडिया को ये बयान दिया था कि निर्भया की मां को ही नहीं मालूम था कि उनकी बेटी रात 12.30 बजे तक कहां थी, क्या कर रही थी? एपी सिंह ने कहा कि उस कारण को आप कैसे भूल सकते हैं? इस बयान को देने के बाद एपी सिंह मौके से भागते हुए दिखाई दिए।

Kapil Tiwari
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned