महाराष्ट्र सरकार ने केन्द्र सरकार से रोजाना 70,000 रेमडेसिविर इंजेक्शन उपलब्ध कराने की मांग की

राज्य में कोरोना के चलते बिगड़े हालातों के बीच महाराष्ट्र सरकार ने केन्द्र सरकार से प्रतिदिन 70 हजार रेमडेसिविर इंजेक्शन देने की मांग की है।

नई दिल्ली। महाराष्ट्र सरकार में फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन डॉ. राजेन्द्र शिंगाणे ने कहा है कि राज्य सरकार को सोमवार को केवल 22 हजार 500 इंजेक्शन मिले हैं। उन्होंने कहा कि राज्य में दवा की किल्लत बढ़ती जा रही है। हालांकि केन्द्र सरकार ने राज्य को 21 अप्रैल से 30 अप्रैल तक की समयावधि में चार लाख 35 हजार रेमडेसिविर इंजेक्शन उपलब्ध कराने की घोषणा की थी। केन्द्र सरकार की इस घोषणा के अनुसार राज्य सरकार को रोजाना चालीस हजार इंजेक्शन मिलने थे।

यह भी पढ़ें : पंजाबः कोरोना से 24 घंटे में रिकॉर्ड 98 मौतें, एक मई से होने वाले वैक्सीनेशन को लेकर सरकार ने जताई चिंता

महाराष्ट्र सरकार ने केन्द्र सरकार से कहा कि उसे वर्तमान हालात से निपटने के लिए रोजाना कम से कम सत्तर हजार इंजेक्शन की जरूरत है जबकि सोमवार को राज्य को 22 हजार 500 ही मिल पाएं।

यह भी पढ़ें : बेकाबू कोरोना वायरस पर चिंतित सुप्रीम कोर्ट, कहा- राष्ट्रीय संकट पर नहीं रह सकते मौन

राज्य में मेडिकल ऑक्सीजन की किल्लत पर बोलते हुए डॉ. शिंगाणे ने कहा कि राज्य सरकार ने पहले ही महाराष्ट्र में उत्पादित होने वाली 1250 मैट्रिक टन ऑक्सीजन को मेडिकल यूज के लिए रिजर्व कर दिया है। उन्होंने कहा कि सभी जिला कलेक्टर्स को आदेश दिए गए हैं कि वे सुनिश्चित करें कि ऑक्सीजन कहीं भी किसी भी तरह की इंडस्ट्री में उपयोग नहीं किए जाए वरन उन्हें हॉस्पिटल्स तक पहुंचाया जाए ताकि सभी गंभीर मरीजों को तुरंत चिकित्सा सुविधा दी जा सकें।

सुनील शर्मा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned