scriptड्यूटी पर नर्सों के मलयालम बोलने पर बैन लगने के बाद बढ़ा विवाद, अस्पताल ने वापस लिया आदेश | malayalam language controversy delhi gb pant hospital withdraws order | Patrika News

ड्यूटी पर नर्सों के मलयालम बोलने पर बैन लगने के बाद बढ़ा विवाद, अस्पताल ने वापस लिया आदेश

locationनई दिल्लीPublished: Jun 06, 2021 02:10:10 pm

Submitted by:

Shaitan Prajapat

अस्पताल ने सर्कुलर जारी कर नर्सिंग कर्मियों को कहा था कि वे संवाद के लिए केवल हिंदी और अंग्रेजी का इस्तेमाल करें या फिर कड़ी कार्रवाई का सामना करने के लिए तैयार रहें।

nurses
nurses

नई दिल्ली। राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली के गोविंद बल्लभ पंत अस्पताल में ड्यूटी के दौरान नर्सों के मलयालम बोलने पर रोक लगाने के बाद काफी विवाद हो गया। मामले को ज्यादा बढ़ता देख अस्पताल ने 24 घंटे में ही आदेश को वापस ले लिया है। इससे पहले अस्पताल ने नर्सिंग कर्मियों के लिए सर्कुलर जारी किया था। सर्कुलर के अनुसार, नर्सिंग कर्मियों को बोला गया कि ड्यूटी को दौरान संवाद के लिए सिर्फ हिंदी और अंग्रेजी का इस्तेमाल किया जाए। ऐसा नहीं करने वालों के खिलाफ कार्रवाई हो सकती है। अस्पताल के इस सर्कुलर का भारी विरोध किया गया और इसे भाषायी भेदभाव बताया गया। विवाद बढ़ने के बाद इस सर्कुलर को वापस ले लिया गया।

यह भी पढ़ें

भारतीय वैज्ञानिक दंपती ने खोली चीन की पोल : वुहान लैब से लीक हुआ कोरोना वायरस, शोध में दी ये अहम जानकारी



मरीज की शिकायत के बाद जारी किया गया था सर्कुलर
दिल्ली के प्रमुख अस्पतालों में से एक जीबी पंत इंस्टीट्यूट ऑफ पोस्टग्रेजुएट मेडिकल एजुकेशन एंड रिसर्च (जीआईपीएमईआर) ने शनिवार को जारी सर्कुलर में नर्सों से कहा गया था कि वे बातचीत के लिए केवल हिंदी और अंग्रेजी का उपयोग करें या कड़ी कार्रवाई का सामना करने के लिए तैयार रहें। जीबी पंत नर्सेज एसोसिएशन अध्यक्ष लीलाधर रामचंदानी का कहना है कि यह सर्कुलर एक मरीज की ओर से स्वास्थ्य विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी को अस्पताल में मलयालम भाषा के इस्तेमाल के संबंध में भेजी गई शिकायत के बाद जारी किया गया। अस्पताल प्रशासन एक शिकायत में कहा गया था कि नर्सिंग स्टाफ अपनी लोकल भाषा मलयालम में बात करते हैं। शिकायतकर्ता ने कहा था इससे मरीजों को उनकी बात समझने में परेशानी होती है।

यह भी पढ़ें

तीसरी लहर से पहले खुशखबरी: इस महीने आ सकती है बच्चों की स्वदेशी वैक्सीन, टीके के तीसरे चरण का परीक्षण पूरा


राहुल गांधी और शशि थरूर ने किया जमकर विरोध
जीबी पंत अस्पताल के इस फरमान का काफी विरोध किया जा रहा है। यह मामला सियासी रूप ले लिया और कई नेताओं ने इसका जमकर विरोध किया। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी और कांग्रेस नेता शशि थरूर सहित कई नेताओं ने इसका खूब विरोध किया। वहीं थरूर ने इसको भारतीय नागरिकों के बुनियादी मानवाधिकारों का हनन बताया है। ट्वीट करते हुए उन्होंने लिखा, यह सोचकर भी दिमाग ठिठक जाता है कि लोकतांत्रिक भारत में एक सरकारी संस्थान अपने नर्सों को उनकी मातृभाषा में बात करने से मना कर सकता है। यह अस्वीकार्य है और भारतीय नागरिकों के बुनियादी मानवाधिकारों का हनन है।

ट्रेंडिंग वीडियो