गृह मंत्रालय का बड़ा फैसलाः Rajiv Gandhi Foundation समेत तीन ट्रस्टों के Funding की होगी जांच, बनाई कमेटी

  • Rajiv Gandhi Foundation पर उठ रहे सवालों के बीच Ministry of Home Affairs का बड़ा फैसला
  • Rajiv Gandhi Foundation समेत तीन ट्रस्टों के लेन-देन की जांच के दिए आदेश
  • बनाई गई Inter-Ministerial Committee

नई दिल्ली। राजीव गांधी फाउंडेशन ( Rajiv Gandhi Foundation ) की फंडिंग को लेकर पिछले दिनों से उठ रहे सवालों के बीच केंद्रीय गृहमंत्रालय ( Ministry of Home Affairs ) ने बड़ा फैसला लिया है। दरअसल राजीव गांधी फाउंडेशन की फंडिंग ( Rajiv Gandhi Foundation Funding ) को लेकर आरोप लग रहे थे कि इसको चीन द्वारा फंडिंग मिल रही है। वहीं, संस्थान पर उठ रहे सवालों के बीच गृह मंत्री अमित शाह ( Amit Shah ) ने इसकी फंडिंग को लेकर एक अंतर-मंत्रालयी समिति का गठन किया है।

मंत्रालय ने कहा है कि राजीव गांधी फाउंडेशन समेत राजीव गांधी चैरिटेबल ट्रस्ट और इंदिरा गांधी मेमोरियल ट्रस्ट की फंडिंग की भी जांच होगी। इसके लिए कमेटी का गठन किया गया है।

कोरोना से जंग जीतकर लौटे शख्स का स्वागत करना पड़ा महंगा, जानें कैसे बढ़ी मुश्किलें

कांग्रेस नेता शत्रुघ्न सिन्हा ने लंबे समय के बाद तोड़ी खामोशी, बीजेपी सरकार पर यूं कसा तंज

ये काम करेगी समिति
गृह मंत्रालय की तरफ से एक समिति का गठन किया गया है, जिसका मुख्य काम इस संस्थान की फंडिंग और इसकी ओर से किए गए उल्लंघनों की जांच करना होगा।

इनकी अगुवाई में काम करेगी समिति
इस समिति की अगुवाई प्रवर्तन निदेशालय ( ED ) के विशेष निदेशक करेंगे। अंतर-मंत्रालयी टीम की जांच के दायरे में राजीव गांधी चैरिटेबल ट्रस्ट और इंदिरा गांधी मेमोरियल ट्रस्ट की ओर से किया गया कानूनों का उल्लंघन भी शामिल होगा।

गृह मंत्रालय के प्रवक्ता ने ट्वीट कर इस बारे में जानकारी दी। उन्होंने कहा- केंद्रीय गृह मंत्रालय ने राजीव गांधी फाउंडेशन, राजीव गांधी चैरिटेबल ट्रस्ट और इंदिरा गांधी मेमोरियल ट्रस्ट की जांच के लिए अंतर-मंत्रालयी समिति का गठन किया है।

यह समिति पीएमएलए, आयकर अधिनियम, एफसीआरए आदि के विभिन्न कानूनी प्रावधानों के नियमों के उल्लंघन की जांच करेगी। प्रवर्तन निदेशालय ( ED ) के विशेष निदेशक समिति का जिम्मा संभालेंगे।

बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने लगाए थे गंभीर आरोप
आपको बता दें कि भारत और चीन में चल रहे तनाव के बीच बीजेपी ने राजीव गांधी फाउंडेशन को चीन से फंडिंग का मुद्दा उठाया था। पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ( JP Nadda ) ने एमपी में वर्चुअल रैली को संबोधित करते हुए कांग्रेस पर जोरदार हमला किया था, उन्होंने कहा था कि राजीव गांधी फाउंडेशन को चीन से फंडिंग मिलती थी।

यह है पूरा मामला
भारत-चीन सीमा विवाद के बीच कांग्रेस ने सरकार को घेरना शुरू किया तो पलटवार में बीजेपी ने कांग्रेस को भी उसके जाल में फंसा लिया। जेपी नड्डा ने कहा - जब अगस्त 2017 में चीन और भारत का स्टैंड ऑफ हो रहा था, उस समय राहुल गांधी चीन के राजदूत के साथ गुपचुप मुलाकात कर रहे थे, 2005-06 में चीन और चाइनीज एंबेसी ने राजीव गांधी फाउंडेशन को 300 हजार करोड अमरीकी डॉलर दिया था।

इसके अलावा देश के लिए जो प्रधानमंत्री राहत कोष बनाया गया था, उससे भी यूपीए सरकार ने पैसा राजीव गांधी फाउंडेशन को दिया था।

कांग्रेस ने आरोपों को बेबुनियाद बताया
जेपी नड्डा की ओर से लगाए गए आरोपों को कांग्रेस ने बेबुनियाद बताया। कांग्रेस ने कहा कि राजीव गांधी फाउंडेशन देश सेवा के लिए काम करता है।

Amit Shah
Show More
धीरज शर्मा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned