अब पूर्णिया की 3 किलोमीटर लंबी सड़क सुशांत सिंह राजपूत पथ कहलाएगी, फोर्ड कंपनी चौक का नाम भी बदला

  • फोर्ड कंपनी चौक अब सुशांत सिंह राजपूत चौक के नाम से जाना जाएगा।
  • Sushant Singh Rajput हर दिल अजीज अभिनेता थे। उन्हें भूलना आसान नहीं होगा।
  • Madhubani से माता चौक जाने वाली सड़क का नाम सुशांत सिंह राजपूत पथ किया गया।

नई दिल्ली। पूर्णिया नगर निगम की स्थायी समिति ( Purnia Municipal Corporation Standing Committee ) ने पांच दिन पहले एक सड़क औ एक चौक का नाम बदलकर सुशांत के नाम पर रखने का फैसला लिया था। स्थायी समिति ( Standing Committee ) के इस फैसले के बाद अब शहर में तीन किलोमीटर लंबी एक सड़क सुशांत सिंह राजपूत पथ ( Sushant Singh Rajput Path ) कहलाएगी। इसी तरह शहर के फोर्ड कंपनी चौक को अब सुशांत सिंह राजपूत चौक के नाम से जाना जाएगा।

मेयर सविता सिंह ( Mayor Savita Singh ) ने बोर्ड लगाकर विधिवत दोनों जगह को सुशांत सिंह राजपूत के नाम कर दिया। बता दें कि पूर्णिया सुशांत सिंह राजपूत का गृहनगर है। वह बड़हरा कोठी प्रखंड के मलडीहा गांव के रहने वाले थे।

एमईए में जेएस महावीर सिंघवी बोले - कश्मीर भारत का अभिन्न अंग, पाक अपनी फितरत से बाज आने को तैयार नहीं

सुशांत को भूलना आसान नहीं

पूर्णिया ( Purnia ) की मेयर सविता देवी ने कहा कि सुशांत सिंह राजपूत हर दिल अजीज अभिनेता थे। उन्हें भूलना आसान नहीं होगा। देशभर में उनके चाहने वाले उनको श्रद्धांजलि दे रहे हैं। हमने भी अपनी तरफ से और शहर के लोगों की तरफ से अभिनेता सुशांत को श्रद्धांजलि देते हुए फोर्ड कंपनी चौक का नाम बदल कर सुशांत सिंह राजपूत चौक किया है।

सीबीआई से जांच की मांग

मधुबनी से माता चौक जाने वाली सड़क का नाम भी सुशांत सिंह राजपूत पथ किया गया। मेयर ने यह भी कहा कि उन्होंने प्रधानमंत्री को पत्र लिखकर सुशांत सिंह की मौत की सीबीआई जांच ( CBI investigation ) कराने की मांग की है।

मधुबनी से माता चौक का नामकरण कार्यक्रम में मौजूद बिहार विकास मोर्चा के अध्यक्ष राकेश सिंह ने कहा कि सुशांत सिंह पूर्णिया वालों के लिए गुलशन था। उनके जाने से पूर्णिया का गुलशन उजड़ गया।

इंडिया ग्‍लोबल वीक 2020 में पीएम मोदी बोले - कोरोना और अर्थव्यवस्था पर एक साथ हमारा संघर्ष जारी है

गौरतलब है कि बॉलीवुड अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत ( Bollywood Sushant Singh Rajput ) ने 14 जून को बांद्रा स्थित अपने अपार्टमेंट में कथित तौर पर फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली थी। वह 34 वर्ष के थे। बड़े पर्दे पर राजपूत की आखिरी फिल्म नितेश तिवारी निर्देशित छिछोरे थी। बहुत कम समय में उन्होंने बॉलीवुड में अपनी अलग पहचान बना ली थी। माना जा रहा है कि वो बॉलीवुड में भाईभतीजावाद और गुटबंदी के शिकार हुए।

Show More
Dhirendra
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned