प्रसिद्ध शास्त्रीय गायक पंडित राजन मिश्रा का कोरोना से निधन, पीएम मोदी ने जताया शोक

पद्म भूषण पंडित राजन मिश्रा का कोरोना के कारण रविवार को निधन हो गया। हृदय में समस्या होने के बाद उन्हें दिल्ली के सेंट स्टीफंस अस्पताल में भर्ती कराया गया था।

नई दिल्ली। कोरोना महामारी की वजह से राजधानी दिल्ली समेत कई राज्यों के हालात बहुत खराब हैं। अस्पतालों में ऑक्सीजन और वेंटिलेटर की भारी कमी की वजह से कई लोगों को अपनी जान गंवानी पड़ी है। अब फिल्म जगत के एक मशहूर शख्सियत ने कोरोना की वजह से अलविदा कह दिया।

पद्मभूषण राजन मिश्रा का रविवार को कोरोना की वजह से निधन हो गया। उन्होंने गंगाराम अस्पताल में आखिरी सांस ली। कोरोना से संक्रमित राजन मिश्रा को तमाम कोशिशों के बावजूद वेंटीलेटर नहीं मिल सका और फिर रविवार की शाम करीब 6:30 बजे उनका निधन हो गया। रविवार की सुबह पंडित मिश्रा की हालत गंभीर थी।

यह भी पढ़ें :- Corona Effect: दिल्ली के स्कूलों में चल रही सभी कक्षाएं अगले आदेश तक बंद, सीएम केजरीवाल ने की घोषणा

जानकारी के मुताबिक, राजन मिश्रा को कोरोना के साथ हृदय की भी कुछ समस्या आई थी। ट्विटर पर कुछ लोगों ने उनके लिए एक बेड और ऑक्सीजन की मदद मांगी। इसके बाद आईएएस अधिकारी संजीव गुप्ता की कोशिशों के बाद उन्हें सेंट स्टीफंस अस्पताल में भर्ती कराया गया था। बता दें कि बनारस घराने की मशहूर जोड़ी पंडित राजन मिश्र का अपने छोटे भाई पंडित साजन मिश्र के साथ एक खूबसूरत रिश्ता रहा है। लेकिन अब यह जोड़ी टूट गई। पंडित साजन मिश्रा अकेले रह गए।

पीएम मोदी ने जताया शोक

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पंडित राजन मिश्रा के निधन पर शोक व्यक्त किया है। उन्होंने ट्वीट करते हुए लिखा 'शास्त्रीय गायन की दुनिया में अपनी अमिट छाप छोड़ने वाले पंडित राजन मिश्रा जी के निधन से अत्यंत दुख पहुंचा है। बनारस घराने से जुड़े मिश्र जी का जाना कला और संगीत जगत के लिए एक अपूरणीय क्षति है। शोक की इस घड़ी में मेरी संवेदनाएं उनके परिजनों और प्रशंसकों के साथ हैं। ओम शांति!'

अस्पताल में नहीं मिल सका वेंटिलेटर

जानाकारी के अनुसार, जब पंडित मिश्र की स्थिति नाजुक बनी हुई थी और उन्हें वेंटिलेटर की सख्त जरूरत थी, तब सेंट स्टीफन हॉस्पिटल में समय रहते वेंटिलेटर नहीं मिल सका। इसके बाद उन्हें दिल्ली के गंगाराम अस्पताल में भर्ती करवाया गया। वहां पर उन्हें वेंटिलेटर तो मिला लेकिन काफी देर होने की वजह से वे दुनिया को अलविदा कह गए।

यह भी पढ़ें :- Delhi: नाइट कर्फ्यू में मूवमेंट के लिए ई-पास जरूरी, दिल्ली मेट्रो ने बदले प्रवेश नियम

इससे पहले पवन झा नाम के एक ट्विटर यूजर ने पंडित राजन मिश्रा के लिए सोशल मीडिया पर मदद की गुहार लगाई थी। इसके जवाब में केंद्रीय गृह मंत्रालय के अंतर्गत आईएससीएस के सचिव संजीव गुप्ता ने एक ट्वीट में लिखा, मुझे किसी तरह से अस्पताल के कोविड इंचार्ज डॉ. जॉन का नंबर मिला। ज्यादा-से-ज्यादा ऑक्सीजन देकर वे लोग अपना बेहतर देने की कोशिश कर रहे हैं। फिलहाल अस्पताल में वेंटिलेटर के साथ आईसीयू बेड उपलब्ध नहीं है। कृपया मुझे उनका बेड नंबर भी दे दें। आपने जो फोन नंबर दिया था, वो लगातार व्यस्त बता रहा है।

जानिए कौन हैं राजन मिश्रा

राजन मिश्रा भारत के प्रसिद्ध शास्त्रीय गायक थे। भारत सरकार ने उन्हें 2007 में कला के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। राजन मिश्रा ने 1978 में श्रीलंका में अपना पहला संगीत कार्यक्रम दिया और इसके बाद उन्होंने जर्मनी, फ्रांस, स्विट्जरलैंड, ऑस्ट्रिया, संयुक्त राज्य अमेरिका, ब्रिटेन, नीदरलैंड, यूएसएसआर, सिंगापुर, कतर, बांग्लादेश समेत दुनिया भर के कई देशों में प्रदर्शन किया।

इसके बाद दोनों भाइयों ने पूरे विश्व में खूब प्रसिद्धी हासिल की। पंडित राजन और साजन मिश्रा का मानना था कि जैसे मनुष्य का शरीर पांच तत्वों से मिलकर बना है, वैसे ही संगीत के सात सुर ‘सारेगामापाधानी’ पशु-पक्षियों की आवाज से बनाए गए हैं।

पीएम नरेंद्र मोदी
Anil Kumar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned