script PM मोदी 2 अगस्त को लॉन्च करेंगे ‘ई-रुपी’, सरकारी सेवाओं का फायदा आम आदमी तक पहुंचेगा | PM Modi will laungh E-Rupee on 2 august to benefit govt scheme benefic | Patrika News

PM मोदी 2 अगस्त को लॉन्च करेंगे ‘ई-रुपी’, सरकारी सेवाओं का फायदा आम आदमी तक पहुंचेगा

locationनई दिल्लीPublished: Aug 01, 2021 02:50:40 pm

प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी सोमवार (2 अगस्त 2021) को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से ‘ई-रुपी’ लॉन्‍च करेंगे।

modiji.png
नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी सोमवार (2 अगस्त 2021) को ‘ई-रुपी’ लॉन्‍च करेंगे। यह एक क्यूआर कोड या एसएमएस स्ट्रिंग-आधारित एक इलेक्ट्रॉनिक वाउचर या ई-वाउचर है, जिसके जरिए सरकारी योजनाओं के सीधे अपने मोबाइल पर ही पैसा प्राप्त कर सकेंगे। नेशनल पेमेंट्स कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया ने इस ऐप को अपने यूपीआई प्लेटफॉर्म पर वित्तीय सेवा विभाग, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय और राष्ट्रीय स्वास्थ्य प्राधिकरण के सहयोग से विकसित किया है।
यह भी पढ़ें

दिल्ली में कोरोना टीकाकरण एक करोड़ पार, सीएम केजरीवाल ने कहा- शुक्रिया

पीएम मोदी के इस महत्वाकांक्षी प्रोजेक्ट के तहत लाभार्थी बिना किसी बिचौलिए के सीधे अपने मोबाइल से जुड़े बैंक खाते में पैसों का भुगतान प्राप्त कर सकेंगे। इस निर्बाध एकमुश्त भुगतान व्‍यवस्‍था के उपयोगकर्ता अपने सेवा प्रदाता के केंद्र पर कार्ड, डिजिटल भुगतान ऐप या इंटरनेट बैंकिंग एक्सेस के बगैर ही वाउचर की राशि को प्राप्‍त करने में सक्षम होंगे।
यह भी पढ़ें

कोरोना वैक्सीन की अब तक 47.02 करोड़ डोज दी गई, लगातार बढ़ते केस पर सरकार ने लिया एक्शन

सरकार द्वारा विकसित किए गए इस सॉल्यूशन में ई-रुपी बिना किसी फिजिकल इंटरफेस के डिजिटल तरीके से लाभार्थियों को लाभ दाताओं के साथ जोड़ता है और इस बात को अच्छे से सुनिश्चित करता है कि लेन-देन पूरा होने के बाद ही सेवा प्रदाता को पेमेंट किया जाए। प्री-पेड होने की वजह से इस सॉल्यूशन को काम में लेने पर किसी बिचौलिए की जरूरत नहीं पड़ती और सही समय पर पूरा भुगतान दिया जा सकता है।
यह भी पढ़ें

आज से बदल गए हैं बैंक और पैसे से जुड़े ये नियम, गलती होने पर देनी होगी पेनल्टी

सरकार द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार इस सॉल्यूशन का उपयोग मातृ और बाल कल्याण योजनाओं के तहत दवाएं और पोषण संबंधी सहायता, टीबी उन्मूलन कार्यक्रमों, आयुष्मान भारत प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना जैसी स्‍कीमों के तहत दवाएं और निदान, उर्वरक सब्सिडी, इत्यादि देने की योजनाओं के तहत सेवाएं उपलब्ध कराने में किया जा सकेगा। निजी क्षेत्र से जुड़े सेवा प्रदाता भी अपने कॉर्पोरेट सामाजिक दायित्व कार्यक्रमों को पूरा करने के लिए इस सेवा का उपयोग कर सकेंगे।

ट्रेंडिंग वीडियो