रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने नकारात्मक सूची के 108 सैन्य उपकरणों के आयात पर लगाया बैन

रक्षा मंत्रालय ने दूसरी सूची रक्षा क्षेत्र से जुड़े उद्योगों के साथ कई बार विचार करने के बाद तैयार की है। घरेलू उद्योगों को बढ़ावा देने के लिए उठाया कदम।

नई दिल्ली। भारत सरकार ने घरेलू रक्षा उद्योग को बढ़ावा देने के लिए सोमवार को 108 सैन्य हथियारों और प्रणालियों के आयात पर पाबंदी लगाई है। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने सोमवार को ऐलान किया कि अगली पीढ़ी के कार्वेट, टैंक इंजन,रडार समेत ऐसी 108 वस्तुओं के आयात पर रोक लगाने की मंजूरी दी है।

Read More: झारखंड सरकार का फैसला, डॉक्टरों और स्वास्थ्यकर्मियों को देगी छह माह का सेवा विस्तार

बीते साल रक्षा आयात के लिए जारी पहली नकारात्मक सूची में 101 वस्तुएं शामिल थीं। अधिकारियों ने बताया दूसरी नकारात्मक सूची में 108 वस्तुओं के आयात पर दिसंबर 2021 से दिसंबर 2025 तक प्रतिबंध रहेगा। उन्होंने कहा कि रक्षा मंत्रालय ने दूसरी सूची रक्षा क्षेत्र से जुड़े उद्योगों के साथ कई बार विचार करने के बाद तैयार की है।

रक्षा आयात के नकारात्मक वस्तुओं की पहली सूची में आर्टिलरी गन, असॉल्ट राइफलें, लड़ाकू जलपोत, सोनार प्रणाली, मालवाहक विमान, हल्के लड़ाकू विमान (एलसीएच), रडार जैसे हथियार और प्रणालियां शामिल थीं। अब इस दूसरी सूची को रक्षा मंत्री ने मंजूरी दे दी है।

Read More: Covid-19: तमिलनाडु सरकार ने कोरोना से पैरेंट्स को खोने वाले बच्चों को मुफ्त शिक्षा और 3 हजार मासिक भत्ता देने की घोषणा की

रक्षा मंत्रालय के अनुसार पीएम नरेंद्र मोदी के आत्मनिर्भर भारत को साकार करने के लिए यह कदम उठाया गया है। राजनाथ सिंह ने सैन्य मामलों के विभाग द्वारा 108 वस्तुओं की दूसरी सकारात्मक स्वदेशीकरण सूची को अधिसूचित करने के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है। मंत्रालय के अनुसार 108 वस्तुओं को अब रक्षा अधिग्रहण प्रक्रिया डीएपी 2020 के प्रावधानों के अनुसार स्वदेशी स्रोतों से खरीदा जाएगा।

Mohit Saxena
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned