राकांपा-शिवसेना ने पीएम मोदी पर लगाया भेदभाव का आरोप, कहा- तूफान से प्रभावित महाराष्ट्र का दौरा क्यों नहीं

राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) ने पूछा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी चक्रवाती तू्फान तौकते से प्रभावित महाराष्ट्र के इलाकों का दौरा क्यों नहीं कर रहे हैं।

 

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को चक्रवाती तूफान तौकते से प्रभावित गुजरात और दीप का हवाई सर्वेक्षेण किया। चक्रवाती तू्फान से प्रभावित महाराष्ट्र के इलाकों को दौरा नहीं करने कारण राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) ने प्रधानमंत्री मोदी पर भेदभाव करने का आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री से ऐसी उम्मीद नहीं थी। राकांपा ने कहा कि चक्रवाती तूफान से महाराष्ट्र में काफी नुकसान हुआ है। लेकिन पीएम मोदी ने महाराष्ट्र को छोड़कर अपने गृह नगर गुजरात और दीव में तूफान प्रभावित कुछ इलाकों का इवाई सर्वेक्षण कर रहे है।

यह भी पढ़ें :— शुभ संकेत धीमी पड़ी कोरोना की रफ्तार: देश के 200 जिलों में कम हुए रोजाना केस, पॉजिटिविटी रेट में भी घटी

महाराष्ट्र के साथ भेदभाव क्यों
महाराष्ट्र के मंत्री एवं राकांपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता नवाब मलिक ने कहा कि क्या यह स्पष्ट तौर पर भेदभाव नहीं है। गुजरात में देर रात दस्तक देने से पहले, चक्रवात ने कई जान ले लीं। इतना ही नहीं महाराष्ट्र के कई इलाकों खासकर तटीय इलाकों में नुकसान किया है। मलिक ने पूछा, प्रधानमंत्री मोदी दमन, दीव और गुजरात में चक्रवात ताउते से प्रभावित इलाकों का हवाई सर्वेक्षण कर रहे हैं। महाराष्ट्र में इससे प्रभावित कुछ इलाकों का क्यों नहीं। क्या यह साफ-साफ भेदभाव नहीं है। बता दें कि राकांपा महाराष्ट्र में शिवसेना और कांग्रेस के साथ महाविकास आघाड़ी सरकार की घटक है। शिवसेना के सांसद संजय राउत ने निशाना साधते हुए कहा कि प्रधानमंत्री महाराष्ट्र के चक्रवात प्रभावित क्षेत्रों का हवाई सर्वेक्षण इसलिए नहीं कर रहे हैं क्योंकि वह जानते हैं कि इस राज्य की कमान उनके गृह राज्य गुजरात के विपरीत एक मजबूत मुख्यमंत्री के हाथों में है।

 

यह भी पढ़ें :— चक्रवाती तूफान तौकते का कहर : समुद्र के बीच में फंसे थे 21 लोग, कोस्ट गार्ड ने इस तरह बचाई जान


गुजरात में तूफान से 45 लोगों की मौत
आपको बता दें कि गुजरात में चक्रवाती तूफान के कारण तटीय इलाकों में भारी नुकसान हुआ। बिजली के खंभे तथा पेड़ उखड़ गए तथा कई घरों व सड़कों को भी नुकसान पहुंचा। इस दौरान हुई घटनाओं में करीब 45 लोगों की मौत भी हुई है। चक्रवाती तूफान के कारण 200 से अधिक तालुकाओं में बारिश हुई। एहतियाती तौर पर राज्य सरकार ने पहले ही दो लाख से अधिक लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचा दिया था। तूफान के असर से पिछले 24 घंटे में गुजरात के सभी 33 जिलों के कुल 251 में से 226 तालुका में बरसात भी हुई है और इसमें सर्वाधिक 226 मिलीमीटर मध्यवर्ती खेड़ा जिला के नडियाद में दर्ज की गई है। 24 तालुक़ा में 100 मिलीमीटर या अधिक, 86 तालुक़ा में 50 मिलीमीटर या अधिक और 139 में 25 मिलीमीटर या अधिक बरसात हुई है।

Narendra Modi
Shaitan Prajapat
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned