दुनिया की सबसे महंगी करंसी, एक बिटकॉइन की कीमत 17 लाख रुपए

Highlights.

- बिटकॉइन का मार्केट कैप बढ़कर 31 लाख करोड़, एक साल में साढ़े तीन गुना बढ़ी कीमत

- एक साल के भीतर करंसी ने अपनी कीमत में 349 फीसदी की ग्रोथ दर्ज की है

- एक बिटकॉइन की कीमत 23243 अमरीकी डॉलर पर पहुंच गई

नई दिल्ली.

सिक्के जैसी दिखने वाली क्रिप्टोकरंसी बिटकॉइन ने अब तक के सारे रिकॉर्ड ध्वस्त कर दिए हैं। एक साल के भीतर करंसी ने अपनी कीमत में 349 फीसदी की ग्रोथ दर्ज की है, जो अब की किसी भी करंसी की तेजी का इतिहास है। इसके साथ ही एक बिटकॉइन की कीमत 23243 अमरीकी डॉलर पर पहुंच गई है, यानि भारतीय मुद्रा में करीब 17 लाख 10 हजार रुपए। इसके साथ ही बिटकॉइन का मार्केट कैप 31 लाख करोड़ को पार कर गया है। लॉकडाउन खुलने के बाद करंसी ने दो सौ गुना की तेजी हासिल की है।

बिटकॉइन की तेजी की दो बड़ी वजह

1— बिटकॉइन में सोने जैसा भरोसा
बिटकॉइन ठीक सोने जैसा निवेश है, जिसे सुरक्षित माना जाता है। कोविड के बाद लोग आर्थिक जोखिमों से घबराए हुए हैं, ऐसे में सुरक्षित निवेश चाहते हैं। यही वजह है कि लोगों ने शुरुआती दौर में सोने में निवेश किया और उसके भाव तेजी से बढ़े। बड़े निवेशकों ने बिटकॉइन को निवेश का विकल्प बनाया। यह बैंकों के झंझट से मुक्त है, लेन-देन ओपन है और इसमें कोई हैकिंग या छीना—झपटी नहीं कर सकता है।

2— बड़ी कंपनियों का बड़ा निवेश
बिटकॉइन में भरोसे की बड़ी वजह निवेशकों में बड़े नामों का शामिल होना है। बिट गेट्स से लेकर टि्वटर के सीईओ जैक दोरसे निवेश कर चुके हैं। विश्व प्रसिद्ध कंपनी गुगेनहीम पार्टनर्स अपनी 5.3 बिलियन डॉलर की प्रॉपर्टी का 10 फीसद हिस्सा बिटकॉइन में लगाएगी। अमेरिकी कंपनी पे-पल ने बिटकॉइन से लेन-देन को मंजूर दी है। वॉल स्ट्रीट की कई कंपनियों निवेश के लिए कतार में हैं। इन कंपनियों को लगता है कि ब्याज दर जैसी मुसीबतों से छुटकारा पाते हुए बिटकॉइन को नया ठिकाना बनाया जा सकता है।

b-2.jpg

क्या है क्रिप्टोकरंसी
क्रिप्टो करेंसी एक ऐसी मुद्रा है जो कंप्यूटर एल्गोरिथ्म पर बनी होती है। यह एक स्वतंत्र मुद्रा है जिसका कोई मालिक नहीं होता। यह करेंसी किसी भी एक अथॉरिटी के काबू में भी नहीं होती, जिससे इसके भावों में हेर—फेर नहीं किया जा सकता है। इसे वर्चुअल करंसी के तौर पर भी जाना जाता है। दुनिया भर में 1500 से अधिक क्रिप्टोकरेंसी हैं। हाल में फेसबुक ने भी खुद की करंसी लिब्रा का ऐलान किया था।

देश में क्रिप्टोकरंसी में नई उम्र का निवेशक
देश में दो टॉप करंसी एक्सचेंज कंपनी कॉइनडीसीएक्स और वजीर एक्स के मुताबिक, वह देश में रोजाना 290 लाख से लेकर 360 लाख तक के सौदे कर रहे हैं, जिसमें से 80 फीसदी निवेशक भारतीय युवा है। जिसकी उम्र 25 से 40 साल के बीच में है। देश में क्रिप्टोकरंसी को लीगल मंजूरी मिलने के बाद निवेशकों में तेजी आ रही है।

b-3.jpg

एक साल में 349 फीसदी की ग्रोथ

माह कीमत यूएस डॉलर में
17 दिसंबर—19 — 6,641 भारतीय कीमत करीब 4.88 लाख
जनवरी—20 — 9,349
फरवरी 20 — 8,543
मार्च 20 — 6,412
अप्रेल 20 — 8,629
मई 20 — 9,454
जून 20 — 9,135
जुलाई 20 — 11,333
अगस्त 20 — 11,644
सितंबर 20 — 10,776
अक्टूबर 20 — 13,797
नवंबर 20 — 19,698
17 दिसंबर 20 — 23,243 भारतीय कीमत करीब 17.10 लाख रुपए

टॉप —5 क्रिप्टोकरंसी
बिटकॉइन — 23243
इथेरियम — 663
एक्सआरपी — 0.5
टेथर — 0.9
लाइटकॉइन — 100

Ashutosh Pathak
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned