ऑस्ट्रेलिया में क्यों खास है इस बार का चुनाव, किन मुद्दों पर चुनी जाएगी अगली सरकार

ऑस्ट्रेलिया में क्यों खास है इस बार का चुनाव, किन मुद्दों पर चुनी जाएगी अगली सरकार

Anil Kumar | Publish: May, 16 2019 07:03:45 AM (IST) | Updated: May, 17 2019 11:59:32 AM (IST) विश्‍व की अन्‍य खबरें

  • ऑस्ट्रेलिया में 18 मई को आम चुनाव के लिए डाले जाएंगे वोट।
  • ऑस्ट्रेलिया में मतदान करना अनिवार्य है, वोट नहीं करने पर जुर्माना लगाया जाता है।
  • मतदाताओं में इस बार जलवायु परिवर्तन और देश का आर्थिक विकास अहम मुद्दा है।

मेलबर्न। ऑस्ट्रेलिया ( Australia ) दुनिया के सबसे पुराने लोकतांत्रिक देशों में से एक है। लोकतंत्र में सबसे महत्वपूर्ण होता है चुनाव और आम लोगों के द्वारा चुनी हुई सरकार का शासन। इससे लोकतंत्र मजबूत होता है और आम जन के बीच समानता का भाव प्रकट होता है। इसी कड़ी में ऑस्ट्रेलिया में लोकतंत्र का महापर्व आगामी शनिवार (18 मई) को मनाया जाएगा, जिसके तहत देश की जनता अपने नए प्रधानमंत्री का चुनाव करेगी। ऑस्ट्रेलिया में इस बार का चुनाव कई मसलों पर अपने आप में खास है| सत्ताधारी पार्टी यानी प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिसन ( prime minister Scott Morrison ) के लिए कई चुनौतियां भी सामने है। अब देखना होगा कि ऑस्ट्रेलिया की जनता अपने नए प्रधानमंत्री के चुनाव के लिए किन मुद्दों पर वोट डालती है।

ऑस्ट्रेलिया आम चुनाव

पीएम स्कॉट मॉरिसन के लिए चुनौतियां

ऑस्ट्रेलिया की जनता ने बीते 12 वर्षों में 6 प्रधानमंत्री बनते देखें हैं। किसी ने भी अपना कार्यकाल पूरा नहीं किया। इसका खामियाजा देश की जनता को उठाना पड़ा है। बीते 12 वर्षों में 6 प्रधानमंत्रियों का बदलना यह दर्शाता है कि ऑस्ट्रेलिया में राजनीतिक घमासान जोरों पर है, क्योंकि पार्टियों की आतंरिक लड़ाई के कारण तकरीबन हर प्रधानमंत्री को अपने पद से इस्तीफा देना पड़ा है| मौजूदा समय में भी पीएम स्कॉट मॉरिसन गठबंधन की सरकार की अगवाई कर रहे हैं। उन्हें उम्मीद है कि जनता के लिए जो उन्होंने काम किया है खास कर टैक्स कटौती और ऑस्ट्रेलिया की अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाना, उन्हें चुनाव में फिर से जीता सकता है। हालांकि उनके लिए कठिन चुनौती है। क्योंकि देश का आर्थिक विकास काफी धीमा रहा है और देशभर में जलवायु परिवर्तन ( climate change ) एक बहुत बड़ा मुद्दा रहा है। पिछले कुछ समय से देश में सबसे अधिक तापमान दर्ज किया गया और लोग गर्मी से बेहाल रहे। वहीं विपक्षी दल लेबर पार्टी के नेता बिल शॉर्टन आम नागिरकों के बीच चुनाव प्रचार करते हुए सरकार की नाकामियां गिना रहे हैं और जनता से वादा कर रहे हैं कि यदि वह सत्ता में आए तो शिक्षा और स्वास्थ्य सेवा को बेहतर करने के साथ-साथ एक निष्पक्ष और भयमुक्त ऑस्ट्रेलिया बनाएंगे।

ऑस्ट्रेलिया आम चुनाव

शनिवार को होते हैं चुनाव

ऑस्ट्रेलिया में चुनाव का दिन काफी पहले से तय होता है। इस बार 46 वें संसद के सदस्यों का चुनाव करने के लिए ऑस्ट्रेलियाई संघीय चुनाव शनिवार 18 मई 2019 को होगा। मतदान के लिए सुबह 8 बजे से शाम 6 बजे तक मतदान केंद्र खुले रहेंगे। सामान्य तौर पर स्कूलों, चर्चों या अन्य सामुदायिक स्थानों पर मतदान केंद्र बनाए गए हैं। इस बार ऑस्ट्रेलिया में 16.5 मिलियन मतदाता अपने मदाधिकार का प्रयोग करने के लिए योग्य हैं। यहां पर मतदान करने की उम्र 18 वर्ष है। सबसे बड़ी बात कि ऑस्ट्रेलिया में मतदान करना अनिवार्य है और यदि कोई मतदाता वोट नहीं करता है तो उसे जुर्माना भरना पड़ता है।

ट्रेड वॉर: शी जिनपिंग ने डोनाल्ड ट्रंप पर बोला हमला, कहा- एक सभ्यता को सर्वश्रेष्ठ मानना मूर्खता

कैसे चुनाव होता है?

ऑस्ट्रेलिया की संसद यानी लोकसभा ( House of Representatives ) में 150 संसद सदस्य होते हैं, जबकि सीनेट ( Upper House ) में सदस्यों की संख्या 76 है। लोकसभा के सदस्यों के लिए चुनाव हर तीन साल में होते हैं। इसमें मतदाता अपने पसंदीदा उम्मीदवार के लिए वोट करता है। मतदाता वोटिंग के दौरान अपने पसंद के उम्मीदवार को प्राथमिकता देता है। मसलन यदि ‘A’ किसी की पहली पसंद है तो उसे 1 पर रखेंगे और फिर बाकी पंसद क्रमानुसार। अब जिस उम्मीदवार को पहले 50 प्रतिशत से अधिक मत मिलते हैं उसे विजेता मान लिया जाता है। यदि किसी को भी 50 फीसदी वोट नहीं मिलता है तो ऐसी स्थिति में सबसे कम वोट पाने वाले उम्मीदवार को बाहर कर दिया जाता है उसके बाद फिर दूसरी वरीयता के आधार पर वोटों को बांट दिया जाता है। इस तरह से 50 फीसदी मत पहुंचने तक यही प्रक्रिया चलती रहती है।

ऑस्ट्रेलिया: मीट उद्योग के खिलाफ मेलबर्न में शाकाहारी समूहों का प्रदर्शन, 38 गिरफ्तार

रविवार की सुबह तो परिणाम की घोषणा

ऑस्ट्रेलिया में मतदान खत्म होने के साथ ही वोटों की गिनती शुरू हो जाती है। ऐसे में यह संभावना है कि चुनाव परिणाम की घोषणा शनिवार की देर रात या फिर रविवार की सुबह तक घोषित हो सकती है। चुनाव से पहले देश में लोगों के मिजाज से लगता है कि पीएम स्कॉट मॉरिसन के लिए वापसी करना आसान नहीं है। ज्यादातर ओपिनियन पोल में बदलाव की ओर संकेत किए गए हैं। न्यूज पोल में दिखाया गया है कि लेबर पार्टी मार्च से लगातार बढ़त बनाई हुई है। इसके पीछे एक वजह यह माना जा रहा है कि बीते 28 वर्षों में ऑस्ट्रेलिया की अर्थव्यवस्था को लेबर पार्टी के नेतृत्व में गति मिली है, जबकि हाल के वर्षों में सत्ताधारी लिबरल या नेशनल गठबंधन पार्टी के कार्यकाल में गिरावट आई है। यही वजह है कि विपक्षी नेता शॉर्टन को मॉरिसन से अधिक वोट मिल रहे हैं जबकि शॉर्टन एक लोकप्रिय चेहरा नहीं है, उन्हें बहुत कम लोग जानते हैं।

केवल मतदान के लिए ऑस्ट्रेलिया से इंडिया अकेली आई एकता, वोट डालने के बाद कही ये बात..

ये हैं अहम मुद्दे

ऑस्ट्रेलिया के आम चुनाव में इस बार कुछ अहम मुद्दे हैं जिनके आधार पर आम जनता नई सरकार का चुनाव कर सकती है। ओपिनियन पोल के हिसाब से अभी तक जो संकेत नजर आ रहे हैं उसके मुताबिक लोगों के लिए देश की गिरती अर्थव्यवस्था बड़ा मुद्दा है। 2018 में ऑस्ट्रेलिया की वार्षिक ग्रोथ 2.8 फीसदी थी और केंद्रीय बैंक ने हाल ही में ब्याज दर में कटौती कर दी, जिसके बाद से विकास दर घटकर इस वित्तीय वर्ष में 1.7 रह गई। इसके अलावा नौकरियों में वृद्धि, बजट अधिशेष और सेवानिवृत्ति में सुरक्षा आदि मुद्दे भी अहम हैं। विपक्षी दल लेबर पार्टी ने अपने चुनावी अभियान में शिक्षा, रोजगार, स्वास्थ्य, और जलवायु परिवर्तन को मुद्दा बनाया है। इस बार के चुनाव में पर्यावरण का मुद्दा भी बड़ा है। लोग जलवायु परिवर्तन को लेकर वोट करते दिखाई दे रहे हैं। विदेश नीति के मामले में सत्ताधारी दल अमरीका और चीन को महत्व दे रहे हैं वहीं लेबर पार्टी अपने पड़ोसी देश इंडोनेशिया, मलेशिया और दक्षिण-पूर्व एशियाई देशों के साथ रिश्ते बढ़ाने की बात कर रहे हैं और आम जनता इससे सहमत भी दिखाई दे रही है।

 

Read the Latest World News on Patrika.com. पढ़ें सबसे पहले World News in Hindi पत्रिका डॉट कॉम पर. विश्व से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर.

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned