दस महीने में 43 बार कोरोना पॉजिटिव आया शख्स, परेशान होकर पत्नी से कहा- अब जीना नहीं चाहता..

ब्रिटने में एक व्यक्ति एक, दो, तीन या पांच बार नहीं बल्कि पिछले दस महीनों में 43 बार कोरोना पॉजिटिव आया है। ये मामला सामने आने के बाद डॉक्टर भी हैरान हैं।

लंदन। कोरोना महामारी के प्रकोप से पूरी दुनिया जूझ रही है और अब तक इस महामारी की चपेट में आने से लाखों लोगों की मौत हो चुकी है, जबकि करोड़ों लोग संक्रमित हुए हैं। हालांकि कोरोना संक्रमण से निपटने के लिए तेजी के साथ टीकाकरण पर जोर दिया जा रहा है।

इसके बावजूद दुनिया के कई देशों में दर्जनों ऐसे मामले सामने आए हैं, जिसमें वैक्सीन लगाने के बाद भी लोग कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। इतना ही नहीं, कई ऐसे मामले सामने आए हैं, जिसमें एक शख्स कई बार कोरोना पॉजिटिव पाया गया है। ऐसे में वैज्ञानिकों व शोधकर्ताओं के पास एक गंभीर सवाल है कि आखिर एक व्यक्ति कितनी बार कोरोना पॉजिटिव हो सकता है।

यह भी पढ़ें :- नई टीकाकरण नीति की शुरुआत, सीधे वैक्सीनेशन सेंटर जाकर वैक्सीन लगवा सकते हैं 18 से 44 उम्र के लोग

इन सबके बीच एक ऐसा मामला सामने आया है, जो बहुत ही हैरान करने और चौंकाने वाला है। दरअसल, ब्रिटने में एक व्यक्ति एक, दो, तीन या पांच, बार नहीं बल्कि 43 बार कोरोना पॉजिटिव आया है। ये मामला सामने आने के बाद डॉक्टर भी हैरान हैं।

इतने लंबे समय तक कोरोना संक्रमित रहने का पहला मामला

मालूम हो कि इंग्लैंड के ब्रिस्टल में रहने वाला एक बुजुर्ग 43 बार कोरोना पॉजिटिव पाया गया। बुजुर्ग व्यक्ति की पहचान डेव स्मिथ के रूप में हुई है, जिनकी उम्र 72 साल है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, डेव स्मिथ लगातार 10 महीने तक कोविड पॉजिटिव रहे हैं। ब्रिटेन में और संभवतः पूरी दुनिया में किसी भी व्यक्ति के इतने लंबे समय तक कोरोना पॉजिटिव रहने का ये पहला मामला है।

जानकारी के अनुसार, डेव स्मिथ रिटायर ड्राइविंग इंस्‍ट्रक्‍टर हैं। कोरोना पॉजिटिव पाए जाने के बाद वे सात बार अलग-अलग अस्पताल में भर्ती हो चुके हैं। बीबीसी को दिए साक्षात्कार में स्मिथ ने ये बताया है कि किस प्रकार से कोरोना वायरस उनके शरीर में इतने दिनों तक मौजूद रहा और इससे उनके शरीर पर क्या-क्या प्रभाव पड़े।

परेशान स्मिथ ने पत्नी से कहा- मुझे मरने दो..

अपने साक्षात्कार में डेव स्मिथ ने बताया है कि उनके शरीर में एनर्जी बिल्कुल ही खत्म हो गई थी। स्मिथ ने कहा- एक रात मुझे लगातार पांच घंटे तक खांसी आई.. मैं जीने की उम्मीद छोड़ चुका था.. मैंने अपनी पत्नी व परिवार से कहा कि अब बस मैं जीना नहीं चाहता.. मुझे मरने दो.. मुझे अस्पताल ले चलो।

यह भी पढ़ें :- सितंबर में बच्चों के लिए कोविड वैक्सीन को मिल सकती है मंजूरी: AIIMS डायरेक्टर डॉ. गुलेरिया

स्मिथ ने आगे बताया, 'मैंने अपनी पत्नी लिन से कहा कि मुझे जाने दो.. मैं खुद में फंसा हुआ महसूस कर रहा हूं.. ये अब बद से बदतर हो चुका है.. मैं शांतिपूर्वक सभी को गुडबाय बोला..।' लिन ने बताया, 'कई बार हमें ऐसा लगा कि स्मिथ तकलीफों को लंबा नहीं खींच पाएंगें।'

इस तरह से हुआ स्मिथ का इलाज

डेव स्मिथ ने आगे बताया कि उनका इलाज एंटी-वायरल दवाओं के मिश्रण से किया गया। अब उनकी रिपोर्ट निगेटिव आ गई है। डॉक्टर से उन्हें ये सूचना मिली है कि उनकी कोरोना रिपोर्ट निगेटिव आई है।

हालांकि, डॉक्टरों ने उन्हें एक सप्ताह तक अस्पताल में रुकने और टेस्ट कराने की सलाह दी है। उनके परिवार ने डॉक्टर्स की सलाह के मुताबिक ही किया है और अब एक सप्ताह बाद अस्पताल से स्मिथ को छुट्टी मिल सकती है।

यह भी पढ़ें :- कोरोना काल में 355 करोड़ की आवास योजना प्रभावित, डेढ़ हजार को नहीं मिली पहली किस्त

स्मिथ ने कहा की उनकी कोरोना रिपोर्ट निगेटिव आने की खुशी में उन्होंने शैम्पेन की बोतल खोलकर जश्न मनाया। हालांकि, वे ड्रिंक नहीं करते हैं लेकिन उस रात शैंम्पेन की बोतल खोल खुशी मनाई।

COVID-19 COVID-19 virus
Show More
Anil Kumar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned