गोल्फ के बहाने ट्रंप और एबे के बीच सियासत की नई बिसात, उत्तर कोरिया के लिए बढ़ेंगी मुश्किलें?

गोल्फ के बहाने ट्रंप और एबे के बीच सियासत की नई बिसात, उत्तर कोरिया के लिए बढ़ेंगी मुश्किलें?

Anil Kumar | Updated: 26 May 2019, 04:19:27 PM (IST) विश्‍व की अन्‍य खबरें

  • चार दिवसीय दौर पर शनिवार को जापान पहुंचे हैं डोनाल्ड ट्रंप।
  • डोनाल्ड ट्रंप जापान के प्रधानमंत्री शिंजो एबे को अपना गोल्फ दोस्त मानते हैं।
  • अब तक दोनों नेता पांच बार एक-दूसरे के साथ गोल्फ खेल चुके हैं।

मोबारा। हाल के दिनों में एक बार फिर से विश्व की सियासत में रिश्ते दरकते नजर आए हैं। आर्थिक और सामरिक महाशक्ति बनने की होड़ में दुनिया की राजनैतिक परिस्थिति में तेजी से बदलाव देखने को मिला है। लिहाजा अमरीका ( America ), चीन ( China ), जापान ( japan ), फ्रांस ( France ), रूस ( Russia ), इजराइल ( Israel ), भारत ( India ), ईरान ( Iran ), उत्तर कोरिया ( North koria ) आदि ऐसे तमाम देश हैं, जो वैश्विक परिदृश्य में अपनी राजीतिक चाल चलने को मजबूर हुआ है। इसी कड़ी में लंबे इंतजार के बाद अमरीका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप अपने चार दिनों के दौरे पर जापान पहुंचे हैं। माना जाता है कि अमरीका और जापान एक-दूसरे के कट्टर समर्थक हैं। लेकिन वैश्विक राजनीति के हालिया घटनाक्रम ने कुछ लकीरें खीचें हैं, जिसको लेकर अमरीका और जापान पशोपेश में है। मसलन उत्तर कोरिया के संबंध हो या फिर ईरान का मामला, दोनों ही स्थिति में कई देशों को सोचने समझने पर विवश किया है। हालांकि ट्रंप जापान के प्रधानमंत्री शिंजो एबे को अपना गोल्फ दोस्त मानते हैं और इसका फायदा दोनों देशों को मिलता रहा है। यह पांचवां अवसर है जब ट्रंप ने शिंजो एबे के साथ गोल्फ खेला है। तो हम समझने की कोशिश करेंगे कि ट्रंप का जापान दौरा किस लिहाज से महत्वपूर्ण है?

अमरीकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की बेटी इवांका ट्रंप ने पीएम मोदी को दी जीत की बधाई

जापान और अमरीका के बीच व्यापार

अमरीका और जापान के बीच हाल के समय में व्यापार में काफी गिरावट देखने को मिला है। दोनों देशों के बीच आर्थिक लेन-देन में भी कमी देखने को मिला है। राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ( President Donald Trump ) लगातार सुरक्षा व्यवस्था को लेकर जापान पर ऑटो और ऑटो पार्ट्स के आयात पर टैरिफ लगाने की धमकी देता रहा है। ट्रंप ने यह कहा है कि यदि अमरीका को यूरोपीय संघ और जापान से कोई रियायत नहीं मिलता है तो अमरीका टैरिफ लगाएगा। अप्रैल में जापान का व्यापार 18 फीसदी सरपल्स 723 येन यानी 6.6 बिलियन डॉलर हो गया है। चीन के साथ भी अमरीका का ट्रेड वार ( Trade War ) शुरू हो गया है और इसी बीच शनिवार को ट्रंप चार दिवसीय जापान दौरे पर टोक्यो पहुंचे हैं। बहरहाल, अब देखना दिलचस्प होगा कि ट्रंप अपने गोल्फ दोस्त शिंजो एबे के साथ किस तरह से व्यापारिक रिश्तों को आगे बढ़ाने के लिए समझौते करते हैं।

इजराइल के पीएम बेंजामिन नेतन्याहू ने पीएम मोदी को दी जीत की बधाई

उत्तर कोरिया को लेकर तनाव

दरअसल अमरीका और उत्तर कोरिया के बीच तनाव बढ़ा है। अमरीका ने उत्तर कोरिया पर कई तरह की पाबंदी लगाए हैं। जिसे हटवाने को लेकर उत्तर कोरिया के शीर्ष नेता किम जोंग उन ( Kim jong un ) ट्रंप से दो बार मुलाकात कर चुके हैं। लेकिन कोई बात नहीं बनी है। अमरीकी प्रतिबंधों से राहत के लिए किम जोंग ने चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग और रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ( Russian President Vladimir Putin ) से भी मुलाकात कर चुके हैं। अब यह माना जा रहा है कि बहुत जल्द ही किम जोंग जापान के प्रधानमंत्री शिंजो एबे से मुलाकात करने वाले हैं। दरअसल किम जोंग एक रणनीति के तहत उन तमाम देशों के साथ मिलकर बातचीत आगे बढ़ा रहे हैं जो या तो अमरीका के बेहद करीबी हैं या फिर अमरीका के साथ तनाव है। ऐसे में उत्तर कोरिया दोनों देशों के बीच एक तनाव का कारण बन सकता है।

संयुक्त राष्ट्र से ब्रिटेन को झटका, 6 महीने में मॉरिशस को चागोस द्वीप लौटाने का आदेश

ईरान के साथ बढ़ता तनाव

आमरीका और ईरान के बीच बढ़ते तनाव का असर पूरी दुनिया में देखने को मिल रहा है। गल्फ देशों में भी इसका नकारात्मक असर देखने को मिल रहा है। ईरान पर अमरीकी प्रतिबंधों को असर भारत पर भी पड़ा है। भारत अब ईरान से तेल नहीं खरीदेगा, जिसके कारण भारत में तेल के दाम बढ़ सकते हैं। सऊदी अरब और इजराइल ने भी ईरान के मामले में अमरीका का साथ दिया है, जबकि चीन ईरान के साथ दिखाई पड़ रहा है। ईरान यूरेनियम और भारी जल के उत्पादन को बढ़ाने पर जोर दे रहा है। दूसरी तरफ उत्तर कोरिया भी अमरीकी प्रतिबंध नहीं हटने के संकेतों के बीच फिर से परमाणु परीक्षण कार्यक्रम कर दुनिया के सामने एक नई चुनौती पेश कर रहा है। ऐसे में पूरी दुनिया में राजनीतिक अस्थिरता के साथ आर्थिक विघटन का खतरा मंडरा रहा है। बहरहाल यह देखना दिलचस्प होगा कि ट्रंप और एबे की यह मुलाकात वैश्विक राजनीति पर कितना प्रभाव पैदा करता है।

 

 

Read the Latest World News on Patrika.com. पढ़ें सबसे पहले World News in Hindi पत्रिका डॉट कॉम पर. विश्व से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर.

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned