Russia Corona Vaccine को लेकर हंगामे के बीच Philippines में होगा Sputnik-V के तीसरे फेज का ट्रायल

HIGHLIGHTS

  • रूसी कोविड-19 वैक्सीन ( Russian Corona Vaccine ) Sputnik-V के तीसरे फेज का ट्रायल फिलीपींस ( Philippines ) में अक्टूबर से मार्च के बीच में होगा।
  • रूस ने बिना तीसरे चरण के ट्रायल ( Russian Vaccine Phase 3 Trial ) पूरे किए बिना ही कोरोना वैक्सीन बनाने की घोषणा कर दुनिया को हैरान कर दिया था।

मास्को। कोरोना महामारी ( Corona Epidemic ) से पूरी दुनिया जूझ रही है, लेकिन इस वायरस के संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए कोरोना वैक्सीन ( Corona Vaccine ) बनाने की दिशा में वैज्ञानिक व शोधकर्ता दिन रात काम कर रहे हैं। इस बीच बीते दिनों रूस की ओर से दुनिया का पहला कोरोना वैक्सीन बनाने का दावा किया गया, जिसको लेकर कई तरह के सवाल खड़े किए गए हैं और इसको लेकर शक जाहिर किया जा रहा है। यह भी बताया जा रहा है कि रूस ने वैक्सीन के तीसरे फेज का ट्रायल ( Vaccine Trails ) नहीं किया है।

हालांकि अब रूसी वैक्सीन ( Russian Corona Vaccine ) को लेकर उठ रहे सवालों के बीच एक बड़ी खबर सामने आई है। दरअसल, ये खबर आई है कि रूसी कोविड-19 वैक्सीन Sputnik-V के तीसरे फेज का ट्रायल किया जाएगा। इसका ट्रायल फिलीपींस में अक्टूबर से मार्च के बीच में होगा।

बिना Phase-3 trial के Russia ने लांच कर दी Corona vaccine, हो रहे हैं कई Side effects !

फिलीपींस के राष्ट्रपति रोड्रिगो दुतेर्ते ( Philippines President Rodrigo Duterte ) के प्रवक्ता हैरी रोके ने गुरुवार को जानकारी देते हुए बताया है कि रूसी कोरोना वैक्सीन के तीसरे फेज के क्लिनिकल ट्रायल अक्टूबर से मार्च तक फिलीपींस में होंगे। बता दें कि रूस ने बिना तीसरे चरण के ट्रायल पूरे किए बिना ही कोरोना वैक्सीन बनाने की घोषणा कर दुनिया को हैरान कर दिया था।

अप्रैल 2021 में मिलेगी मंजूरी

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, प्रवक्ता ने बताया है कि कोरोना वैक्सीन ( Corona Vaccine ) के ट्रायल के लिए रूसी सरकार फंड देगी। ट्रायल के दौरान वैक्सीन की दक्षता और सुरक्षा की जांच की जाएगी। इसके लिए हजारों मरीजों को टीका लगाया जाएगा। उन्होंने आगे बताया कि फिलीपींस का खाद्य और औषधि प्रशासन अप्रैल 2021 तक रूसी कोरोना वैक्सीन को मंजूरी दे देगा।

आपको बता दें कि Sputnik-V नाम के इस वैक्सीन को रूस की गमालया शोध संस्थान और रक्षा मंत्रालय ने मिलकर तैयार किया है। मंगलवार को इसका पंजीकरण किया गया है। इससे पहले रूस की ओर से वैक्सीन बनाने की घोषणा करने के बाद ही फिलीपींस के राष्ट्रपति रोड्रिगो दुतेर्ते ने इसे खुद पर किए जाने की इच्छा जताई थी।

राष्ट्रपति पुतिन ने की थी घोषणा

मालूम हो कि रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ( Russian President Vladimir Putin ) ने कोरोना वैक्सीन बनाने की घोषणा की थी। उन्होंने बताया था कि हम कोरोना वैक्सीन बनाने वाले दुनिया का पहला देश बन गए हैं। इतना ही नहीं, उन्होंने यह भी बताया था कि इस वैक्सीन का पहला डोज उनकी बेटी को दिया गया है, जो बिल्कुल स्वस्थ्य हैं।

Russia के बाद China में बनी Corona Vaccine, चीनी सैनिकों को टीका लगाने का अभियान शुरू

हालांकि पुतिन की दो बेटियां मारिया और कैटरीना में से किसे पहला टीका लगाया गया ये सार्वजनिक नहीं किया गया है। इसके अगले दिन दुनिया के सामने रूसी कोरोना वैक्सीन की आधिकारिक तस्वीर भी सामने आई।

रूसी कोरोना वैक्सीन को लेकर विश्व स्वास्थ्य संगठन ( World Health Organization ), अमरीका व अन्य तमाम कई देशों ने सवाल खड़े किए हैं और इसपर शक जाहिर किया है। WHO ने सीधे-सीधे कहा कि तीसरे चरण का ट्रायल पूरा नहीं हुआ है। ऐसे में इस वैक्सीन के कई साइड इफैक्ट सामने आए हैं।

Show More
Anil Kumar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned