Libya: बंधक बनाए गए सात भारतीय रिहा, आतंकवादियों ने पिछले महीने किया था किडनैप

  • Libya में बंधक चार राज्यों के सात भारतीयों को छोड़ा गया
  • 14 सितंबर को आतंकवादियों ने किया था भारतीयों का अपहरण
  • ट्यूनीशिया में भारतीय दूत पुनीत रॉय ने दी जानकारी

नई दिल्ली। उत्तर अफ्रीकी देश लीबिया ( Libya ) से बड़ी राहत की खबर सामने आई है। यहां बंधक बनाए गए सात भारतीयों को छोड़ दिया गया है। दरअसल आतंकवादियों ने पिछले महीने सात भारतीयों का अपहरण कर इन्हें बंधक बना लिया था। बंधक बनाए गए भारतीय उत्तर प्रदेश, गुजरात, बिहार और आंध्र प्रदेश के निवासी हैं। ट्यूनीशिया में भारतीय दूत पुनीत रॉय ने इन सभी भारतीयों के रिहा किए जाने की जानकारी दी है।

आपको बता दें कि सभी भारतीय नागरिक लीबिया में कंस्ट्रक्शन एंड ऑयल फील्ड सप्लाई कंपनी में काम करते थे। इन्हें 14 सितंबर को किडनैप कर बंधक बनाया गया था।

बिहार चुनाव में छाया हुआ है एक चाय वाला, जानें क्यों लोगों को पसंद आ रहा है इसका अनोखा अंदाज

मौसम विभाग ने जारी किया बड़ा अलर्ट, देश के इन राज्यों में भारी बारिश के आसार

रविवार देर रात राहत की खबर सामने आई। लीबिया में आतंकियों की गिरफ्त में फंसे सात भारतीयों को छुड़ा लिया गया है। इन भारतीयों का अपहरम 14 सितंबर को लीबिया के अस्सहवेरिफ इलाके से किया गया।
खास बात यह है कि जिस वक्त इन भारतीयों का अपहरण किया गया उस समय वे भारत वापस लौटने के लिए त्रिपोली हवाईअड्डे जा रहे थे।

इससे पहले गुरुवार को भारत की ओर से ये जानकारी दी गई थी कि सात भारतीयों को किडनैप कर लिया गया है। इन सभी को बचाने के लिए प्रयास किए जा रहे है। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने जानकारी देते हुए कहा था कि किडनैप किए गए नागरिकों का पता लगाने के साथ-साथ जल्द से जल्द उन्हें मुक्त कराने के लिए हर संभव कोशिश की जा रही है।

आपको बता दें कि लीबिया में भारत का कोई दूतावास नहीं है। यही वजह है कि इन सभी बंधक भारतीयों के मामले को पड़ोसी देश ट्यूनीशिया की मदद से निपटाया गया।

दरअसल ट्यूनीशिया में भारतीय दूतावास ही लीबिया में भारतीय नागरिकों से जुड़े मामलों का प्रबंधन करता है। किडनैप मामले में भी लीबिया सरकार और वहां मौजूद अंतरराष्ट्रीय संगठनों से संपर्क कर मदद मांगी गई थी।

Show More
धीरज शर्मा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned