12वीं की अविवाहित छात्रा ने दिया बच्ची को जन्म, छात्रा के पिता ने कही ये बात...

स्थानीय राजकीय सेठ गणपतराय सरावगी चिकित्सालय लाडनूं में गुरुवार सुबह करीब 11 बजे एक अविवाहित छात्रा द्वारा नवजात बच्ची को जन्म ( Unmarried Girl Become Mother ) देने का मामला प्रकाश में आया। ( Nagaur News )

By: abdul bari

Published: 27 Feb 2020, 10:12 PM IST

लाडनूं
स्थानीय राजकीय सेठ गणपतराय सरावगी चिकित्सालय लाडनूं में गुरुवार सुबह करीब 11 बजे एक अविवाहित छात्रा द्वारा नवजात बच्ची को जन्म ( Unmarried Girl Become Mother ) देने का मामला प्रकाश में आया। प्राप्त जानकारी के मुताबिक 20 वर्षीय बालिका को उसके माता पिता लाडनूं के राजकीय अस्पताल लेकर पहुंचे जहां स्त्री रोग विशेषज्ञ डॉ. राजेश कुमारी द्वारा प्रसव करवाया गया। छात्रा ने बच्ची को जन्म दिया।

मामला अस्पताल में बना चर्चा का विषय ( Nagaur News )

छात्रा वर्तमान में राजकीय विद्यालय की कक्षा 12 में अध्ययनरत है जिसके कुछ समय पश्चात बोर्ड परीक्षा भी होनी है। किंतु इसी बीच ऐसी घटना सामने आ जाने से पूरा परिवार परेशान है। अविवाहित छात्रा के प्रसव होने का मामला अस्पताल में चर्चा का विषय बना रहा। लड़की के पिता के अनुसार उन्हें इस संबंध में कोई जानकारी नही है व न ही किसी पर कोई आरोप है। इस कारण किसी भी प्रकार की कानूनी कार्यवाही नही की जा रही है।

मामले पर छात्रा के पिता बोले...

पिता से प्राप्त जानकारी अनुसार यह बालिका उनकी सबसे बड़ी संतान है और वह मजदूरी का कार्य करके अपने परिवार का निर्वहन करते हैं। बालिका की माता गृहणी है। तीन महीने पूर्व पिता को कुछ शक हुआ था लेकिन उन्होंने बच्ची को उसकी माता के द्वारा दवाई दिए जाने की बात कहने पर नजरअंदाज कर दिया गया। किन्तु गुरुवार सुबह वह अपनी मजदूरी पर चले गए तो घर से उन्हे बच्ची की तबियत ज्यादा खराब होने की सूचना मिली तो वह उसे ग्राम कानुता के अस्पताल दिखाने लाए तो उन्हें चिकित्सकों ने लाडनूं अथवा सुजानगढ के बड़े अस्पताल में दिखाने की बात कही। परिजन लाडनूं लेकर आए व सोनोग्राफी जांच से जब बच्ची के पेट मे भ्रूण होने की सूचना मिलने पर परिजनों के होश उड़ गए।

पुलिस ने भी जुटाई जानकारी

राजकीय अस्पताल में प्रसव होने के बाद जच्चा बच्चा स्वस्थ हैं। परिजनों के द्वारा बच्चे को दूध नही पिलाने की बात भी सामने आई। इसी दौरान बाघसरा आथुना तहसील बीदासर जिला चूरू सांडवा थाने की पुलिस एएसआई द्वारा मौके पर पंहुचकर जानकारी जुटाई गई।

एक जवान की भी अस्पताल में भी ड्यूटी


शिशु रोग विशेषज्ञ डॉ सुशील बाकोलिया ने जानकारी देते हुए बताया कि यदि बच्चा लावारिस हालत में पालनाघर मे मिलता है तो अस्पताल द्वारा उसको अन्यथा परिजनों द्वारा नही अपनाने की स्थिति में उनके स्वयं के द्वारा समाज कल्याण विभाग नागौर को सुपुर्द करने की प्रक्रिया की जाती है। सुरक्षा की दृष्टि से पुलिस के एक जवान की भी अस्पताल में भी ड्यूटी लगाई गई है।

( प्रतीकात्मक तस्वीर )

यह भी पढ़ें...

होटल में मसाज के बहाने विदेशी महिला के साथ युवक ने की 'गंदी हरकत'


राजस्थान में फिर बड़ा हादसा: बारातियों से भरा वाहन ट्रेलर से टकराया, तीन की मौत, खुशियां मातम में बदलीं


देर रात चिकित्सालय में कर्मचारी का मर्डर, चाकू से वार कर बेरहमी से ली जान...

Show More
abdul bari
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned