scriptAfter Massacre In Birbhum Now TMC Leader Was Gunned Down In Nadia | बीरभूम हिंसा के बाद अब नादिया में TMC नेता को गोलियों से भूना, हुगली में महिला पार्षद को कार से रौंदा | Patrika News

बीरभूम हिंसा के बाद अब नादिया में TMC नेता को गोलियों से भूना, हुगली में महिला पार्षद को कार से रौंदा

पश्चिम बंगाल में हिंसा का दौर थमने का नाम नहीं ले रहा है। बीरभूम जले में हुए 10 लोगों की हत्या के बाद भी प्रदेश में हिंसक घटनाएं रुख नहीं रही हैं। अब तृणमूल कांग्रेस के नेता की गोली मार कर हत्या कर दी गई है। यही नहीं एक महिला पार्षद को भी कार से रौंदने की कोशिश की गई।

नई दिल्ली

Published: March 24, 2022 10:29:30 am

पश्चिम बंगाल में हिंसक घटनाएं रुक नहीं रही हैं। बीरभूम जिले में हुई 10 लोगों की हत्या का मामला अभी ठंडा भी नहीं पड़ा है एक दिन बाद ही नादिया से भी दिल दहला देने वाली खबर सामने आई है। यहां एक टीएमसी नेता की गोली मारकर हत्या कर दी गई। घटना बुधवार देर रात हुई। मृतक का नाम सहदेव मंडल बताया गया है। वह नादिया जिले में टीएमसी के स्थानीय कार्यकर्ता थे। सहदेव की पत्नी अनीमा मंडल बगुला की पंचायत सदस्य है। नादिया के साथ-साथ हुबली इलाके से भी बड़ी खबर सामने आई है। यहां के तारकेश्वर में तृणमूल कांग्रेस की ही महिला पार्षद को कार से रौंदने की कोशिश की गई है।
After Massacre In Birbhum Now TMC Leader Was Gunned Down In Nadia
After Massacre In Birbhum Now TMC Leader Was Gunned Down In Nadia

बीरभूम घटना के बाद भी बंगाल में हत्याओं का दौर थम नहीं रहा है। नादिया में टीएमसी नेता सहदेव मंडल लहूलुहान अवस्था में सड़क पर पड़े मिले। जिसने देखा वो दंग रह गया। स्थानीय लोगों ने उन्हें बगुला के स्वास्थ्य केंद्र पहुंचाया। हालत बिगड़ने पर उन्हें कृष्णानगर अस्पताल ले जाया गया, जहां टीएमसी नेता ने दम तोड़ दिया।

यह भी पढ़ें

TMC नेता की हत्या से गुस्साई भीड़ ने 12 घरों को आग लगाई, दस लोग जिंदा जले



इसी तरह हुबली के तारकेश्वर में महिला पार्षद रूपा सरकार को गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती कराया गया है। हालांकि फिलहाल उनकी हालत पहले से बेहतर बताई जा रही है, लेकिन इन दोनों घटनाों ने प्रदेश की कानून व्यवस्था पर सवाल जरूर खड़े कर दिए हैं।


दरअसल पश्चिम बंगाल में पिछले महीने नगर निकायों के चुनाव हुए थे। इसके बाद से लगातार राजनीतिक हिंसा की घटनाएं सामने आ रही हैं।

बीरभूम हिंसा की शुरुआत भी टीएमसी नेता की हत्या से

बीरभूम में भी हिंसा की शुरुआत टीएमसी के एक पंचायत नेता की हत्या से ही हुई थी। इसलिए आशंका जताई जा रही है कि बीरभूम के रामपुरहाट जैसी हिंसा कहीं नादिया में न हो जाए।

रामपुरहाट में भादू शेख की हत्या कर दी गई थी। इसके बाद 21 मार्च को पूरे जिले में हिंसा भड़क गई थी। इस हिंसा में 10 लोगों को जिंदा जला दिया गया है।

हाईकोर्ट ने लिया संज्ञान

बीरभूम हिंसा के मामले में कलकत्ता हाईकोर्ट ने स्वत: संज्ञान लिया है। वहीं सीएम ममता बनर्जी ने इस हिंसा को लेकर घिरने पर यूपी, राजस्थान, मप्र जैसे राज्यों में भी ऐसी हिंसा होने की आड़ लेकर बचने की कोशिश की।
ममता सरकार ने बीरभूम हिंसा की जांच के लिए विशेष जांच दल (SIT) बनाया है। मामले में अब तक 22 लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है।

यह भी पढ़ें

बीरभूम हिंसा: कलकत्ता उच्च न्यायालय ने लिया स्वत: संज्ञान, बीजेपी-टीएमसी नेताओं पर आरोप

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Maharashtra Political Crisis: महाराष्ट्र में नई सरकार को लेकर हलचल तेज, मंत्रालयों के बंटवारे को लेकर एकनाथ शिंदे ने दिया ये बड़ा बयानMaharashtra Political Crisis: उद्धव ठाकरे के इस्तीफे के बाद बीजेपी की बैठक आज, देवेंद्र फडणवीस करेंगे बड़ी घोषणाMaharashtra Political Crisis: देवेंद्र फडणवीस दोबारा बन सकते हैं सीएम, महाराष्ट्र की सियासत में ऐसा रहा है उनका सफरDelhi MLA Salary Hike: दिल्ली के 70 विधायकों को जल्द मिलेगी 90 हजार रुपए सैलरी, जानिए अभी कितना और कैसे मिलता है वेतनUdaipur Murder: उदयपुर में हिंदू संगठनों का जोरदार प्रदर्शन, हत्यारों को फांसी दो के लगे नारेजम्मू-कश्मीर: बालटाल से अमरनाथ यात्रा के लिए श्रद्धालुओं का पहला जत्था रवाना, पवित्र गुफा में बाबा बर्फानी का करेंगे दर्शनपटना के हथुआ मार्केट में लगी भीषण आग, कई दुकानें जलकर खाक, करोड़ों का नुकसानMaharashtra Political Crisis: उद्धव के इस्तीफे के बाद भी संजय राउत के हौसले बुलंद, बोले-हम अपने दम पर फिर सत्ता में करेंगे वापसी
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.