scriptDuring World War II, Taj Mahal Covered With Bamboo Sticks to protect | जाने क्यों विश्व युद्ध के दौरान पूरी तरह से ढक दिया गया था ताजमहल, 6 महीने तक रहा था बंद | Patrika News

जाने क्यों विश्व युद्ध के दौरान पूरी तरह से ढक दिया गया था ताजमहल, 6 महीने तक रहा था बंद

द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान दुनिया में सातवां अजूबा ‘ताजमहल’ के विध्‍वंस का खतरा पैदा हो गया था। उस वक्‍त ब्रिटेन ने अमेरिकी सेना के सहयोग से ताजमहल को बांस व बल्लियों से पूरी तरह ढंक दिया था।

नई दिल्ली

Published: May 17, 2022 10:53:16 pm

ताजमहल दुनिया की अनमोल धरोहर है। सफेद संगमरमर में लिपटी मोहब्बत की एक मुकम्मल कहानी है। ताज पर दुनिया की नजर भी रहती है। लेकिन इसी ताज पर एक बार नहीं बल्कि तीन बार खतरे के बादल मंडराए थे। खतरे से बचाने के लिए तब तत्कालीन शासन और प्रशासन ने इस विश्व धरोहर को बचाने के लिए इसे तीनों बार ढक दिया था, ताकि इसे दुश्मनों की नजरों से बचाया जा सके।
जाने क्यों विश्व युद्ध के दौरान पूरी तरह से ढक दिया गया था ताजमहल, 6 महीने तक रहा था बंद
जाने क्यों विश्व युद्ध के दौरान पूरी तरह से ढक दिया गया था ताजमहल, 6 महीने तक रहा था बंद
सबसे पहला वाक्या 1942 का है, तब द्वितीय विश्व युद्ध शुरू ही हुआ था। भारत में तब ब्रिटिश सरकार का राज था। मित्र देश अपने दुश्मनों पर हमला कर रहे थे। दुश्मन देशों के स्मारकों को भी नहीं छोड़ रहे थे। नामचीन इमारतों को चुन-चुनकर निशाना बनाया जा रहा था। तब अमरीका और ब्रिटेन को खुफिया जानकारी मिली थी कि जापान और जर्मनी मिलकर ताजमहल को नेस्तनाबूत करना चाहते हैं।

taj_mahal_protected.jpg
आगरा में स्थित भारतीय पुरातत्‍व सर्वेक्षण (ASI) के ऑफिस में वर्ष 1942 में खींची गई तस्‍वीरें मौजूद हैं। ये उस बात का सबूत हैं कि कैसे ताजमहल को निस्तेनाबूद होने से बचाने के लिए पहल की गई थी। ऑफिशियल्स के मुताबिक उस वक्त भारत की मदद कर रहे मित्र देश अमेरिका, ब्रिटेन व अन्‍य को खूफिया सूचना मिली थी कि जापान और जर्मनी ताजमहल पर बम बरसाने की कोशिश करने वाले है। इसके लिए वे ताजमहल पर हवाई हमला करने का प्लान बना रहे थे।

taj_mahal.jpg
इस सुचना के मिलने के बाद तुरंत ताजमहल को ढक दिया गया था। सरकार ने ताजमहल को निरंतर गिरने वाले बॉम्ब्स से सुरक्षित रखने के लिए विशेष प्रकार की घेराबंदी की। ताजमहल को बांस और बल्लियों से ढकने का फैसला लिया। इसके बाद पूरे ताज महल को ऐसा ढंका गया जैसे वो बांस का गट्ठर लगे और दुश्मन के लड़ाकू विमान भ्रमित हो जाएं। इतना ही नहीं ताजमहल पर ब्रिटिश जवान पहरा भी देते थे। किसी को भी यहां फोटो खींचने तक की मनाही थी। आपके लिए यह जानना दिलचस्प होगा कि तब यह पहला मौका था जब 188 दिन तक लगातार ताज के दरवाजे सैलानियों के लिए बंद रहे।

यह भी पढ़ें

कर्नाटक के राज्यपाल ने धर्मांतरण विरोधी विधेयक को दी मंजूरी, इस कानून को लागू करने वाला 9वां राज्य बना

दूसरी बार वर्ष 1965 में भी भारत-पाक युद्ध के दौरान ताजमहल को विशेष लिवाज से ढंका गया था। हालांकि इस बार ताज को सिर्फ पांच दिनों के लिए ही ढंका गया था।

तो वहीं 1971 में पाकिस्तान के साथ युद्ध के दौरान भी ताजमहल पर दूसरी बार खतरा मंडराया था। उस वक्‍त ताजमहल को हरे कपड़े से ढंका गया था। ताकि पाकिस्‍तानी विमानों को ताजमहल की जगह हरियाली नजर आए। 1971 में पाकिस्तान सेना ताज महल को निशाना बनाना चाहती थी। खुफिया रिपोर्ट मिली की पाकिस्तानी वायुसेना आगरा में हवाई हमला कर सकती है। यह खतरा इसलिए भी था, कि पाकिस्‍तानी बमवर्षक विमानों ने ताजमहल से करीब 10 किलोमीटर दूर एयफोर्स स्‍टेशन पर बम गिराए थे। ऐसे में सरकार ने ताजमहल को हरे कपड़े से ढकने का फैसला लिया।
वहीं इसके साथ चांदनी रात में ताजमहल की जमीन पर लगे संगमरमर चमके नहीं, इसके लिए उस पर झाडिय़ों को रखा गया था। उस समय स्मारक के आसपास बांस-बल्लियों का जाल बनवाया गया। अकबर के मकबरे और अन्य जगहों से झाडिय़ां, पेड़ों की शाखाएं और टहनियां मंगवाकर ताजमहल को जंगल का रूप दिया गया था। इस कार्य पर उस समय करीब 20500 रुपये खर्च हुए थे। करीब 15 दिनों तक ताजमहल को ढक कर रखा गया था। बता दें, युद्ध 4 से 16 दिसंबर तक चला था, लेकिन उसकी सफाई में दो दिन और लगने से यह पर्यटकों के लिए 4 से 18 दिसंबर तक बंद रहा था।

यह भी पढ़ें

IAS अधिकारी ने भारत की थॉमस कप जीत पर मच्छर रोधी रैकेट की शेयर की तस्वीर, क्रिकेटर ने लगाई फटकार - 'ये तो है सरासर अपमान'

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

महाराष्ट्र की राजनीति में बड़ा उलटफेर: एकनाथ शिंदे ने ली मुख्यमंत्री पद की शपथ, देवेंद्र फडणवीस बने डिप्टी सीएमMaharashtra Politics: बीजेपी ने मौका मिलने के बावजूद एकनाथ शिंदे को क्यों बनाया सीएम? फडणवीस को सत्ता से दूर रखने की वजह कहीं ये तो नहीं!भारत के खिलाफ टेस्ट मैच से पहले इंग्लैंड को मिला नया कप्तान, दिग्गज को मिली बड़ी जिम्मेदारीउदयपुर कन्हैयालाल हत्याकांडः कानपुर से आतंकी कनेक्शन, एनआईए की टीम जल्द जा कर करेगी छानबीनAgnipath Scheme: अग्निपथ स्कीम के खिलाफ प्रस्ताव पारित करने वाला पहला राज्य बना पंजाब, कांग्रेस व अकाली दल ने भी किया समर्थनPresidential Election 2022: लालू प्रसाद यादव भी लड़ेंगे राष्ट्रपति पद के लिए चुनाव! जानिए क्या है पूरा मामलाMumbai News Live Updates: शरद पवार ने किया बड़ा दावा- फडणवीस डिप्टी सीएम बनकर नहीं थे खुश, लेकिन RSS से होने के नाते आदेश मानाUdaipur Murder: आरोपियों को लेकर एनआईए ने किया बड़ा खुलासा, बढ़ी राजस्थान पुलिस की मुश्किल
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.