नोएडा- भाजपा सरकार में खुश नहीं किसान, अधिकारियों पर लगाया गंभीर आरोप

sharad asthana

Publish: Dec, 07 2017 11:21:53 (IST)

Noida, Uttar Pradesh, India
नोएडा- भाजपा सरकार में खुश नहीं किसान, अधिकारियों पर लगाया गंभीर आरोप

नोएडा अथॉरिटी के अधिकारियों पर उत्पीड़न का आरोप लगा किसानों ने मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ के नाम सौंपा ज्ञापन

नोएडा। प्राधिकरण द्वारा शहर भर में अवैध अतिक्रमण के खिलाफ चलाए जा रहे अभियान से नाराज किसानों ने बुधवार को अधिकारियों पर उत्पीड़न व शोषण का आरोप लगाते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के नाम ज्ञापन सौंपा। इस दौरान भारतीय किसान यूनियन लोक शक्ति ने नोएडा प्राधिकरण के मुख्य गेट पर पंचायत की।

सिपाही ने पुलिस अधिकारियों पर लगाया गंभीर आरोप, हिल गया विभाग- देखें वीडियो

प्राधिकरण को सौंपा मुख्यमंत्री के नाम का ज्ञापन

पंचायत में ज्ञापन लेने के लिए प्राधिकरण की तरफ से ओएसडी राजेश सिंह आए। उन्होंने किसानों की समस्याओं को जल्दी निपटाने का आश्वासन दिया, लेकिन किसानों का कहना है कि ओएसडी आबादी भूमि नियमितीकरण पर उत्तर देने में असमर्थ रहे। भारतीय किसान यूनियन लोक शक्ति के महानगर अध्यक्ष राजेश उपाध्याय ने उन्हें मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन सौंपा, जिसमें कहा गया कि 40 वर्षों से नोएडा के किसानों का लगातार शोषण एवं उत्पीड़न नोएडा प्राधिकरण अधिकारियों द्वारा किया जा रहा है। आज तक किसानों को कई समस्याओं से जूझना पड़ रहा है।

EXCLUSIVE- पुलिस पर बिजली विभाग के पांच कराेड़ रुपये बकाया, अधिकारी कर रहे आग्रह

यातना का इतिहास दोहराया जा रहा है

किसानों का कहना है कि जिले में प्राधिकरण द्वारा राजतंत्र का इतिहास दोहराया जा रहा है। जिस भारत के निवासियों काे 700 वर्षों तक ईरान व अफगानिस्तान के आक्रांताओं ने लूटपाट कर बर्बाद किया। वहीं, 200 साल हुक्मरानों ने 84 प्रकार के कर लगाकर भारत के किसानों से लूटपाट कर शारीरिक यातनाएं दी। 900 साल तक भारत से रुपए व सोने चांदी लूट ले गए लेकिन उन्होंने भी किसी का घर नहीं तोड़ा और न ही किसी की जमीन को लूटा, लेकिन नोएडा प्राधिकरण के अधिकारियों ने नोएडा के किसानों की जमीन मनमाफिक मूल्यों पर छीन ली और जमीन के मालिक को भूमाफिया बनाकर उसका मकान, घर और दुकानों को जबरदस्ती छीन लिया।

अधिकारी कर गए मूल निवासियों की नौकरी हजम

किसानों ने आरोप लगाते हुए कहा कि नोएडा प्राधिकरण के अधिकारी यहां के मूल निवासियों की नौकरी को भी हजम कर गए। उनकी शिक्षा एवं चिकित्सा को धनकुबेरों के हवाले कर दिया गया।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned