सम्राट मिहिर भोज को लेकर राजपूत और गुर्जर समाज आमने-सामने

अखिल भारतीय क्षत्रिय महासभा ट्रस्ट के राष्ट्रीय अध्यक्ष ऋषि पाल सिंह परिमार ने नोएडा मीडिया क्लब में प्रेसवार्ता की।

By: Nitish Pandey

Updated: 20 Sep 2021, 05:34 PM IST

नोएडा. सम्राट मिहिर भोज मूर्ति के अनावरण को लेकर विवाद बढ़ता जा रहा है। राजपूत-गुर्जर समुदाय आमने-सामने आ गए हैं। जहां एक तरफ राजपूत समाज सम्राट मिहिर भोज को राजपूतों के पूर्वज बता रहे हैं तो वहीं दूसरी तरफ गुर्जर समाज सम्राट मिहिर भोज को गुर्जर समाज का बता रहे हैं। विवाद गहराता जा रहा है दोनों समाजों के संगठनों ने प्रेसवार्ता करके सम्राट मिहिर भोज को अपने-अपने समाज से संबंधित बताया।

यह भी पढ़ें : निरक्षर ग्राम प्रधान होंगे हाईटेक, बिना किसी की मदद के करेंगे ऑनलाइन अपना काम

22 सितंबर को होना है प्रतिमा का अनावरण

अखिल भारतीय क्षत्रिय महासभा ट्रस्ट के राष्ट्रीय अध्यक्ष ऋषि पाल सिंह परिमार ने नोएडा मीडिया क्लब में प्रेसवार्ता की। ऋषि पाल ने बताया कि 22 सितंबर को दादरी में सम्राट मिहिर भोज के प्रतिमा का उनके नाम के आगे गुर्जर लगा के अनावरण किए जाने की तैयारी है, जिसका हम लोग विरोध कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि इतिहास से लेकर ग्रंथों में यह साफ है कि सम्राट मिहिर भोज राजपूत समाज से थे।

चुनाव में सरकार को उठाना पड़ेगा नुकसान

ऋषि पाल कहा कि गुर्जर समाज उन्हें गुर्जर बताकर राजपूत समाज के इतिहास के साथ छेड़छाड़ कर रहे हैं। हम मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से भी अपील करते हैं, कि सम्राट मिहिर भोज के प्रतिमा के अनावरण से पहले उनके इतिहास के बारे में जान लें। साथ ही उन्होंने कहा कि अगर सम्राट मिहिर भोज को गुर्जर बताकर प्रतिमा का अनावरण किया जाएगा, तो आने वाले चुनाव में सरकार को भारी नुकसान उठाना पड़ेगा।

गुर्जर प्रतिहार वंश के हैं सम्राट मिहिर भोज

वहीं दूसरी तरफ अखिल भारतीय वीर गुर्जर महासभा ने भी नोएडा मीडिया क्लब में प्रेस वार्ता कर बताया कि सम्राट मिहिर भोज गुर्जर प्रतिहार वंश के हैं, जो मूल रूप से गुर्जर है। प्रेसवार्ता के दौरान इतिहासकार आचार्य वीरेंद्र विक्रम ने बताया कि दादरी में विद्या सभा के द्वारा सम्राट मिहिर भोज की प्रतिमा स्थापित की जा रही है, वह बेहद गौरव की बात है। प्रतिमा का अनावरण प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ करेंगे।

53 वर्षों तक किया अखंड भारत पर शासन

आचार्य वीरेंद्र विक्रम ने आगे बताया कि सम्राट मिहिर भोज रघुवंशी सम्राट थे और गुर्जर प्रतिहार वंश के सबसे प्रतापी सम्राट थे। जिन्होंने 53 वर्षों तक अखंड भारत पर शासन किया, उनकी पहचान गुर्जर सम्राट के नाम से ही की जाती है। उन्होंने दावा किया कि समकालीन शासकों राष्ट्रकूट और बालों ने अपने अभिलेखों में उनको गुर्जर कहकर संबोधित किया है। अट्ठारह सौ इक्यावन ईस्वी में भारत भ्रमण पर आए अरब यात्री सुलेमान ने उनको गुर्जर राजा और उनके देश को गुर्जर देश कहा है। सम्राट मिहिर भोज के पुत्र समराज महिपाल को कन्नड़ कभी पंप ने गुर्जर राजा लिखा है, इसलिए दादरी में सम्राट मिहिर भोज के प्रतिमा को गुर्जर सम्राट लिख कर ही आवरण किया जाए।

आंदोलन की दी चेतावनी

144 गांव के क्षत्रिय समाज के लोगों ने प्यावली गांव में महापंचायत की। इस महापंचायत को अखिल भारतीय क्षत्रिय महासभा करणी सेना ने आयोजित किया था। जिसमें सैकड़ों की संख्या में क्षत्रिय समाज के लोग पहुंचे। महापंचायत में क्षत्रिय समाज ने सम्राट मिहिर भोज को गुर्जर बताने पर विरोध व्यक्त किया। साथ ही कहा कि इसको लेकर हम जनप्रतिनिधियों को ज्ञापन सौपेंगे। अगर फिर भी सम्राट मिहिर भोज के नाम के आगे से गुर्जर नही हटाया जाएगा तो आंदोलन किया जाएगा।

गुर्जर थे सम्राट मिहिर भोज- दादरी विधायक

सम्राट मिहिर भोज के प्रतिमा अनावरण कार्यक्रम का जिम्मा संभाल रहे दादरी विधायक तेजपाल नागर ने कहा कि कुछ सरकार विरोधी लोग जानबूझकर इसे मुद्दा बना रहे हैं। सम्राट मिहिर भोज गुर्जर थे, इससे पहले सड़क हो या प्रतिमा उनके नाम के आगे गुर्जर लिखा गया है।

पोस्टर फाड़ने को लेकर मुकदमा दर्ज

राजपूत समाज के द्वारा सम्राट मिहिर भोज के नाम के आगे गुर्जर लगाने पर आपत्ति जताने के बाद बीजपी के पोस्टरो में सम्राट मिहिर भोज के नाम के आगे से गुर्जर हटा दिया गया था। जिसके बाद गुर्जर समाज के लोगों ने विरोध जताते हुए शनिवार को बीजेपी के पोस्टरों को फाड़ दिया था। जिसको लेकर दादरी थाने में अब मुकदमा दर्ज किया गया है। दरसल दादरी के रूपवास में रहने वाले सतेंद्र में लिखित शिकायत के बाद पुलिस ने विपिन नागर के खिलाफ पोस्टर फाड़ने पर मुकदमा दर्ज किया है।

BY: Arvind Uttam

यह भी पढ़ें : क्राइम पेट्रोल देखकर लिखी थी अपहरण की स्क्रिप्ट, पुलिस ने पांच दिन में किया बरामद

Nitish Pandey
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned