देवकी नंदन ठाकुर के बारे में फेसबुक पर डाली आपत्तिजनक पोस्ट, ठाकुर समाज के लोगों ने दी ये चेतावनी

देवकी नंदन ठाकुर के बारे में फेसबुक पर डाली आपत्तिजनक पोस्ट, ठाकुर समाज के लोगों ने दी ये चेतावनी

Rahul Chauhan | Publish: Sep, 13 2018 01:49:16 PM (IST) Noida, Uttar Pradesh, India

कथावाचक देवकी नंदन ठाकुर इन दिनों चर्चाओं में हैं। मंगलवार को उन्हें हिरासत में लिए जाने के बाद जहां एक तरफ ठाकुर समाज के लोगों में आक्रोष है।

नोएडा। SC-ST Act के विरोध में उतरे कथावाचक देवकी नंदन ठाकुर इन दिनों चर्चाओं में हैं। मंगलवार को उन्हें हिरासत में लिए जाने के बाद जहां एक तरफ ठाकुर समाज के लोगों में आक्रोष है तो वहीं इस बीच अब नोएडा में एक युवक ने फेसबुक पर आपत्तिजनक पोस्ट डाल दिया है। जिसके बाद एक ठाकुर संगठन ने इसकी शिकायत पुलिस से ट्वीट कर की है।

यह भी पढ़ें : देवकी नंदन ठाकुर को छोड़ना ही था देश, पहले से फिक्स था ये प्रोग्राम

दरअसल, बुधवार शाम ठाकुर धीरज सिंह नामक एक ट्विटर हैंडल से यूपी पुलिस, डीजीपी और नोएडा पुलिस को टैग करते हुए कुछ स्क्रीनशॉट शेयर किए गए। जिसके साथ लिखा गया कि आज सुबह कमल कौशिक नामक व्यक्ति की फेसबुक आईडी से एक पोस्ट की गई है।

 

tweet

जिसमें देवकी नंदन ठाकुर जी के लिए अपशब्दों का प्रयोग करने के साथ कॉमेंट्स करके समाज के लोगों को भूमित व भड़काया जा रहा है। तत्काल प्रभाव से कानूनी कार्यवाही करने का कष्ट करें। वहीं इसके जवाब में यूपी पुलिस ने कहा कि संबंधित थाने में जा कर इसकी शिकायत करें या साइबर सैल को इसकी सूचना दें।

यह भी पढ़ें : बड़ी खबर: सपा नेता रामगोपाल यादव के सामने ये हो सकते हैं शिवपाल यादव के सेक्युलर मोर्चा से प्रत्याशी

वहीं इस ट्वीट में राजपूत उत्थान सभा के लेटर पैड पर एसएसपी को शिकायत भी लिखी गई। जिसमें कहा गया है कि फेसबुक पर शेयर किए गए इस पोस्ट से उनके अनुयायी और समाज के लोगों की भावनाओं को ठेस पहुंचाने का काम किया जा रहा है। कथित आईडी से लगातार कमेंट्स के माध्यम से लोगों को अफवाह फैलाकर भड़काया जा रहा है।

गौरतलब है कि भाजपा सरकार द्वारा एससी-एसटी एक्ट में सुप्रीम कोर्ट के फैसले में किए गए बदलाव के बाद ठाकुर समाज के लोग लगातार विरोध कर रहे हैं। जगह-जगह लोग प्रदर्शन कर सरकार से इसे वापस लेने की मांग कर रहे हैं। कथावाचक देवकी नंदन ठाकुर भी इसके विरोध में लोगों से संपर्क कर रहे हैं। जिसके चलते उन्हें हिरासत में भी लिया गया था। हालांकि कुछ घंटों बाद ही उन्हें रिहा भी कर दिया गया था।

 

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned