scriptEd preparing to attach more properties in Bike Boat Scam | Bike Boat Scam: ईडी करने जा रही है कार्रवाई, मुख्य आरोपी के करीबी ने उगले कई बड़े राज | Patrika News

Bike Boat Scam: ईडी करने जा रही है कार्रवाई, मुख्य आरोपी के करीबी ने उगले कई बड़े राज

Bike Boat Scam: बाइक बोट कंपनी में जल्दी पैसा कमाने और अपनी पूंजी को दोगुना करने के चक्कर में लोगों को धोखा मिला है। बाइक बोट कंपनी में रुपये लगाकर धोखा खाने वाले लोग एक, दो नहीं बल्कि लाख के पार हैं और वह भी मध्यमवर्गीय परिवार के हैं, जिन्होंने अपना पेट काटकर पूंजी जोड़ी थी।

नोएडा

Published: December 22, 2021 04:01:05 pm

Bike Boat Scam: उत्तर प्रदेश के चर्चित बाइक बोट घोटाले मामले में प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) निवेशकों की गाढ़ी कमाई से खरीदी गईं करीब 100 करोड़ रुपये की और संपत्तियों को जब्त करने की तैयारी में है। इससे पहले लगभग 225 करोड़ रुपये की संपत्तियां ईडी जब्त कर चुकी है। हालांकि इससे पहले घोटाले के मास्टरमाइंड संजय भाटी से पूछताछ करने की तैयारी भी ईडी कर रही है। आरोपी संजय भाटी इसी मामले में साल 2019 से जेल में निरुद्ध है। इसके साथ ही ईडी जनवरी, 2022 में एक और चार्जशीट कोर्ट में दाखिल करने की तैयारी में है।
bike_bot_scam_.jpg
क्या है पूरा मामला

बाइक बोट घोटाले के मुख्य आरोपी संजय भाटी ने गर्वित इनोवेटिव प्रोमोटर्स प्रा. लि. (जीआईपीएल) के डायरेक्टर बनकर लोगों को विश्वास में लिया और फिर ओला, उबर की तरफ से बाइक बोट के नाम से कंपनी खोल ली। लोगों को अच्छे कमाई का लालच देकर कंपनी में करोड़ों रुपए का निवेश भी करवा लिया। आरोपियों के खिलाफ राजस्थान, उत्तरप्रदेश, दिल्ली, हरियाणा, पंजाब, तमिलनाडु, मुम्बई के विभिन्न थानों में सौकड़ों मुकदमें दर्ज है।
यह भी पढ़ें

दुल्‍हन ने कहा- पत‍ि हिस्ट्रीशीटर है, मैं नहीं जाऊंगी ससुराल

फरवरी 2020 में ईडी ने की थी छापेमारी

बता दें कि प्रवर्तन निदेशालय ने फरवरी 2020 में दिल्ली, नोएडा और एनसीआर में कई जगहों पर छापेमारी की थी। इस छापेमारी में घोटाले की रकम से खरीदी गईं कई संपत्तियों के बारे में जानकारियां भी जुटाई थीं। इसके साथ ही बाइक बोट घोटाले के आरोपित विजेंद्र सिंह हुड्डा के बेहद करीबी मनोज त्यागी को गिरफ्तार किया था। उसने कई अहम जानकारियां ईडी से साझा की थीं।
यह भी पढ़ें

Weather Update: पश्चिमी यूपी में लुढ़का पारा, 2.2 डिग्री दर्ज किया गया मुजफ्फरनगर का तापमान

कंपनी का पैसा ठिकाने लगाता था आरोपी मनोज त्यागी

जानकारी के मुताबिक 100 करोड़ रुपये से अधिक की संपत्ति बोगस कंपनियों के जरिए निवेश किए जाने की बात सामने आई थी। इन कंपनियों की जांच में कई बेनामी संपत्तियों की जानकारी भी मिली है। बताया जा रहा है कि कई शैक्षणिक संस्थानों और ट्रस्ट के जरिए भी लेन-देन की जांच की जा रही है। ईडी अब संजय भाटी से भी पूछताछ करेगी। ईडी संजय से पूछताछ के लिए कोर्ट की अनुमति लेने की तैयारी में है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक कंपनी का पैसा ठिकाने लगाने का काम मुख्य आरोपी विजेंद्र सिंह हुड्डा का करीबी मनोज त्यागी ही करता था।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

School Holidays in February 2022: जनवरी में खुले नहीं और फरवरी में इतने दिन की है छुट्टी, जानिए कितनी छुट्टियां हैं पूरे सालCash Limit in Bank: बैंक में ज्यादा पैसा रखें या नहीं, जानिए क्या हो सकती है दिक्कतरणवीर सिंह के बेडरूम सीक्रेट आए सामने,दीपिका को नहीं करने देते ये कामइन 4 राशियों की लड़कियां जिस घर में करती हैं शादी वहां धन-धान्य की नहीं रहती कमीइस एक्ट्रेस को किस करने पर घबरा जाते थे इमरान हाशमी, सीन के बात पूछते थे ये सवालSharp Brain- दिमाग से बहुत तेज होते हैं इन राशियों की लड़कियां और लड़के, जीवन भर रहता है इस चीज का प्रभावधनु, मकर और कुंभ वालों को कब मिलेगी शनि साढ़े साती से मुक्ति, जानिए सही डेटदेश में धूम मचाने आ रही हैं Maruti की ये शानदार CNG कारें, हैचबैक से लेकर SUV जैसी गाड़ियां शामिल

बड़ी खबरें

RRB-NTPC Results: प्रेस कॉन्फ्रेंस में बोले रेल मंत्री, रेलवे आपकी संपत्ति है, इसको संभालकर रखेंRepublic Day 2022 LIVE updates: राजपथ पर दिखी संस्कृति और नारी शक्ति की झलक, 7 राफेल, 17 जगुआर और मिग-29 ने दिखाया जलवानहीं चाहिए अवार्ड! इन्होंने ठुकरा दिया पद्म सम्मान, जानिए क्या है वजहजिनका नाम सुनते ही थर-थर कांपते थे आतंकी, जानें कौन थे शहीद ASI बाबू राम जिन्हें मिला अशोक चक्रRepublic Day 2022: 'अमृत महोत्सव' के आलोक में सशक्त बने भारतीय गणतंत्रमौसम विभाग का बड़ा अलर्ट जारी, शीतलहर छुड़ाएगी कंपकंपी, पारा सामान्य से 5 डिग्री नीचेमहाराष्ट्रः Google के CEO सुंदर पिचई के खिलाफ दर्ज हुई FIR, जानिए क्या है मामलाUP Election 2022: छठां चरण- योगी आदित्यनाथ के लिए गोरखपुर सदर सुरक्षित घरेलू सीट, मगर...
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.