Hartalika Teej 2018 : 12 सितंबर को सिर्फ 2 घंटे 29 मिनट तक है पूजा करने के लिए Shubh Muhurat

Hartalika Teej 2018 : 12 सितंबर को सिर्फ 2 घंटे 29 मिनट तक है पूजा करने के लिए Shubh Muhurat

Ashutosh Pathak | Publish: Sep, 06 2018 11:55:49 AM (IST) | Updated: Sep, 12 2018 03:48:11 PM (IST) Noida, Uttar Pradesh, India

Hartalika Teej 2018 : गणेश चतुर्थी के एक दिन पहले यानी 12 सितंबर को है हरतालिका तीज, तृतीया में की जाती है पूजा सबसे अच्छा Shubh Muhurat 2 घंटे 29 मिनट तक के लिए है, लेकिन दिन भर कर सकते हैं पूजा

नोएडा। हरतालिका तीज व्रत 12 सितंबर को है, इस दिन विवाहित महिलाएं नए लाल कपड़े पहन कर हाथों में मेंहदी लगा कर सोलह श्रृंगार करके शुभ-मुहूर्त में भगवान शिव और पार्वती की पूजा करती हैं। महिलाएं पूजा करने के साथ ही श्रृंगार का सामान चढ़ाती हैं। इसके बाद hartalika teej व्रती महिलाएं व्रत कथा सुनती हैं। मान्यता है कि जो महिलाएं विधि विधान पूर्वक व्रत कर शुभ-मुहूर्त में पूजा करती हैं तो उनका सौभाग्य की रक्षा होती है।

ये भी पढ़ें : Hartalika Teej 2018: करवा चौथ से भी कठिन है हरतालिका तीज का व्रत, पति की लंबी आयु के लिए पूरा दिन- पूरी रात इस तरह व्रत रखती हैं महिलाएं

सुहागिन के साथ कुंवारी कन्याएं भी रहती हैं व्रत

हिंदू धर्म में सुहागहिन औरतों के लिए हरियाली तीज, कजरी तीज और करवा चौथ की तरह ही Hartalika Teej Vrat होता है। हरतालिका तीज के दिन महिलाएं अपने पति की लंबी आयु के लिए व्रत रखती हैं और भगवान शिव और पार्वती से सदा सुहागन का आर्शीवाद मांगती हैं। मान्यता है कि माता पार्वती ने भगवान शंकर को प्राप्त करने के लिए इस व्रत को सबसे पहले किया था। वहीं कई जगह माता पार्वती की तरह अच्छा वर प्राप्त करने के लिए कुंवारी कन्याएं भी इस व्रत को रखती हैं।

ये भी पढ़ें : इस दिन से शुरू हो रहा है विघ्नहर्ता मंगल करता का उत्सव, बाजारों में मूर्तियों के लिए प्री ऑर्डर, इस तरह की मूर्तियां हैं डिमांड में

पूजा करने के लिए शुभ मुहूर्त

हरतालिका तीज भाद्र पद के शुक्ल पक्ष की तृतीया को मनाई जाती है। जिसकी वजह से तृतीया तिथि आरंभ होने से समाप्त होने तक कभी पूजा कर सकती हैं। लेकिन hartalika teej puja shubh muhurat इस बार सुबह सुबह 06:04:17 से 08:33:31 तक है। इन 2 घंटे 29 मिनट में की गई पूजा विशेष फलदायी होगा। लेकिन पूजा करने के लिए पूरा दिन शुभ है। शाम के 6:46 मिनट तक यह पूजा की जा सकेगी। उसके बाद चतुर्थी लग जाएगी। यानी 13 सितंबर से गणेश उत्सव की शुरुआत हो जाएगी।

ये भी पढ़ें : गणेश उत्सव की तैयारियां तेज, Ganpati Bappa के इन गानों पर जमकर झूमते हैं लोग, हर साल सर्च होते हैं ये गाने, आप भी सुने थिरकने लगेंगे पैर

 

Ad Block is Banned