EXCLUSIVE: नोएडा में कमिश्नर के चार्ज लेते ही एसएसपी की पोस्ट के साथ Twitter हैंडल भी बदला, अब CP से करें शिकायत

Highlights:

-नोएडा पुलिस द्वारा एसएसपी नोएडा नाम से बने ट्विटर हैंडल को बदलकर अब सीपी नोएडा कर दिया गया है

-अब जनपद में रहने वाले लोग अपनी किसी भी समस्या से इसी अकाउंट पर सीपी नोएडा को सूचना दे सकते हैं

-हालांकि इस अकाउंट पर अभी तक कोई फोटो अपलोड नहीं की गई है

नोएडा। सूबे की योगी सरकार द्वारा उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ और गौतमबुद्ध नगर जिले में कमिश्नरी सिस्टम लागू कर दिया गया है। जिसके बाद 15 जनवरी को नवनियुक्त पुलिस कमिश्नर आलोक सिंह ने ग्रेटर नोएडा के सूरजपुर स्थित जिला पुलिस मुख्यालय पहुंचकर पदभार ग्रहण कर लिया। वहीं जिले में एसएसपी की पोस्ट खत्म होने के साथ ही एसएसपी नोएडा का ट्विटर हैंडल का नाम भी बदल दिया गया है।

यह भी पढ़ें : सिंघम बनी पुलिस : नोएडा में चलाना है ई-रिक्शा, तो दिखाने होंगे कागज

नोएडा पुलिस द्वारा एसएसपी नोएडा नाम से बने ट्विटर हैंडल को बदलकर अब सीपी नोएडा कर दिया गया है। अब जनपद में रहने वाले लोग अपनी किसी भी समस्या से इसी अकाउंट पर सीपी नोएडा को सूचना दे सकते हैं। हालांकि इस अकाउंट पर अभी तक कोई फोटो अपलोड नहीं की गई है। लेकिन, जानकारों की मानें तो जल्द ही नोएडा पुलिस द्वारा प्रोफाइल पर कमिश्नर की फोटो लगाई जाएगी।

बता दें कि हाल ही में शासन द्वारा एसएसपी वैभव कृष्ण को निलंबित कर दिया गया था। जिसके बाद जिले में पोस्ट खाली थी। वहीं इसके बाद ही योगी सरकार द्वारा लखनऊ और नोएडा में कमिश्नरी सिस्टम लागू कर दिया गया और एडीजी आलोक सिंह को नोएडा कमिश्नर बनाया गया है। कमिश्नर बनाए जाने से पहले वह अपर पुलिस महानिदेशक/पुलिस महानिरीक्षक मेरठ परिक्षेत्र के पद पर तैनात थे। इसके साथ ही जिले में 2 एसीपी और 7 डीसीपी की भी तैनाती की गई है। ये सभी अधिकारी भी आईपीएस रैंक के हैं। इसके साथ ही नोएडा पुलिस में एसएसपी की पोस्ट खत्म कर दी गई है।

यह भी पढ़ें : कमिश्नर प्रणाली : उम्मीद है थाने बिकने के आरोप अब नहीं लगेंगे..

गौरतलब है कि यूपी सरकार की मंत्रिमंडल की बैठक के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गत सोमवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए लखनऊ और नोएडाम में कमिश्नरी सिस्टम लागू करते हुए कहा था कि पिछले 50 वर्षों से कानून व्यवस्था के सुदृढ़ीकरण और स्मार्ट पुलिसिंग की मांग हो रही थी। राजनीतिक इच्छा शक्ति के अभाव के कारण इतने वर्षों तक यह कार्य नहीं हो पाया। समयबद्ध कार्रवाई ना हो पाने के कारण न्यायालय हमेशा पुलिस को कटघरे में खड़ा करता था। पुलिस विभाग में सुधार का सबसे बड़ा कदम हमारी सरकार ने उठाया है।

Rahul Chauhan Content Writing
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned