scriptwhich mask will be better for omicron coronavirus safety | कोरोना संक्रमण से सुरक्षित रखने के लिए पर्याप्त नहीं है कपड़े का मास्क, जानिए क्या कहते हैं एक्सपर्ट | Patrika News

कोरोना संक्रमण से सुरक्षित रखने के लिए पर्याप्त नहीं है कपड़े का मास्क, जानिए क्या कहते हैं एक्सपर्ट

कोरोना एक बार फिर तेजी के साथ पांव पसार रहा है। हेल्थ केयर एक्सपर्ट्स का कहना है कि कपड़ों से बने मास्क संक्रमण के खिलाफ पर्याप्त सुरक्षा प्रदान नहीं करते हैं क्योंकि यह मास्क आसपास की हवा में मौजूद वायरस से सुरक्षित रखने में कारगर साबित नहीं हुए हैं।

नोएडा

Updated: January 11, 2022 11:35:32 am

दुनिया भर में कोरोना के ओमिक्रोन वैरिएंट के मामले लगातार बढ़ रहे हैं। इतना ही नहीं यह वायरस उन लोगों को भी संक्रमित कर रहा है, जिन्हें वैक्सीन लगी हुई है। विशेषज्ञ इस वायरस को खतरनाक बता रहे हैं। इसलिए सभी को अपने मास्क पर अधिक ध्यान देना चाहिए। विशेषज्ञ का भी मानना है कि मास्क ही ओमिक्रोन से बचने का बेहतर उपाय है। ऐसे में अब सवाल उठता है कि ओमिक्रोन से बचने के लिए कौन सा मास्क पहना चाहिए।
corona_virus.jpg
कपड़ों से बने मास्क नहीं हैं कारगर

दुनिया भर में आमतौर पर तीन तरह के मास्क का इस्तेमाल सबसे ज्यादा किया जा रहा है। कपड़ों से बने मास्क, N-95 मास्क और सर्जिकल मास्क। हेल्थ केयर एक्सपर्ट्स का कहना है कि कपड़ों से बने मास्क संक्रमण के खिलाफ पर्याप्त सुरक्षा प्रदान नहीं करते हैं क्योंकि यह मास्क आसपास की हवा में मौजूद वायरस से सुरक्षित रखने में कारगर साबित नहीं हुए हैं। वैज्ञानिकों का मानना है कि कपड़े के मास्क वायरस को रोकने में प्रभावी नहीं हैं। ऐसे में इन्हें संक्रमण को रोकने के लिए ज्यादा सुरक्षित नहीं माना जा सकता है। सिंगल लेयर मास्क वायरस Aerosols के बड़े टुकड़ों को तो रोक सकते हैं, लेकिन ओमिक्रोन वैरिएंट के मामले में ये Aerosols के छोटे-छोटे टुकड़ों को रोकने में उतना कारगर नहीं है।
यह भी पढ़ें

Income Tax Return Fund: खाते में अब तक नहीं आया आयकर रिफंड तो ऐसे देखें स्टेट्स

दो लेयर वाले मास्क का करें इस्तेमाल

विशेषज्ञ का मानना है कि सिंगल लेयर कपड़े का मास्क ओमीक्रोन के लिए जायादा कारगर नहीं है। ऐसे में विशेषज्ञ दो या तीन लेयर वाले फेस मास्क के इस्तेमाल की सलाह देते हैं। ये छोटे Aerosols को रोकते हैं, जिससे संक्रमण फैलने का खतरा कम होता है। वैज्ञानिक सिंगल लेयर क्लोथ मास्क को Respirator masks के साथ लगाने की सलाह देते हैं, जिससे कोरोना के नए वैरिएंट से बचा जा सके। विशेषज्ञों के मुताबिक, स्पाइक प्रोटीन में अलग तरह के कई म्यूटेशंस की वजह से ओमिक्रोन वेरिएंट का ट्रांसमिशन रेट बहुत ज्यादा है। इसलिए कपड़े से बने मास्क इससे बचाव में उतना कारगर नहीं होगा।
अमेरिका के Centre for Disease Control and Prevention की गाइडलाइंस के अनुसार, कपड़े से बने मास्क के नीचे एक डिस्पोजेबल मास्क पहनें। कपड़े का मास्क ऐसा होना चाहिए, जिसमें फैब्रिक की कई लेयर हो। रियूजेबल मास्क को गंदा होते ही तुरंत साफ करें। साथ ही डिस्पोजेबल मास्क को इस्तेमाल के बाद फेंक दें, दोबारा इस्तेमाल करने से परहेज करें।
N9-5 मास्क सबसे ज्यादा असरदार

विशेषज्ञों का मानना है कि ओमिक्रोन के प्रसार के खिलाफ सबसे ज्यादा सुरक्षा देने में N95 सबसे बेहतर हैं। क्योंकि, इनमें फाइबर का घना नेटवर्क होता है। ये बड़े ड्रॉपलेट्स और एयरोसोल्स को ट्रैप करने में बेहद प्रभावी होते हैं, ये ड्रॉपलेट्स को ब्लॉक करते हैं। इसके अलावा ये हवा में मौजूद 95 प्रतिशत तक कणों को फिल्टर कर देता है और चेहरे को पूरी तरह से ढक करके रखता है। हालांकि एक्सपर्ट्स का यह भी कहना है कि अगर आपको सांस से जुड़ी कोई समस्या है तो N-95 मास्क का इस्तेमाल डॉक्टर की सलाह पर ही करें।
सर्जिकल मास्क पर विशेषज्ञों की राय

कोरोना महामारी में एक्सपर्ट ने सर्जिकल मास्क का उपयोग करने की भी सलाह दी थी। यह कपड़े के मास्क से कुछ हद तक बेहतर होते हैं, लेकिन ये भी अधिक सुरक्षा प्रदान नहीं करते हैं। विशेषज्ञों का कहना है कि इसकी मदद से सांस के माध्यम से जर्म्स के प्रवेश को तो रोका जा सकता है। हालांकि कोरोना जैसे वायरस को रोकने में यह कितने कारगर है। इस बारे में कहा नहीं जा सकता।
यह भी पढ़ें

PM Kisan Samman Nidhi Yojna: जिन किसानों को नहीं मिला 2000 रुपये, इस नंबर पर फोन करके खाते में तुरंत होगा ट्रांसफर

डबल मास्किंग ज्यादा प्रभावी उपाय

कोरोना वयरस के ओमिक्रोन वैरिएंट बचने के लिए डबल मास्किंग ज्यादा प्रभावी उपाय हो सकता है। इसके लिए सबसे पहले सर्जिकल मास्क और इसके ऊपर कपड़े का मास्क पहना जा सकता है। मास्क लगाते समय इस बात का ध्यान रखें कि यह अच्छी तरह से फिट हो और नाक-मुंह को ठीक से कवर करता हो।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

कम उम्र में ही दौलत शोहरत हासिल कर लेते हैं इन 4 राशियों के लोग, होते हैं मेहनतीबाघिन के हमले से वाइल्ड बोर ढेर, देखते रहे गए पर्यटक, देखें टाइगर के शिकार का लाइव वीडियोइन 4 राशि की लड़कियों का हर जगह रहता है दबदबा, हर किसी पर पड़ती हैं भारीआनंद महिंद्रा ने पूरा किया वादा, जुगाड़ जीप बनाने वाले शख्स को बदले में दी नई Mahindra BoleroFace Moles Astrology: चेहरे की इन जगहों पर तिल होना धनवान होने की मानी जाती है निशानीइन नाम वाली लड़कियां चमका सकती हैं ससुराल वालों की किस्मत, होती हैं भाग्यशालीकरोड़पति बनना है तो यहां करे रोजाना 10 रुपये का निवेशदेश में धूम मचाने आ रही हैं Maruti की ये शानदार CNG कारें, हैचबैक से लेकर SUV जैसी गाड़ियां शामिल

बड़ी खबरें

Republic Day 2022 LIVE updates: राजपथ पर दिखी संस्कृति और नारी शक्ति की झलक, 7 राफेल, 17 जगुआर और मिग-29 ने दिखाया जलवारेलवे का बड़ा फैसला: NTPC और लेवल-1 परीक्षा पर रोक, रिजल्‍ट पर पुर्नविचार के लिए कमेटी गठितRepublic Day 2022: गणतंत्र दिवस पर दिल्ली की किलेबंदी, जमीन से आसमान तक करीब 50 हजार सुरक्षाबल मुस्तैदUP Assembly Elections 2022 : सपा सांसद आजम खां जेल से ही करेंगे नामांकन, कोर्ट ने दी अनुमतिकोटा में रिवरफ्रंट पर लगेगी विश्व की सबसे बड़ी घंटी, वजन होगा 57 हजार किलोक्या योगी आदित्यनाथ फिर बनेंगे यूपी के मुख्यमंत्री? जानिए क्या कहती हैं ज्योतिषीयों की भविष्यवाणीकांग्रेस युक्त भाजपा! कविता के जरिए शशि थरूर ने पार्टी छोड़ रहे नेताओं और बीजेपी पर कसा तंजRPN Singh के पार्टी छोड़ने पर बोले CM गहलोत, आने वालों का स्वागत तो जाने वालों का भी स्वागत
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.