आपसी सहमति से चुनी सीइटीपी फाउंडेशन की पहली टीम

अध्यक्ष व सचिव सहित पांच पदों के लिए आज होगी कवायद

By: Om Prakash Tailor

Published: 30 Dec 2018, 01:27 PM IST

पाली . ट्रस्ट से सीपीवी (स्पेशल पर्पज व्हीकल) कंपनी में तब्दील हुए सीइटीपी फाउंडेशन की नई टीम को लेकर शनिवार सुबह ११ बजे मंडिया रोड ट्रीटमेंट प्लांट संख्या एक-दो में बैठक हुई। इसमें सर्वसहमति से तीनों औद्योगिक क्षेत्रों से 10 प्रतिनिधियों के नाम पर सर्वसहमति से मोहर लगी। रविवार सुबह 12 बजे मंडिया रोड ट्रीटमेंट प्लांट संख्या एक-दो में अध्यक्ष, उपाध्यक्ष, सचिव, सहसचिव व कोषाध्यक्ष पद को लेकर कवायद की जाएगी।


एक ने नाम वापस लिया तो बनी सहमति
सीइटीपी अध्यक्ष अनिल मेहता ने बताया कि पुनायता औद्योगिक क्षेत्र के उद्यमियों ने अपने चार प्रतिनिधि व इंडस्ट्रीयल एरिया ने एक का नाम सर्वसहमति ने शनिवार को प्रस्तावित कर दिए थे।
मंडिया रोड औद्योगिक क्षेत्र से सीइटीपी फाउंडेशन से पांच प्रतिनिधि लेने थे लेकिन आवेदन छह आए। ऐसे में यहां चुनाव होने की संभावना बनी गई थी। बाद में गजेन्द्र झंवर ने नाम वापस लिया तो यहां से भी आम सहमति बन गई।
कमान सौंपने आज होगा मंथन
सीइटीपी फाउंडेशन के अध्यक्ष, उपाध्यक्ष, सचिव, सहसचिव व कोषाध्यक्ष पद के लिए रविवार 12 बजे ट्रीटमेंट प्लांट संख्या एक-दो में उद्यमियों को बुलाया गया है। संभावना जताई जा रही है कि इन पदों के लिए भी सर्वसहमति से नाम सामने आएंगे। सीइटीपी के पिछले कई चुनावों को देखे तो हर बार सर्वसहमति से ही अध्यक्ष, सचिव सहित अन्य तीन पदों के लिए नाम सामने आए थे।
औद्योगिक क्षेत्र में चर्चा में यह नाम
औद्योगिक क्षेत्र में अध्यक्ष व सचिव पद के लिए कई नाम अभी से चर्चाओं में चर्च रहे है। जानकारी के अनुसार अध्यक्ष पद के लिए प्रवीण कोठारी, अमित गेमावत, अरुण जैन के नाम चर्चा में चल रहे है। सचिव पद के लिए अशोक लोढ़ा, रिखब भंडारी आदि के नाम चर्चा में है।
इन नामों पर लगी मोहर
मंडिया रोड औद्योगिक क्षेत्र से अरुण पोरवाल, रिखब भंडारी, अशोक लोढ़ा,लादूराम लोढ़ा, किशोर मेहता। पुनायता औद्योगिक क्षेत्र से प्रवीण कोठारी, अमित गेमावत, कमलेश सत्कार, अब्दुल रहुफ। इंडस्ट्रीयल एरिया फेज एक-दो से जगदीश छाजेड़।

Om Prakash Tailor
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned