नाम मेडिकल कॉलेज अस्पताल, एक्स-रे मशीन ही अवधि पार

-चार दिन से डिजिटल एक्स-रे मशीन [ Digital x-ray machine ] खराब
-दर्द से कहराते मरीजों को करना पड़ रहा इंतजार
-साधारण एक्स-रे में लग रहा अधिक समय

Suresh Hemnani

February, 1507:02 AM

पाली। पाली के बांगड़ अस्पताल को बांगड़ मेडिकल कॉलेज अस्पताल [ Bangar Medical College Hospital ] में तब्दील कर दिया गया है, लेकिन उसमें सुविधाएं आज भी नहीं सुधारी गई है। जिले के इस सबसे बड़े अस्पताल में एक्स-रे तक की सुविधा मरीजों को नहीं मिल रही है। अस्पताल में दो एक्स-रे मशीन लगी हुई है। इसमें से एक डिजिटल और दूसरी साधारण एक्स-रे मशीन है। डिजिटल एक्स-रे मशीन [ Digital x-ray machine ] तो अवधि पार हो चुकी है। इसके बावजूद नई मशीन नहीं दी जा रही है। जबकि अस्पताल प्रशासन की ओर से 15 नवम्बर 2019 को ही नई मशीन लगाने के लिए सरकार को लिखा जा चुका है। इधर, डिजिटल एक्स-रे मशीन पिछले चार दिन से खराब है। इसका खामियाजा मरीजों को भुगतना पड़ रहा है। उनको समय पर एक्स-रे नहीं मिलने के कारण उपचार में देरी हो रही है।

मरीजों ने किया हंगामा
बांगड़ अस्पताल में रोजाना 150 से 180 मरीज एक्स-रे करवाने आते है। डिजिटल एक्स-रे मशीन खराब होने के कारण पिछले चार दिन से साधरण एक्स-रे मशीन का उपयोग किया जा रहा है। इसमें एक्स-रे निकलने में देरी लग रही है। इसे लेकर शुक्रवार को मरीजों ने अस्पताल में हंगामा कर दिया। इस पर एक्स-रे कर रहे कार्मिकों ने बिना सुखाए ही एक्स-रे मरीजों को दिए।

सात वर्ष होती है एक्स-रे मशीन की अवधि
बांगड़ अस्पताल में डिजिटल एक्स-रे मशीन वर्ष 2009 में लगाई गई थी। विशेषज्ञों के अनुसार इस मशीन की अवधि सात वर्ष होती है। जबकि अब तक इस मशीन को लगे 10 वर्ष से अधिक हो चुके है। हालात यह है कि मशीन खराब होने पर इसके उपकरण भी नहीं मिलते है। इस कारण इसे ठीक कराना भी मुश्किल हो रहा है।

कम्पनी ने भी नकारा
अस्पताल में लगी डिजिटल एक्स-रे मशीन अवधि पार होने के कारण पहले भी चार बार खराब हो चुकी है। उस समय इसे जैसे-तैसे ठीक किया गया। अब कम्पनी का कहना है कि इस मशीन के उपकरण नहीं मिलने और अवधि समाप्त होने से इसे ठीक नहीं किया जा सकता। इसके बावजूद अस्पताल प्रशासन ने इसे ठीक कराने को पत्र लिखा है।

लगाना पड़े अतिरिक्त कार्मिक
डिजिटल एक्स-रे मशीन से एक घंटे में करीब तीस एक्स-रे कर तत्काल मरीजों को उपलब्ध कराए जा रहे थे। अब साधारण मशीन से एक्स-रे करने के बाद उसे धोकर सुखाने में समय अधिक लग रहा है। इसके लिए कार्मिक भी अतिरिक्त लगाए गए है। इसके बावजूद साधाण मशीन पर यह प्रक्रिया एक से डेढ़ घंटे में हो पा रही है।

दूसरे दिन आने की मजबूरी
डिजिटल एक्स-रे मशीन खराब होने से कई मरीजों को तो दूसरे दिन उपचार के लिए आना पड़ रहा है। चिकित्सकों के अस्पताल बंद होने के समय से आधा-पौन घंटे पहले एक्स-रे करवाने का लिखने पर मरीज जैसे ही एक्स-रे विभाग पहुंचते है। वहां कतार के कारण कार्मिक उन्हें दूसरे दिन एक्स-रे लेने का या करवाने का कहकर लौटा रहे हैं।

धुलने में लगता समय
साधारण मशीन से एक्स-रे करने के बाद धुलने में समय लगता है। डिजिटल एक्स-रे मशीन के पाटर््स खराब है। हम मजबूरी में मरीजों को गिले एक्स-रे ही पकड़ा रहे हैं। -ओमप्रकाश पटेल, प्रभारी, रेडियोलॉजी विभाग, बांगड़ अस्पताल, पाली

मांग कर रखी है
डिजिटल एक्स-रे मशीन के लिए पिछले वर्ष नवम्बर में ही मांग कर ली थी। इस मशीन को पहले भी तीन-चार बार ठीक करा चुके हैं। इसके बावजूद यह बार-बार खराब हो जाती है। इस मशीन के पाट्र्स भी नहीं मिल रहे है। -राजेन्द्र अरोड़ा, पीएमओ, बांगड़ अस्पताल, पाली

Suresh Hemnani Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned