Karnataka Political Crisis: सिद्धारमैया बनेंगे CM, भाजपा की बनेगी सरकार!

  • भाजपा बना सकती है Govt in Karnataka
  • Political Crisis में फंसी कर्नाटक सरकार
  • CM Kumarswamy दे सकते हैं इस्‍तीफा

 

By: Dhirendra

Updated: 07 Jul 2019, 03:27 PM IST

नई दिल्‍ली। शनिवार को कर्नाटक में 11 विधायकों के इस्‍तीफे के बाद एक बार फिर कांग्रेस-जेडीएस सरकार ( Congress-JDS Government ) राजनीतिक संकट (Political Crisis) में फंस गई है। इससे पहले भी तीन विधायक गठबंधन सरकार से नाता तोड़ चुके हैं। इस लिहाज से अभी तक 14 विधायक कांग्रेस-जेडीएस सरकार से किनारा कर चुके हैं।

इन इस्तीफों के बाद अब कर्नाटक सरकार के भविष्‍य को लेकर अटकलें भी तेज हो गई हैं। हालांकि गठबंधन के पास अभी बहुमत है, लेकिन इस बात की भी चर्चा है कि बहुत जल्द 9 और विधायक इस्तीफा दे सकते हैं।

ऐसे में अगले सप्ताह से शुरू हो रहे कर्नाटक विधानसभा सत्र (Karnataka Legislative Session ) तक राज्य सरकार बहुमत बरकरार रख पाएगी या नहीं, यह कहना मुश्किल है।

यानी मुख्‍यमंत्री कुमारस्‍वामी (Chief Minister Kumarswamy ) सरकार के सामने सबसे बड़ी समस्‍या विधानसभा में विश्‍वास की उठ खड़ी हुई है। अटकलें तो यह भी लगाई जा रही हैं कि सीएम कुमार विश्‍वास इस्‍तीफा दे सकते हैं।

Karnataka1

सरकार गिरने पर भाजपा पेश कर सकती है दावा

केंद्रीय मंत्री डीवी सदानंद गौड़ा ( Union Minister Sadanand Devegaowda ) ने भी पिछले महीने कर्नाटक के राजनीतिक संकट (Political Crisis) को लेकर एक बयान दिया था।

उन्‍होंने कहा था कि अगर कर्नाटक में कांग्रेस-जेडीएस सरकार गिरती है तो सबसे बड़ी पार्टी होने के नाते भाजपा विकल्‍प खोजेगी। उन्‍होंने कहा कि रास्‍ते में राजनीतिक बाधाएं नहीं आएंगी।

कर्नाटक में सरकार बनाने को तैयार BJP, सदानंद बोले- हमारे पास 105 विधायक

इस्‍तीफा देने वाले विधायक

कर्नाटक में कांग्रेस-जेडीएस के जिन 11 विधायकों ने शनिवार को इस्‍तीफा दिया है उनमें बीसी पाटिल, एच विश्‍वनाथ, नारायण गौड़ा, शिवराम हेब्‍बर, महेश कुमाथल्‍ली, प्रपात गौड़ा पाटिल, रमेश जारकीहोली व अन्‍य शामिल हैं।

इस्‍तीफा देने वाले 11 में से 10 विधायक बेंगलूरु से मुंबई पहुंचे और उन्‍हें सोफिटेल होटल में ठहरे हैं।

Karnataka2

केंद्रीय नेतृत्‍व जल्‍दबाजी में नही

इन घटनाक्रमों के बीच कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन के बड़े नेता एक तरफ तो इस बगावत को थामने में जुटे हैं तो दूसरी ओर भाजपा इसे सरकार गठन की दिशा में एक अवसर मानकर चल रही है।

जानकारी के मुताबिक प्रदेश भाजपा सरकार गठन को लेकर सक्रिय है लेकिन केंद्रीय नेतृत्‍व वर्तमान हालात में इससे बचना चाहता है।

निलंबित हो सकती है कर्नाटक विधानसभा

चूंकि कर्नाटक के भाजपा नेता बीएस येदियुरप्‍पा मई, 2018 में सरकार बनाने में विफल रहे और उसके बाद ऑपरेशन लोटस में भी उन्‍हें अभी तक पूरी तरह से सफलता नहीं मिली है।

ताजा घटनाक्रम को भी ऑपरेशन लोटस 4 नाम दिया जा रहा है। इसके बावजूद अभी तक प्रदेश भाजपा ये बताने की स्थिति में नहीं है कि उसके पास बहुमत है।

इसलिए केंद्रीय नेतृत्‍व वर्तमान सरकार के गिरने की स्थिति में नया चुनाव ही चाहेगा। अगर ऐसा हुआ तो इससे इनकार नहीं किया जा सकता है कि जम्‍मू-कश्‍मीर की तरह कर्नाटक विधानसभा को कुछ समय के लिए निलंबित रखा जाए।

कर्नाटक : कांग्रेस- JDS के 14 विधायकों का इस्तीफा, सिद्धारमैया को CM बनाने पर वापस लेंगे फैसला

जेडीएस के एच विश्‍वनाथ का दावा

जेडीएस से इस्‍तीफा देने वालों में एच विश्‍वनाथ भी शामिल हैं। विश्‍वनाथ तीन दिनों पहले तक पार्टी के अध्‍यक्ष थे। सूत्रों के मुताबिक आठ से नौ विधायक और भी हैं जो बहुत जल्‍द इस्‍तीफा दे सकते हैं।

अगर ऐसा होता है तो प्रदेश विधानसभा में कांग्रेस-जेडीएस की संयुक्‍त संख्‍या सौ से भी कम हो सकती है। जबकि भाजपा के पास अकेले दम पर 105 सीटें हैं।

एच विश्‍वनाथ ने कहा है कि कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन (Congress-Jds Alliance ) सरकार में 14 विधायक अब तक सरकार के खिलाफ इस्‍तीफा दे चुके हैं।

karnataka3

सिद्धारमैया को CM बनाने की मांग

शनिवार को इस्‍तीफा देने वाले कांग्रेस के आठ में से तीन विधायक एसटी सोमशेखरर, बैराठी बसवराज, मुनिरत्‍न ने कहा है कि वो चाहते हैं कि कर्नाटक के पूर्व सीएम सिद्धारमैया को मुख्‍यमंत्री बनाया जाए। इन बागी विधायकों के रुख से राज्‍य कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन सरकार की मुश्किलें बढ़ सकती हैं।

कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन के प्रमुख नेता बेंगलूरु से बाहर

शनिवार को जिस समय कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन के 11 विधायक इस्‍तीफा सौंपने के लिए विधानसभा अध्‍यक्ष के दफ्तर पहुंचे उस समय सत्‍ताधारी दल के प्रमुख नेता बेंगलूरु से बाहर थे।

जम्मू-कश्मीर में राष्ट्रपति शासन बढ़ाने का प्रस्ताव पास, आरक्षण संशोधन बिल को भी राज्यसभा की मंजूरी

कर्नाटक कांग्रेस विधानमंडल दल के नेता सिद्धारमैया, सीएम कुमारस्‍वामी, कर्नाटक कांग्रेस के प्रभारी केसी वेणुगोपाल, कार्नाटक कांग्रेस अध्‍यक्ष दिनेश गुंडूराव रविवार को बेंगलूरु पहुंचेंगे।

बताया जा रहा है कि रविवार शाम तक ये नेता सरकार बचाने को लेकर रणनीति तय करेंगे।

कांग्रेस को नहीं हुआ गठबंधन का फायदा

हाल ही में पूर्व मुख्‍यमंत्री और कांग्रेस नेता सिद्धारमैया ने कांग्रेस अध्‍यक्ष राहुल गांधी से मुलाकात के बाद कहा था कि गठबंधन का फायदा नहीं हुआ है। अगर कांग्रेस राज्‍य में अकेले चुनाव लड़ती तो लोकसभा चुनाव मे अच्‍छा प्रदर्शन करती।

Dhirendra
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned