कांग्रेस में कलह: अभी खत्म नहीं हुआ कैप्टन और सिद्धू का किस्सा, सीएम बोले- पहले माफी मांगो, तब होगी कोई बात

मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने यहां तक कह दिया है कि वे हार मानने वाले नहीं हैं। उन्होंने समर्थकों से स्पष्ट शब्दों में कहा, मैं फौजी हूं और मैं कभी युद्ध का मैदान नहीं छोड़ता। इससे कैप्टन ने यह संकेत दे दिया है कि वह लड़ाई अभी खत्म नहीं करेंगे।

 

By: Ashutosh Pathak

Published: 18 Jul 2021, 09:16 AM IST

नई दिल्ली।

पंजाब में कांग्रेस में मची कलह अभी थमती नहीं दिख रही। माना जा रहा था कि शनिवार को कांग्रेस यहां चल रही खींचतान को लेकर कोई अंतिम फैसला लेगी, मगर देरशाम तक ऐसा कुछ नहीं हुआ। हां, नवजोत सिंह सिद्धू और कैप्टन अमरिंदर सिंह अपना-अपना खेमा जरूर मजबूत करते नजर आए। दोनों अपने-अपने धुर विरोधियों के साथ भी गले मिलते दिखाई दिए।

यह भी पढ़ें:-बिहार कांग्रेस के नेताओं को राहुल गांधी ने अचानक मिलने के बुलाया, जानिए प्रदेश अध्यक्ष ने क्या कहा

वहीं, मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने यहां तक कह दिया है कि वे हार मानने वाले नहीं हैं। उन्होंने समर्थकों से स्पष्ट शब्दों में कहा, मैं फौजी हूं और मैं कभी युद्ध का मैदान नहीं छोड़ता। इससे कैप्टन ने यह संकेत दे दिया है कि वह लड़ाई अभी खत्म नहीं करेंगे। शनिवार को ही कैप्टन अमरिंदर सिंह ने अपने विरोधी और पंजाब कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष प्रताप सिंह बाजवा और विधानसभा अध्यक्ष राणा केपी सिंह भी मुलाकात कर यह जता दिया था कि वे इस लड़ाई को किसी भी हद तक ले जाने के लिए तैयार हैं।

कांग्रेस से जुड़े सूत्रों की मानें तो जिस वक्त मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह को पता चला कि नवजोत सिंह सिद्धू उनसे मिलेंगे, उन्होंने चंडीगढ़ का दौरा कर रहे प्रदेश प्रभारी हरीश रावत से बात की। कैप्टन ने कहा कि वह बयान देने के लिए तैयार हैं कि प्रदेश अध्यक्ष पद पर सोनिया गांधी के फैसले को स्वीकार किया जाएगा। सूत्रों की मानें तो कैप्टन ने कहा कि वह सिद्धू से तब तक नहीं मिलेंगे, जब तक पूर्व वह उनके खिलाफ दिए गए बयानों को लेकर सार्वजनिक तौर पर माफी नहीं मांगते।

यह भी पढ़ें:-कांग्रेस में कलह: पशोपेश में हाईकमान, भाजपा से लड़े या अपने नेताओं के झगड़े निपटाएं

उन्होंने आगे कहा, मेरे ऊपर किए गए खुलासे और सार्वजनिक बयानों ने पंजाब में कांग्रेस पार्टी को अपूरणीय क्षति पहुंचाई थी और यह सबसे दुर्भाग्यपूर्ण था, जिस तरह से दिल्ली से पंजाब को नियंत्रित किया जा रहा था। कुछ दिन पहले ही पंजाब के सीएम ने बयान जारी कर कहा था कि उनके रिटायर होने का सवाल ही नहीं है। दरअसल, उनके सख्त रुख ने कांग्रेस पार्टी को भी यह स्पष्ट करने के लिए मजबूर कर दिया है कि आगामी चुनाव उनके नेतृत्व में लड़ा जाएगा।

Ashutosh Pathak
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned