महाराष्ट्र में बढ़ा सियासी घमासान, भाजपा, शिवसेना के बाद अब NCP को सरकार बनाने का न्यौता

  • महाराष्ट्र में विधानसभा चुनाव के बाद सत्ता के लिए शुरू हुआ सियासी संग्राम जारी
  • राज्यपाल कोश्यारी ने NCP को राज्य में अगली सरकार बनाने के लिए आमंत्रित किया
  • NCP असफल हो जाती है, तो राज्य में राष्ट्रपति शासन लागू होने की आंशका प्रबल हो जाएगी

By: Mohit sharma

Updated: 12 Nov 2019, 01:15 PM IST

नई दिल्ली। महाराष्ट्र में विधानसभा चुनाव के बाद सत्ता के लिए शुरू हुआ सियासी संग्राम खत्म होने का नाम नहीं ले रहा है।

राज्यपाल बी.एस. कोश्यारी ने चुनाव में सबसे बड़े दल की रूप में उभरी भारतीय जनता पार्टी व दूसरे नंबर की पार्टी शिवसेना के बाद अब शरद पवार की राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी को सोमवार देर शाम राज्य में अगली सरकार बनाने के लिए आमंत्रित किया है।

राज्यपाल ने एनसीपी को आज यानी मंगलवार रात तक का मौका दिया है। ऐसे में अगर एनसीपी सरकार बनाने में असफल हो जाती है, तो राज्य में राष्ट्रपति शासन लागू होने की आंशका प्रबल हो जाएगी। हालांकि राज्यपाल के पास एनसीपी के बाद कांग्रेस को भी न्यौता देने का विकल्प शेष है।

महाराष्ट्र: सरकार बनाने की ओर शिवसेना—एनसीपी, भाजपा के 7 विधायकों ने पवार को किया फोन

 

गौरतलब है कि राज्यपाल के निमंत्रण के बाद भारतीय जनता पार्टी ने सरकार बनाने से इनकार कर दिया, जबकि शिवसेना को एनसीपी और कांग्रेस का समर्थन प्राप्त नहीं हो सका और पार्टी नेताओं को राजभवन से खाली हाथ निराश वापस लौटना पड़ा।

जानकारी के अनुसार राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी के बुलावे पर शिवसेना विधायक दल के नेता एकनाथ शिंदे और आदित्य ठाकरे राजभवन पहुंचे थे।

शिवसेना नेताओं के उम्मीद थी कि एनसीपी और कांग्रेस समय रहते अपना समर्थन पत्र राजभवन को फैक्स कर देंगे, लेकिन ऐसा नहीं हो सका।

हालांकि राजभवन से बाहर आए आदित्य ठाकरे ने कहा कि राज्यपाल ने उनका सरकार बनाने का दावा अभी खारिज नहीं किया है।

महाराष्ट्र में खत्म हुआ सियासी ड्रामा! शिवसेना-NCP नहीं इस पार्टी के हाथ में आई सत्ता की चाबी

महाराष्ट्र में बनेगी शिवसेना-एनसीपी की सरकार? कांग्रेस के साथ न्यूनतम साझा कार्यक्रम पर चर्चा

यही वजह है कि राज्यपाल ने अब राज्य के तीसरे बड़े दल एनसीपी को सरकार बनाने का न्यौता दिया है। एनसीपी नेताओं ने राज्यपाल से मुलाकात कर अपने सहयोगियों से बातचीत कर फैसला लेने का समय मांगा है।

राजनीतिक जानकारों की मानें तो सरकार बनाने के लिए राज्यपाल की ओर से यह शायद अंतिम प्रयास होगा।

ऐसे में अगर एनसीपी सरकार बनाने में कामयाब नहीं हुई तो राज्य में राष्ट्रपति शासन लगने लगभग तय है।

 

Show More
Mohit sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned