नरवा, गरूवा, घुरवा अउ बारी योजना के तहत अब किसानों को मिलेगा फ्री सिंचाई व्यवस्था

* गौठान और चारागाहों में बिजली (Power connection) का कनेक्शन करने सहित बिल भरने से मिलेगी मुक्ति

* क्रेडा (Kreda) द्वारा पांच साल तक उपकरण का किया जाएगा फ्री मेंटिनेंस

By: sandeep upadhyay

Updated: 07 Jul 2019, 07:55 PM IST

डॉ. संदीप उपाध्याय @ रायपुर। राज्य सरकार मुख्यमंत्री की नरवा गरूवा घुरवा अउ बारी योजना (Narva Garuva Ghurva bari Scheme) को बड़े ही आधुनिक तरीके से क्रियान्वयन कर रही है। इस योजना को और बेहतर बनाने के लिए क्रेडा द्वारा गांव में बनाए जाने वाले गौठान और चारागाहों में 3800 सोलर पंप (Solar Pump) लगाए जाएंगे। इससे गांव के बाहर बने गौठान और चारागाहों तक न तो बिजली का कनेक्शन ले जाने का झंझट होगा और न ही पंप से पानी लेने में किसी प्रकार का विद्युत खर्च आएगा।

Read this: कांग्रेस ने निभाया चुनावी वादा, सरप्लस विद्युत से रौशन हो रहे प्रदेश के कई जिले

क्रेडा (Chhattisgarh Kreda) से मिली जानकारी के मुताबिक छत्तीसगढ़ शासन (Chhattisgarh Government) की महत्वाकांक्षी सुराजी गांव योजना में गरूवा कार्यक्रम के तहत राज्य विभिन्न जिलों में चयनित किए गए गांव में 2000 गोठान और 1800 चारागाह बनाए जाने हैं। इसके तहत सभी गौठानों में पशुओं को पेयजल (Drinking Water) और चारागाहों में सिंचाई (Irrigation) के लिए जल आपूर्ति की व्यवस्था भी करना है।

इन सभी गोठानों और चारागाहों विद्युत पंप (Electric pumps) लगाने से हर माह विद्युत बिल का भार राज्य शासन पर पड़ता। साथ ही बिजली कनेक्शन वा तार पिछाने में लागत आती। इससे कृषि विभाग और क्रेडा ने मिलकर सभी चारागाहों और गोठानों में सोलर पंप (Solar pump) लगाने का निर्णय लिया है। इस पंप के लगने से बिना किसी विद्युत व्यय के पशुओं और चारागाह के लिए पानी आसानी से मिल पाएगा।

Read More: NH में अगर कोई आपको दिखाए रुमाल तो समझ जाइए हो सकता है ये अनहोनी, जानिए पूरा माजरा

पांच साल तक नहीं होगा मेंटिनेंस खर्च
क्रेडा के इंजीनियरों की माने तो उनके द्वारा लगाए जाने वाले सोलर पंप के मेंटिनेंस (Maintenance) की जिम्मेदारी क्रेडा की होती है। क्रेडा (Kreda) के इंजीनियर पांच साल तक सभी पंपों का समय-समय पर बिना किसी लागत के मेंटिनेंस देखेंगे।

दूसरे चरण में और लगाए जाएंगे पंप
शासन की सुराजी गांव योजना के तहत पहले चरण में बनाए जाने वाले गोठान और चारागाहों में 3800 सोलर पंप लगाए जाएंगे। इसके बाद दूसरे चरण में जब और गोठान और चारागाह का निर्माण होगा तो वहां भी इन पंपो को लगाया जाएगा।

वर्जन
राज्य में बनाए गए सभी गोठानों और चारागाहों में 3800 सोलर पंप (Solar pumps) लगाए जाने हैं। इससे जल आपूर्ति करने में किसी प्रकार का विद्युत खर्च नहीं आएगा। साथ ही बिजली कनेक्शन करने व गांव के बाहर तक तार खींचने का खर्च भी बचेगा।
आलोक कटियार, सीईओ, क्रेडा

Chhattisgarh से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter और Instagram पर ..
खबरों पर बने रहने के लिए Download करें Hindi news App .

 

Show More
sandeep upadhyay Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned