पति ने कहा रोज नई डिश बनाकर खिलाओं, पत्नी आ गई तनाव में

मानसिक तनाव के बढ़ रहे मरीज, पति पत्नी के विवाद अधिक, लॉकडाउन के दौरान घर में रहने से बदली मनोदशा, यहां तक की पति की रोज रोज नई डिश खिलाने की मांग से भी महिलाएं तनाव में आ रही है।

By: Ashish Pathak

Published: 08 Aug 2020, 12:38 PM IST

रतलाम. कोरोना वायरस को बढऩे से रोकने के लिए लॉकडाउन लगा। कोरोना वायरस ने सिर्फ आमजन के जीवन में आर्थिक मोर्चे पर असर डाला हो ऐसा नहीं है। इसने घरों में मानसिक तनाव को भी बढ़ाया है। कोरोना वायरस के आने के पहले तक जहां रतलाम में मानसिक तनाव के प्रतिमाह करीब 8 से 10 मामले आते थे वही कोरोना काल में यह बढ़कर यह संख्या प्रतिमाह बढ़कर 20 से 22 मरीजों के हो गए है। इसमे भी पति पत्नी के बीच होने वाले विवाद की संख्या अधिक है। इसमे पति की रोज नई डिश खिलाने की मांग से पत्नी के तनाव में आने का मामला सामने आया है।

BREAKING देशभर में रेलवे 11 हजार पद करेगा समाप्त

केस एक
शहर के मोहन नगर में रहने वाली एक पत्नी अचानक उदास रहने लगी। अकेले कमरे में रहती। परिवार से दूरी बना ली। हमेशा पॉजिटिव सोच वाली महिला के नकारात्मक सोच व अकेले रहने की आदत ने पति को चिंतित किया। इसके बाद जब महिला को पति चिकित्सक के पास लेकर गया। बाद में पता चला कि लॉक डाउन में पति के लगातार घर में रहने व भोजन की फरमाईश ने महिला को तनाव में ला दिया था। इसके बाद महिला की काउंसलिंग चिकित्सक की मदद से की गई। इसके बाद महिला के जीवन में तनाव कम हुआ।

ऑनलाइन शॉपिंगः स्पीड पोस्ट लेकर पहुंचे डाक विभाग के कर्मचारी को बंधक बनाया

केस दो
हमेशा परिवार व दोस्तों के बीच हसमुंख रहने वाले अजंता टाकिज रोड का एक युवक पिछले माह से चुपचुप रहने लगा। अकेले में रहने की आदत हो गई। जब परिवार ने बात की तो सामने आया कि युवक को अपने केरियर की चिंता सताने लगी थी। कोरोना काल में जब वैंकेसी नहीं निकल रही तो केरीेयर किस तरह बनेगा यह सोच 18 वर्ष के युवा पर हावी होने लगी थी। इसके बाद चिकित्सक की मदद ली गई। युवक को समझाया गया कि नौकरी के लिए अनेक अवसर है, लेकिन तनाव में नहीं आना चाहिए।

राम दरबार में आरती के साथ ही आतिशबाजी से गूंजा आसमान

आईएमए अध्यक्ष डॉ. राजेश शर्मा ने दी टिप्स
- माता पिता अपने बच्चों को अकेले नहीं छोड़े व उनसे लगाातर बातचीत, आपस में खेल आदि जारी रखे।
- तनाव जब हावी हो तो सुबह जल्दी उठक र सूर्य की पहली किरण मिले इसका प्रयास करें।
- ऑनलाइन ही दोस्तों से बातचीत का प्रयास करें।
- कम से कम 15 मिनट तेज कदम वॉक करें।
- पानी की मात्रा व पौष्टिक आहार को बढ़ाएं।
- जो पसंद हो या हॉबी हो उस कार्य को करें।

बैठक में नहीं आए, अब कटेगा एक दिन का वेतन

पति ने कहा रोज नई डिश बनाकर खिलाओं, पत्नी आ गई तनाव में

आपस में चर्चा करना सबसे अधिक जरूरी
परिवार हो या एक मरीज, तनाव वहां पनपता है जहां आपस में बातचीत कम होती है। जहां तक हो कोरोना काल में एक समय तो परिवार साथ में चर्चा करते हुए भोजन करें। आपस में बात निरंतर करें। कोरोना काल कें पूर्व के मुकाबले अब तनाव के मरीजों की संख्या में बढ़ी है। इसमे भी पति पत्नी के बीच तनाव वाले अधिक आ रहे है।
- डॉ. निर्मल जैन, मनौचिकित्सक, सिविल अस्पताल रतलाम

बांद्रा देहरादुन ट्रेन के मामले में रेलवे ने लिया बड़ा निर्णय

समाप्त हो गए तिथि के विवाद, अब इस तरह तैयार होंगे हिंदू पंचाग

रेलवे का बड़ा निर्णय, अब गुजरात में नहीं, मध्यप्रदेश में होगा यह टेस्ट

रतलाम में फटा कोरोना बम, 11 नए मरीज आए सामने, भाजपा नेता भी हुए संक्रमित

165 वर्ष बाद आ रहा महायोग

Corona virus
Show More
Ashish Pathak Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned