चुटकी बजाते बढ़ेगी आपकी याददाश्त, एक बार पढ़ते ही याद हो जाएगा सब कुछ, जानिए कैसे

क्रिटिकल थिंकिंग से आपमें किसी भी टॉपिक को गहराई से समझने की क्षमता विकसित होती है। इसी तरह क्रिएटिव थिंकिंग में आप चीजों को खुले दिमाग से विचार करते हैं।

Sunil Sharma

October, 0210:36 AM

लर्निंग स्किल ऐसी स्किल है जिससे न केवल सीखने की क्षमता विकसित होती है बल्कि इससे कॉन्फिडेंस का लेवल भी बढ़ता है। इस स्किल को डवलप करके एकेडमिक लेवल पर आसानी से सफलता पाई जा सकती है। देखा जाए तो लर्निंग स्किल 4C's यानी क्रिटिकल थिंकिंग, क्रिएटिव थिंकिंग, कॉलेबैरेटिंग और कम्यूनिकेशन से मिलकर बनी है। इसलिए इन बातों पर फोकस करके ही लर्निंग स्किल को डवलप किया जा सकता है। दरअसल क्रिटिकल थिंकिंग से आपमें किसी भी टॉपिक को गहराई से समझने की क्षमता विकसित होती है। इसी तरह क्रिएटिव थिंकिंग में आप चीजों को खुले दिमाग से विचार करते हैं। साथ ही सोचने-समझने की क्षमता में तेजी से सुधार आता है। जानिए ऐसी ही कुछ टिप्स के बारे में जो आपके लर्निंग स्किल्स को चमत्कारी ढंग से बढ़ा सकती हैं।

नोट्स बनाएं
लर्निंग स्किल को इंप्रुव करने के लिए क्लास में नोट्स बनाने की आदत बनाएं। नोट्स बनाने के लिए दो कलर के पेन का यूज करें। इससे जब भी अपनी नोटबुक को खोलते हैं तो आपका फोकस सबसे पहले महत्वपूर्ण टॉपिक की ओर जाता है। नोट्स बनाने की आदत से मेमोरी लेवल बढ़ता है। इसका फायदा एग्जाम में भी मिलता है।

ग्रुप में अध्ययन करें
ग्रुप में अध्ययन करने से भी लर्निंग स्किल को बढ़ाया जा सकता है। इसके लिए आप अधिकतम पांच लोगों का ग्रुप बनाएं। साथ ही नियमित अध्ययन के लिए समय और टॉपिक तय करें। इस तरह स्टडी करने से डिस्कशन के दौरान टॉपिक के कंसेप्ट्स तो क्लीयर होते ही हैं साथ ही अलग-अलग नजरिए के कारण लर्निंग स्किल भी बढ़ती है।

मेमोरी को डवलप करें
लर्निंग स्किल को विकसित करने के लिए मेमोरी को तेज करना भी जरूरी है। इसके लिए कई तरह की तकनीक का उपयोग किया जा सकता है। कठिन चीजों को याद रखने के लिए शॉर्टकट तरीका निकालें। बड़े शब्दों को याद करने के लिए उसे छोटे-छोटे टुकड़ों में तोड़ें। साथ ही बार-बार दोहराने की आदत भी विकसित करें।

पहले से तैयारी रखें
क्लास में या ग्रुप में आप जिस भी टॉपिक का अध्ययन करेंगे, उसे पहले से पढ़कर रखें। यदि आप टॉपिक को पहले से पढ़ते हैं तो आपको समझने में आसानी रहेगी। साथ ही आपके कंसेप्ट्स भी क्लीयर हो जाएंगे। इससे आपकी लर्निंग स्किल बढ़ेगी।

ब्रेक भी लेना है जरूरी
कभी भी लंबे समय तक लगातार अध्ययन नहीं करें क्योंकि इससे मस्तिष्क में थकान महसूस होने लगती है। ऐसे में कुछ भी समझना आसान नहीं होता है। इसलिए पढ़ाई के बीच में 5 से 10 मिनट तक का रेस्ट करना जरूरी है। इससे दिमाग भी रिफ्रेश हो जाता है।

मल्टीटॉस्क न बनें
यदि आपको अपनी लर्निंग स्किल को डवलप करना है तो कभी भी मल्टीटॉस्कर न बनें। आप जिस समय पढ़ाई कर रहे हैं, उस समय अन्य कोई काम नहीं करें क्योंकि जब आपका ध्यान दो-तीन जगह पर होता है तो आप चीजों को ठीक से समझ नहीं पाते हैं। इससे आपकी लर्निंग स्किल में भी गिरावट आने लगती है।

खुद का लें टेस्ट
लर्निंग स्किल को डवलप करने के लिए आप स्वयं के लिए प्रैक्टिस सेट बनाएं। इसके लिए आप जब भी टॉपिक पढ़े, उसके बाद उससे संबंधित प्रश्न बनाएं। इन प्रश्नों को कागज में अलग से लिखें और टॉपिक खत्म होने के बाद इन प्रश्नों का उत्तर लिखें। इससे अध्ययन में संबंधित सभी बातें फिर से स्मरण हो जाती हैं। साथ ही लर्निंग स्किल भी बढ़ती है।

सुनील शर्मा Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned