scriptVery auspicious yoga being made on Hanuman Janmotsav 2022 | Hanuman Janmotsav 2022- हनुमान जन्मोत्सव पर बन रहे बेहद शुभ योग, जानें राशि अनुसार बजरंगबली का भोग व पूजा का शुभ मुहूर्त | Patrika News

Hanuman Janmotsav 2022- हनुमान जन्मोत्सव पर बन रहे बेहद शुभ योग, जानें राशि अनुसार बजरंगबली का भोग व पूजा का शुभ मुहूर्त

Shri Hanuman birth anniversary 2022 चैत्र मास के शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा तिथि को हुआ था चिरंजीवी श्रीराम भक्त हनुमान का जन्म

Updated: April 16, 2022 09:57:44 am

Chaitra Purnima 2022- Hanuman Janmotsav 2022: साल 2022 में हनुमान जन्मोत्सव वैदिक पंचांग के अनुसार चैत्र पूर्णिमा शनिवार, 16 अप्रैल 2022 को मनाई जाएगी। वहीं खास बात यह है कि इस दिन शनिवार पड़ने के कारण इसका काफी महत्व और बढ़ रहा है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, मंगलवार और शनिवार का दिन श्रीराम भक्त हनुमान जी को समर्पित माना गया है।
hanuman janmotsav 2022 / Shri Hanuman birth anniversary 2022
hanuman janmotsav 2022 / Shri Hanuman birth anniversary 2022
हनुमान जयंती का पावन पर्व हर साल चैत्र मास के शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा तिथि को मनाया जाता है। माना जाता है कि इस दिन हनुमान जी का जन्म हुआ था। इस दिन बजरंगबली की विधि-विधान के साथ पूजा करने से शनि दोष से मुक्ति मिलने की मान्यता है। हनुमान जी अत्यंत दयालु और जल्द प्रसन्न होने वाले कलयुग के देव माने जाते हैं। मान्यता के अनुसार इनकी पूजा करने के समस्त प्रकार की मनोकामनाएं पूरी होती है।
हनुमान जी के प्रमुख मंत्र

दुर्घटना के भय से छुटकारे के लिए : हनुमान जी के द्वादशाक्षरी मंत्र
हं हनुमते रूद्रात्मकाय हुं फट्।

हनुमान जी के चौदह अक्षरों का विशेष मंत्र
ऊँ नमो हरि मर्कट मर्कटाय स्वाहा।
हनुमान जी का दशाक्षर मंत्र
हं पवन नन्दनाय स्वाहा।

वहीं हनुमान जयंती के संबंध में जयंती शब्द को लेकर विरोध करने वाले पंडित सुनील शर्मा का कहना है कि यहां हनुमान जयंती शब्द अनुचित है। क्योंकि सामान्यत: जयंती शब्द का उपयोग तब किया जाता है, जब कोई व्यक्ति अपनी आयु पूर्ण करने के बाद मृत्यु को प्राप्त हो जाता हैं। उनका कहना है कि चूंकि हनुमान जी चिरंजीवी हैं यानि अब तक जीवित हैं, ऐसे में उनके जन्मदिवस को जयंती न कह कर जन्मोत्सव शब्द का प्रयोग किया जाना चाहिए।

हनुमान मंत्र:
नकारात्मकता से छुटकारे के लिए
ऊँ नमो भगवते पंचवदनाय पश्चिमुखाय गरुडाननाय मं मं मं मं मं सकल विषहराय स्वाहा।।

धन-दौलत में वृद्धि के लिए
ऊँ नमो भगवते पंचवदनाय उत्तरमुखाय आदिवराहाय लं लं लं लं लं सकल संपत्कराय स्वाहा।।

पंडित शर्मा के अनुसार चैत्र माह के शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा तिथि को ही चैत्र पूर्णिमा कहा जाता है। वहीं चैत्र पूर्णिमा का पवनपुत्र हनुमान जी से भी एक विशेष संबंध है। मान्यता है कि इस तिथि यानि पूर्णिमा तिथि को ही संकटमोचन हनुमान जी का जन्म हुआ था। इसी कारण हर साल चैत्र पूर्णिमा को हनुमान जयंती (जन्मोत्सव) या महावीर जयंती (जन्मोत्सव) मनाई जाती है।

वहीं हिंदुओं में सभी पूर्णिमा अति विशिष्ट होने के चलते चैत्र पूर्णिमा के दिन भी नदियों में स्नान करने और दान करने की परंपरा है। ऐसे में चैत्र पूर्णिमा के दिन भक्त माता लक्ष्मी की पूजा के अतिरिक्त भगवान सत्यनारायण की व्रत कथा का आयोजन करते है। तो आइये जानते हैं इस साल यानि 2022 में कब है चैत्र पूर्णिमा की तिथि और पूजा मुहूर्त-

चैत्र पूर्णिमा 2022 तिथि
पं. शर्मा का कहना है कि हिंदू पंचांग के अनुसार, चैत्र माह के शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा तिथि की शुरुआत शनिवार, 16 अप्रैल 02:25 AM को होगी। वहीं इस तिथि का समापन रविवार, 17 अप्रैल को सुबह 12 बजकर 24 मिनट पर होगा। उदया तिथि यानि सूर्योदय के समय पूर्णिमा तिथि 16 अप्रैल को मिल रहा है, ऐसे में उदया तिथि में व्रत रखने का नियम होने के कारण हनुमान जन्मोत्सव 16 अप्रैल को मनाया जाएगा, साथ ही चैत्र पूर्णिमा भी रविवार,16 अप्रैल को ही मानी जाएगी।

ये रहेंगे शुभ योग-
हनुमान जन्मोत्सव के दिन हिंदू पंचांग के अनुसार रवि व हर्षण योग रहेगा। इसके अलावा इस दिन हस्त व चित्रा नक्षत्र भी रहेंगे। दरअसल शनिवार, 16 अप्रैल को हस्त नक्षत्र 08:40 AM तक रहेगा, इसके बाद से चित्रा नक्षत्र आरंभ होगा। इस दिन इसके अलावा रवि योग 5:55 AM से शुरु हो रहा है जिसका समापन 08:40 बजे होगा। जबकि हर्षण योग सुबह 02 बजकर 45 मिनट से अप्रैल 17 तक रहेगा।

ऐसे में सुबह से ही भक्त पवित्र नदियों में पूर्णिमा का स्नान कर सकते हैं और दान दे सकते हैं। वहीं व्रत रखने वाले भी शनिवार 16 अप्रैल को पूर्णिमा व्रत रखेंगे।

हर्षण व रवि योग का महत्व
हर्ष का अर्थ खुशी, प्रसन्नता माना जाता है। मान्यता के अनुसार इस योग में किए जाने वाले कार्यों में सफलता मिलती है। वहीं ज्योतिष शास्त्र में रवि योग को भी शुभ योगों में माना जाता है। माना जाता है कि इस योग में किए गए कार्यों का शुभ फल प्राप्त होता है।
चैत्र पूर्णिमा का पंचांग
सूर्योदय: सुबह 05:55:12 बजे
सूर्यास्त: शाम 06:47:48 बजे
चंद्रोदय: शाम 06:27:24 बजे
चंद्रास्त: चंद्रास्त नहीं
राहुकाल: सुबह 09:08 बजे से सुबह 10:45 बजे तक
भद्रा: सुबह 05:55 बजे से दोपहर 01:28 बजे तक

हनुमान जन्मोत्सव के दिन ऐसे करें हनुमान जी की पूजा
चैत्र पूर्णिमा को हनुमान जन्मोत्सव के दिन सुबह स्नान और दान के बाद श्रीराम भक्त हनुमान की पूजा करनी चाहिए। इस पूजा के दौरान श्री हनुमानजी को लाल लंगोट, सिंदूर, बूंदी के लड्डू, चमेली का फूल या तेल अवश्य चढ़ाना चाहिए। जिसके पश्चात हनुमान चालीसा का पाठ करना चाहिए। वहीं इस पूरे दिन हनुमान जी के प्रभावी मंत्रों का जाप करना विशेष माना जाता है।
अपनी राशि के अनुसार लगाएं श्री हनुमानजी को भोग :

मेष- इस दिन श्री हनुमानजी को बेसन के लड्डू का भोग लगाएं।

वृषभ- इस दिन हनुमान जी को तुलसी के बीज का भोग लगाएं।
मिथुन- हनुमानजी को तुलसी दल अर्पित करें।

कर्क- श्रीराम भक्त श्री हनुमान को इस दिन घी में बने बेसन के हलवे का भोग लगाएं।

सिंह- श्री हनुमानजी को इस दिन देशी घी में बनी जलेबी का भोग लगाएं।
कन्या- श्री हनुमानजी की प्रतिमा पर इस दिन चांदी का अर्क लगाएं।

तुला- श्रीहनुमान जी को मोतीचूर के लड्डू का भोग लगाएं।

धनु- श्री हनुमानजी को भोग में मोतीचूर के लड्डू के साथ तुलसी दल मिलाकर लगाएं।
मकर- श्रीहनुमान को मोतीचूर के लड्डू का भोग लगाएं।

कुंभ- श्री बजरंगबली की मूर्ति पर सिंदूर का लेप लगाएं।

मीन- हनुमानजी को लौंग चढ़ाएं।

Must Read-

1- God Special- हनुमान जी का आशीर्वाद पाने के ये हैं खास उपाय, सफलता चूमेगी आपके कदम

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

यहाँ बचपन से बच्ची को पाल-पोसकर बड़ा करता है पिता, जैसे हुई जवान बन जाता है पतियूपी में घर बनवाना हुआ आसान, सस्ती हुई सीमेंट, स्टील के दाम भी धड़ामName Astrology: पिता के लिए भाग्यशाली होती हैं इन नाम की लड़कियां, कहलाती हैं 'पापा की परी'इन 4 राशियों के लड़के अपनी लाइफ पार्टनर को रखते हैं बेहद खुश, Best Husband होते हैं साबितजून में इन 4 राशि वालों के करियर को मिलेगी नई दिशा, प्रमोशन और तरक्की के जबरदस्त आसारमस्तमौला होते हैं इन 4 बर्थ डेट वाले लोग, खुलकर जीते हैं अपनी जिंदगी, धन की नहीं होती कमी1119 किलोमीटर लंबी 13 सड़कों पर पर्सनल कारों का नहीं लगेगा टोल टैक्ससंयुक्त राष्ट्र की चेतावनी: दुनिया के पास बचा सिर्फ 70 दिन का गेहूं, भारत पर दुनिया की नजर

बड़ी खबरें

आंध्र प्रदेश में जिले का नाम बदलने पर हिंसा, मंत्री का घर जलाया, कई घायलपंजाब के पूर्व स्वास्थ्य मंत्री के OSD प्रदीप कुमार भी हुए गिरफ्तार, 27 मई तक पुलिस रिमांड में विजय सिंगलारिलीज से पहले 1 जून को गृहमंत्री अमित शाह देखेंगे अक्षय कुमार की 'पृथ्वीराज', जानिए किस वजह से रखी जा रहीं स्पेशल स्क्रीनिंगGujrat कांग्रेस के वरिष्ठ नेता का विवादित बयान, बोले- मंदिर की ईंटों पर कुत्ते करते हैं पेशाबIPL 2022, Qualifier 1 RR vs GT: मिलर के तूफान में उड़ा राजस्थान, गुजरात ने पहले ही सीजन में फाइनल में बनाई जगहRajya Sabha Election 2022: राजस्थान से मुस्लिम-आदिवासी नेता को उतार सकती है कांग्रेस'तुम्हारे कदम से मेरी आँखों में आँसू आ गए', सिंगला के खिलाफ भगवंत मान के एक्शन पर बोले केजरीवालसमलैंगिकता पर बोले CM नीतीश कुमार- 'लड़का-लड़का शादी कर लेंगे तो कोई पैदा कैसे होगा'
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.