नवरात्र से पहले पंचायत चुनाव ने बढ़ा दिए फलों के दाम, 150 रुपये प्रति किलो तक पहुंचा सेब

Highlights

  • चुनाव शुरू होते ही मंडी में बढ़ी फलों की डिमांड
  • फलों के दाम 20 रुपये प्रति किलो तक बढ़ें

By: shivmani tyagi

Updated: 06 Apr 2021, 05:55 PM IST

पत्रिका न्यूज नेटवर्क, सहारनपुर. इस बार नवरात्र ( Navratri ) से पहले ही फलों के दाम बढ़ गए हैं। इसके पीछे पंचायत चुनाव ( panchayat elections ) काे कारण माना जा रहा है। एक सप्ताह में फलों की कीमत ( prices of fruits ) में दस रुपये से 20 रुपये प्रति किलो की तक की बढ़ोत्तरी हुई है। ऐसे में अब देखना यह हाेगा कि नवरात्र में फलों के दम कहां तक पहुंचते हैं।

यह भी पढ़ें: भाभी की मदद से युवक ने घर में घुसकर किशोरी से किया रेप, चीख सुनकर दौड़े परिजन तो तमंचा दिखाते हुए भागा आरोपी

( navratri news ) काेर्ट रोड पर लंबे समय से फल की दुकान चलाने वाले फल व्यापारी गुड्डू के अऩुसार पंचायत चुनाव का फलाें की कीमतों पर काफी असर पड़ा है। मंडी में जाे सेब 100 रुपये प्रति किलाे की कीमत पर आसानी से मिल रहा था उसकी कीमतें अब 150 रुपये प्रति किलो तक चली गई है जबकि बाजार में सेब अब 200 रुपये तक भी बिक रहा है। आम आदमी का फल केला भी महंगा हाे गया है। केले के दाम 40 से 60 रुपये दर्जन हाे गए हैं। आम आदमी को अच्छा केला खरीदने के लिए 50 से 60 रुपये दर्जन के अऩुसार अनपी जेब ढीली करनी पड़ रही है।

यह भी पढ़ें: रोपड़ जेल से संगीनों के साए में 26 माह बाद यूपी के बांदा जेल में लौटेगा बाहुबली मुख्तार अंसारी

( Vegetables and Fruits Price Increase ) इसी तरह से अंगूर के दाम भी 80 से 100 रुपये प्रति किलो तक पहुंच गए हैं। 40 से 50 रुपये में मिलने वाला दाब ( नारियल) भी अब 55 से 60 रुपये तक बिक रहा है। सबसे अधिक महंगाई किन्नू पर आई है। किन्नू जाे एक सप्ताह पहले तक 30 से 40 रुपये किलो आसानी से मिल रहा था अब मंडी इसके रेट 60 से 70 रुपये तक पहुंच गए हैं। आपकाें यह जानकर हैरानी हाेगी कि आम आदमी तक पहुंचते-पहुंचते किन्नू के दाम 80 रुपये प्रति किलो पहुंच गए हैं। इसी तरह से अनार के दाम 150 से 180 रुपये तक किलाे हैं ताे चीकू भी 50 से 80 रुपये प्रति किलो के हिसाब से बिक रहा है।

यह भी पढ़ें: पंचायत चुनाव के प्रचार में आई सख्ती, राजधानी में लागू हुई धारा 144, प्रचार में शामिल होंगे केवल पांच लोग

फलों के दाम में आई अचानक वृद्धि के पीछे पंचायत चुनाव काे वजह माना जा रहा है। दरअसल इस बार शराब और अन्य पदार्थों पर सख्ती के बाद वाेटरों काे लुभाने के लिए प्रत्याशी फल भी खरीद रहे हैं। इसलिए माना जा रहा है कि पंचायत चुनाव की वजह से फलों के दाम में एकाएक वृद्धि हुई है। फलों के दाम में हुई वृद्धि के पीछे अचानक माैसम का बदलाव और बढ़ती गर्मी काे भी माना जा रहा है। इस बार तरबूज और खरबूजों के भी बाजार में आम आदमी काे चिढ़ा रहै हैं। तरबूज की कीमत 50 रुपये किलों तक हाे गई है।

Show More
shivmani tyagi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned