दारुल उलूम वक्फ देवबंद ने लिया नए शिक्षण सत्र में दाखिलाें को लेकर बड़ा फैसला

दारूल उलूम वक्फ के मोहतमिम मौलाना सूफियान कासमी ने बयान जारी कर कहा कि कोरोना महामारी लगातार बढ़ रही है। इसी को ध्यान मे रखते हुए संस्थान में नये शिक्षण सत्र में किसी भी छात्र का प्रवेश नहीं लिया जाएगा।

By: lokesh verma

Published: 03 Jun 2020, 09:55 AM IST

देवबंद. कोरोना वायरस की महामारी के चलते दारुल उलूम वक्फ देवबंद ने बड़ा फैसला लिया है। दारुल उलूम वक्फ ने कहा है कि इस वर्ष कोई भी छात्र प्रवेश के लिए नहीं पहुंचे। क्योंकि संस्थान में इस वर्ष किसी छात्र को प्रवेश नहीं दिया जाएगा। इसके साथ ही कहा है कि पिछले वर्ष के छात्रों को अर्द्ध वार्षिक परीक्षा के आधार पर अगली कक्षा मे भेजा जाएगा।

यह भी पढ़ें- world cycle day : साइकल पर मेरठ से रुड़की के सफर पर निकले डॉक्टर का पुलिस अफसरों ने किया स्वागत

कोरोना महामारी के चलते इस्लामिक शिक्षण संस्थान दारुल उलूम वक्फ में इस बार नए दाखिले नहीं होंगे। संस्थान ने सभी छात्रों से ये अपील की है कि कोई भी छात्र नए प्रवेश के लिए नहीं आए। दारूल उलूम वक्फ के मोहतमिम मौलाना सूफियान कासमी ने बयान जारी कर कहा कि सरकार की तरफ से दी जा रही राहत के बाद अब उम्मीद जगी है कि जल्द ही मदरसों को खोलने की अनुमति दे दी जाएगी।

उन्होंने कहा कि कोरोना महामारी लगातार बढ़ रही है। इसी को ध्यान में रखते हुए संस्थान ने यह निर्णय लिया है कि नये शिक्षण सत्र मे किसी भी छात्र का प्रवेश नहीं लिया जायेगा। इसलिए कोई भी छात्र संस्थान मे प्रवेश के लिए देवबंद न पहुंचे। उन्होने बताया की अर्द्धवार्षिक परिक्षा के आधार पर ही छात्रों को अगली कक्षा मे प्रवेश दिया जाएगा। अगर हालात सही रहे तो अगस्त तक शिक्षा सत्र शुरू किया जाएगा।

यह भी पढ़ें- Greater Noida: 11 दिन के नन्हे मेहमान ने दी कोरोना को मात, लोगाें ने तालियां बजाकर किया स्वागत

Show More
lokesh verma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned