बाजार खुल गए हैं, अब इबादतगाहों को भी खाेलने की अनुमति दे सरकार: दारुल उलूम

Highlights

लॉक डाउन में छूट मिलने के बाद, देवबंद दारुल उलूम के माेहतमिम ने सरकार से कहा है कि अब इबादतगाहों काे भी खाेले जाने की अऩुमति दी जाए

By: shivmani tyagi

Updated: 30 May 2020, 10:05 PM IST

देवबंद। लॉक डाउन ( lockdown ) में छूट दिए जाने के बाद दारुल उलूम के मोहतमिम मुफ्ती अबुल कासिम नोमानी ने प्रशासन से धार्मिक स्थलों ( इबादतगाहों ) को भी सोशल डिस्टेंसिंग की शर्तों के साथ खोले जाने की अनुमति दिए जाने की मांग की है।

यह भी पढ़ें: पुलिस मान रही थी प्यार में विफल युगल ने कर ली आत्महत्या, SSP ने जांच कराई तो निकला डबल मर्डर, हुआ चाैंकाने वाला खुलासा

Deoband Darul Uloom के मोहतमिम ने शासन-प्रशासन से मांग करते हुए कहा कि जब लॉक डाउन में विभिन्न शर्तो के अनुसार बाजार खोले जा सकते हैं, विवाह समारोह हो सकते हैं तो सभी मजहबों की इबादतगाहों को भी खोला जा सकता है। मस्जिदों मेंं कोई भी नमाज अदा करने में मात्र चंद मिनट लगते हैं इसलिए सोशल डिसटेंसिंग के साथ मस्जिदों और दूसरी इबादतगाहों को भी अब खोलने की अनुमति दी जानी चाहिए।

यह भी पढ़ें: कोरोना संक्रमण के बीच अच्छी खबर : एक जून से खुलेगी सब्जी और फल मंडी

उन्हाेंने कहा है कि, पिछले दो माह से अधिक समय से सभी मजहबों के देशवासी अपनी-अपनी इबादतगाहो में नहीं जा पा रहे। इस दौरान लोगों ने शब-ए-बरात, माह-ए-रमजान और ईद की नमाज समेत सभी इबदतें घरों में रहकर कर प्रशासन के आदेशों का पालन किया है। इसलिए अब प्रशासन बाजार खोलने की अनुमति दे रहा तो सभी मजहबों के लोगों को सोशल डिसटेंसिंग के साथ उनकी इबादतगाहों में जाने की अनुमति भी दें।

shivmani tyagi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned