चित्रकूट में ऐतिहासिक दीपदान मेला, श्रद्धालुओं ने लगाई आस्था की डुबकी,ये रहा मुख्य आकर्षण का केन्द्र

-चित्रकूट में ऐतिहासिक दीपदान मेले का आयोजन
-दीपदान मेले के अंतिम दिन भगवान श्री कृष्ण की हो रही विशेष पूजा
-सुबह से ही चित्रकूट में लग गया श्रद्धालुओं का तांता
-रात में श्रद्धालुओं ने कामदगिरि पर्वत की परिक्रमा कर किया दीपदान

By: Faiz

Published: 15 Nov 2020, 05:38 PM IST

सतना/ चित्रकूट। मध्य प्रदेश के सतना जिले के चित्रकूट में हर साल की तरह इस साल भी दीपावली के अगले दिन दीपदान मेले के अंतिम दिन विशेष आयोजन किये गए। इस दौरान यहां ऐतिहासिक ग-धा मेले का आयोजन हुआ। इसके अलावा मेले के अंतिम दिन चित्रकूट में भगवान श्री कृष्ण के उपासक मौन चराने वाले श्रद्धालुओं ने विशेष पूजा अर्चना की। इसके अलावा, मयूर नृत्य और लठमार दिवाली खेल का प्रदर्शन भी किया गया। रात को कामदगिरि भगवान की पूजा कर कामदगिरि पर्वत की परिक्रमा कर उन्हें दीपदान किया गया। इस दौरान लोगों ने नौतियां भी बांधी।

 

देखें खबर से संबंदित वीडियो...।

चित्रकूट में ऐतिहासिक ग-धा मेले का आयोजन

news

ऐतिहासिक ग-धा मेले में कई राज्यों के व्यापारी चित्रकूट मेले में पहुंचे। यहां 5 हजार से लेकर से 50 हजार रुपये तक के गधे की बिक्री हुई। हालांकि, कोरोना संकट के चलते ये बाजार पिछले वर्षों के मुकाबले काफी मंदा रहा और इस बार जानवर भी काफी कम ही आए। मेला 3 दिवलीय होता है, जिसका समापन सोमवार को होगा। बता दें कि, ग-धा मेला लगवाने की शुरुआत मुगल शासक औरंगजेब ने चित्रकूट में की थी। 500 से अधिक वर्षों से चित्रकूट मंदाकिनी किनारे लगता आ रहा है ये ग-धा बाजार मेला, दूर-दूर से लोग गधे की खरीदारीऔर बेचने के लिए चित्रकूट पहुंचे हैं।


चित्रकूट दीपदान मेला

news

मेले के अंतिम दिन चित्रकूट में भगवान श्री कृष्ण के उपासक मौन चराने वाले श्रद्धालुओं कर रहे विशेष पूजा अर्चना, विशेष दान दक्षिणा व गौ दान कर रहे मौनिहे, दिवारी नृत्य का कर रहे प्रदर्शन, मोर पंख लिए मंनमोहक नृत्य का प्रदर्शन, लठमार मार दीवारी की प्रस्तुति, चित्रकूट में दिवारी नृत्य की गूंज, गोवर्धन पूजा शुरु हुई, रंग बिरंगी पोशाकों से दिवारी नृत्य और मौन चढ़ाने का सिलसिला श्रद्धालुओं द्वारा किया गया।


विधायक ने किया उत्साह वर्धन

news

क्षेत्र के विधायक चित्रकूट नीलांशु चतुर्वेदी के निवास राजमहल में परम्परा गत तरीके से दिवारी नृत्य करने विधानसभा के कई गांव के कलाकार पहुंचे। इस दौरान, मयूर नृत्य और लठमार दिवाली खेल का प्रदर्शन किया गया। दिवारी का प्रदर्शन करने यहां हर साल आसपास के कई गांवों के लोग पहुंचते हैं। इस दौरान चित्रकूट विधायक नीलांशु चतुर्वेदी ने प्रतिभागियों का उत्साह वर्धन किया।


सुबह से ही चित्रकूट में लग गया श्रद्धालुओं का तांता

news

धर्म नगरी चित्रकूट में रविवार सुबह से ही श्रद्धालुओं की चित्रकूट में भारी भीड़ मंदाकिनी में स्नान कर कामदगिरि की परिक्रमा करती नजर आई। कामत की प्राचीन मुखारविंद में सुबह 5 बजे श्रद्धालु आरती और दर्शन करते हुए देखे गए। इसके बाद श्रद्धालुओं ने रामघाट और भरतघाट में आस्था की डुबकी भी लगाई। सती अनुसुइया मंदिर में भी श्रद्धालुओं की भीड़ नजर आई। इससे पहले रात को कामदगिरि भगवान की पूजा कर कामदगिरि पर्वत की परिक्रमा कर उन्हें दीपदान किया गया। इस दौरान लोगों ने नौतियां भी बांधी।

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned