कैलिफोर्निया व आईआईएसटी की साझेदारी में बना उपग्रह होगा लांच

कैलिफोर्निया व आईआईएसटी की साझेदारी में बना उपग्रह होगा लांच

Nitin Sharma | Publish: Jan, 23 2019 01:29:15 PM (IST) | Updated: Jan, 23 2019 01:29:16 PM (IST) विज्ञान और तकनीक

यह उपग्रह पेलोड छात्रों और स्पेसकिड्ज इंडिया ने मिलकर तैयार किया है।

नई दिल्ली। इंडियन स्पेस एजेंसी (इसरो) ने अलग-अलग विश्वविद्यालयों के छात्रों द्वारा बनाए गए कई उपग्रहों को लांच किया है। इसरो इस बार इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ स्पेस साइंस एंड टेक्नोलॉजी यानी कि (आईआईएसटी) और कैलिफोर्निया इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी के छात्रों द्वारा संयुक्त रूप से बनाए गए उपग्रह का प्रक्षेपण करने वाला है। एक न्यूज़ एजेंसी के मुताबिक "कैलिफोर्निया इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी और आईआईएसटी ने साथ मिलकर यह उपग्रह बनाया है।

पृथ्वी के 29 साल के बराबर होता है यहां पर 1 साल, जबकि साढ़े 10 घंटे का ही होता है दिन, जाने कैसे हुआ खुलासा
इसरो द्वारा यह उपग्रह 24 जनवरी को भारतीय पीएसएलवी (पोलर सैटेलाइट लांच व्हिकल) के जरिए कलामसत नामक कक्षा में पहुंचाया जाएगा। यह उपग्रह पेलोड छात्रों और स्पेसकिड्ज इंडिया ने मिलकर तैयार किया है।
एक तरफ जहां (इसरो) लगातार भारतीय विश्वविद्यालयों और शिक्षा संस्थानों के द्वारा बनाए जा रहे उपग्रहों को अंतरिक्ष में स्थापित कर रहा था, वहीं आईआईएसटी द्वारा एक भी उपग्रह न बनाए जाने से लोग हैरान थे जिसके बाद भारतीय अंतरिक्ष विभाग के अंतर्गत आने वाली स्वायत्त संस्था आईआईएसटी ने इस उपग्रह को कैलिफोर्निया के साथ मिलकर बनाया है। आईआईएसटी को साल 2007 में विश्वविद्यालय का दर्जा प्राप्त हुआ था। छात्रों द्वारा बनाया गया यह उपग्रह स्पेस टेलिस्कोप के लिए टेस्ट बेड होगा और इसे (आरेस्ट) ऑटोनॉमस असेंबली ऑफ ए रिकंफिबरेबल स्पेस टेलिस्कोप के नाम से जाना जाएगा।

चंद्र मिशन की सफलता के बाद चीन बना रहा मंगल फतह करने की योजना, अगले साल शुरू हो सकता है काम

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned